Headline • मैं 25 साल से देख रहा हूं, नेशनल अवॉर्ड कोई भी जीते उस पर हमेशा चर्चा होती है: अक्षय़ कुमार • UP में बनेगा एंटी भू माफिया टास्क फोर्स, 15 मई को विशेष सत्र, 15 सरकारी छुट्टियां खत्म• चैंपियंस ट्रॉफी के लिए इंग्लैंड की टीम का हुआ ऐलान, यह तेज गेंदबाज हुआ बाहर • हमारी सरकार में आजम खान को कोई खतरा नहीं है, वह सुरक्षित रहेंगे: स्वामी प्रसाद मौर्य• रिपोर्टर के सवाल पर भड़क गए अखिलेश, गुस्से में कहा- ''तुम भगवा पार्टी के सदस्य हो''• अवैध वसूली पर बोले गाजियाबाद SSP- ''पुलिस हो रही बदनाम, नगर निगम के ठेकेदार कर रहे हैं वसूली''• अल्मोड़ा में माओवादियों ने लगाया पोस्टर, उत्तराखंड में बढ़ रहा है माओवाद?• "मस्जिदों पर लगे लाउडस्पीकरों को उतारा जाना चाहिए": साध्वी प्राची • नक्सलियों को करारा जवाब देते शहीद हुए थे UP के 3 लाल, गोली खाकर भी नहीं हटे थे पीछे• बेखौफ लूटेरे: पहले घर में बैठकर पी शराब, फिर लूट ले गए लाखों का माल • 37 साल की नौकरी के बाद ऐसा है UP डीजीपी का घर, पहली बार में ही क्रैक किया था IPS का एग्जाम• रेप के आरोपी मंत्री गायत्री प्रजापति को पॉस्को कोर्ट से मिली जमानत • मालेगांव ब्लास्ट केस: साध्वी प्रज्ञा को बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी जमानत• GF से फिजीकल रिलेशन बनाता था पति, विरोध करने पर 3 दिन तक कैद कर दिया तलाक• सुकमा नक्सल अटैक: गृहमंत्री राजनाथ सिंह और CM ने दी श्रद्धांजलि• सुकमा नक्सल अटैक: ये जवान हुए हैं शहीद, पूरा देश दे रहा है श्रद्धांजलि• 'अपने बेटे पर फक्र है मुझे, मेरे 'शेर' ने पांच नक्सलियों को मार गिराया है'• तीन तलाक पीड़िता की मांग- मोदी जी या तो न्याय दीजिए, नहीं तो दीजिए इच्छा मृत्यु • सुकमा नक्सल अटैक: 3-4 नक्सिलयों के सीने में गोली मारकर घायल हुआ शेर मोहम्मद • उन्नाव प्रसव मामले में स्वास्थ मंत्री ने नर्स और डॉक्टर को किया सस्पेंड• गौरक्षा, तीन तलाक की बहस छोड़िए, नवाजुद्दीन का यह वीडियो देखिए, दिल को सुकून मिलेगा• योगी सरकार की बड़ी सौगात, कानपुर होगा कटौती मुक्त क्षेत्र• सुकमा में नक्सलियों के साथ मुठभेंड़ में 24 जवान हुए शहीद, CM रमन सिंह ने बुलाई अपात बैठक• हैप्पी बर्थ डे सचिन: फोटो शेयर कर बोले सहवाग- भगवान जी सो रहे हैं• 'जपानी गुड़िया' के साथ मेरठ में हुई लूट, कार्रवाई की जगह सेल्फी लेती रही पुलिस 

सियासत के गलियारों में कहा जाता है कि यहां कुछ भी स्थायी नहीं होता, ना दोस्ती और ना ही दुश्मनी। यहां तो मुद्दे भी स्थायी नहीं होते, वक्त के साथ उन्हें गढ़ा जाता है और जरूरत के मुताबिक फिर निकाल लिया जाता है। इसकी ताज़ा मिसाल समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के दरमियान बनी नई दोस्ती है। भले ही ये दोनों पार्टियां अब एक दूसरे के साथ हैं, लेकिन इन दोनों के बीच खटास का भी एक लंबा इतिहास रहा है।

