Headline • CM आदित्यनाथ योगी से पति के साथ मिलने पहुंची मुलायम की ''छोटी बहू''• PM मोदी का नाम सुन भड़क उठे शिवसेना सांसद गायकवाड़, एयर इंडिया स्टॉफ को 25 बार मारी सैंडल• आज और अभी से अयोध्या, काशी, मथुरा समेत इन तीर्थ स्थलों को मिलेगी 24 घंटे बिजली• समाचार प्लस के रियलिटी चेक में हुआ खुलासा, कई जिलों में टाइम से आफिस नहीं पहुंचे अधिकारी• इस लेडी IPS के साथ मनचलों ने की बदसलूकी, सिविल ड्रेस में ही दिखाई ''असली ताकत'' • बीजेपी संसदों को पीएम का निर्देश, ट्रांसफर-पोस्टिंग से दूर रहें MP• भगत सिंह ने इस घर में बनाई थी लाइब्रेरी, किराए के मकान में देते थे बम बनाने की ट्रेनिंग • CM योगी ने थाने का किया औचक निरीक्षण, अधिकारियों में मची हड़कंप• कोहली की तुलना ट्रंप से करने के बाद बोले अमिताभ बच्चन- ऑस्ट्रेलिया का मीडिया यह तो मानता है कि कोहली विजेता है • Marie Claire के कवर पेज पर दिखेंगी प्रियंका चोपड़ा, मैगजीन ने बताया- 'मोस्ट बैंकेबल बैडएस'• मां ने 12 साल की मासूम की लगाई बोली, 35 के युवक से करा दिए सात फेरे• जानें, उत्तराखंड सरकार में कोई क्यों नहीं बनना चाहता है शिक्षा मंत्री • मोदी की पहल पर मुस्लिम छात्रा को पढ़ाई के लिए मिले पैसे, सारा ने कहा- 'शुक्रिया PM'• दफ्तर में गंदगी देख, योगी सरकार के इस मंत्री ने उठाई झाडू, करने लगें सफाई • बाबरी मस्जिद विवाद: SC में सुनवाई आज, आडवाणी, जोशी, उमा पर आ सकता है बड़ा फैसला• बरेली के डीएम ने जारी की सलाह- फॉर्मल कपड़े पहनकर आएं कर्मचारी • ब्रिटिश संसद के बाहर फायरिंग, कई घायल, सुरक्षाबलों ने संभाला मोर्चा• लोकसभा में बोले सुरेश प्रभु- ''सीनियर सिटिजंस को टिकट बुक कराने के लिए आधार कार्ड जरूरी नहीं'' • BJP को दिया था वोट, SP नेता ने मार-पीट कर कब्जाई जमीन, गांव से निकाला बाहर• CM ने अपने पास रखा होम मिनिस्ट्री, डिप्टी सीएम मौर्य को मिला PWD, पढ़ें मंत्रियों की पूरी लिस्ट• IPS अफसर ने कहा- 'योगी सरकार को बदनाम कर रहे हैं कुछ अफसर'• एनेक्सी भवन में पान-गुटखा खाने पर होगी कार्रवाई : CM योगी• बेटी को लवर संग देख पिता को आया गुस्सा, गर्दन रेतकर BF के घर के बाहर फेंकी बॉडी• कभीं गांव गांव घूमकर करता था स्टेज शो, अब मर्सिडीज से करता है मुंबई की सैर • संकल्प पत्र के वादों को ऐसे पूरा कर रही आदित्यनाथ की सरकार, शासन में सख्त हुए 'योगी'

सियासत के गलियारों में कहा जाता है कि यहां कुछ भी स्थायी नहीं होता, ना दोस्ती और ना ही दुश्मनी। यहां