कई बार मुलायम ने कांग्रेस का हाथ थामा, तो कई बार उसे छोड़ भी दिया। दोनों की इस दोस्ती का आगाज 1990 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी से हुआ। उस वक्त मुलायम सिंह यादव मुसलमानों के लिए कांग्रेस के समर्थन से एक अभियान चला रहे थे। कयास लगाए गए थे कि समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का गठबंधन होगा, लेकिन अपने धोबी पछाड़ के लिए मशहूर मुलायम ने कांग्रेस को पटखनी दे दी।

कहा जाता है कि मुलायम ने सुबह 4.30 बजे तत्कालीन राज्यपाल सत्य नारायण रेड्डी को फोन कर विधानसभा भंग करने के लिए कहा था। कांग्रेस और सपा के बीच कभी खुशी और कभी गम का माहौल तभी से चला आ रहा है। कभी मुलायम ने कांग्रेस पर सीबीआई का उनके खिलाफ गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया, तो 1999 को कौन भूल सकता है, जब कांग्रेस ने सोनिया गांधी को सत्ता तक पहुंचने से रोकने का समाजवादी पार्टी पर आरोप लगाया था। लेकिन इस बार हालात बदले-बदले से नज़र आते हैं।

दोनों ही पार्टियों के नई पीढ़ी के सियासतदां मैदान में हैं। अगर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के दरमियान इस ताज़ा गठबंधन पर नजर डाली जाए तो आंकड़े यही बताते हैं कि टीम अखिलेश और टीम राहुल अगर जमीनी स्तर पर इस गठबंधन के मुताबिक वोट हासिल करने में कामयाब रहे तो उत्तर प्रदेश विधानसभा के नतीजे बेहद चौंकाने वाले साबित हो सकते हैं। अखिलेश और राहुल ने ये फैसला महज ऐसे ही नहीं ले लिया है। इसके पीछे एक गहरी सोच है। दरअसल समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन से प्रदेश की कई सीटों पर मामला हार से जीत में बदल सकता है।

अखिलेश ने 2012 में अकेले ही पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई। प्रदेश में 29.15 प्रतिशत वोट समाजवादी पार्टी को मिले और कांग्रेस सूबे में चौथे नंबर पर रही। जिसे  11.63 प्रतिशत वोट मिले। दोनों के वोट जोड़ दिए जाएं तो ये आंकड़ा 40.78 प्रतिशत होता है। ये अपने आप में एक जादुई आंकड़ा है, क्योंकि यूपी की राजनीति में महज 25 से 30 प्रतिशत वोट हासिल करने वाली पार्टी सरकार बनाती आई हैं। लेकिन, तस्वीर के कई और पहलू भी हैं, क्या समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के पास 2012 वाली चमक बरकरार है। क्योंकि उत्तर प्रदेश की राजनीति में सत्ता विरोधी लहर लगभग हर चुनाव में देखने को मिलती है। साथ ही जमीनी स्तर पर ये गठबंधन वोटों को भी जोड़ पाएगा ये भी एक बड़ा सवाल है। क्या मुस्लिम वोट एकजुट होकर सपा-कांग्रेस गठबंधन की तरफ जाएंगे या फिर बीएसपी उन्हें अपनी तरफ खींचने में कामयाब रहेगी? 

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन में टीम अखिलेश और टीम राहुल के सामने बड़ी चुनौती वोटों को एकजुट करने की भी है और अगर ये कामयाब रहे तो नतीजे वाकई चौंकाने वाले रहेंगे।

BY- अमन अहमद

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 
  • samachar plus
  • live-tv-uttrakhand
  • live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

  • आलोक वर्मा

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    23 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय। दैनिक जागरण, करंट न...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: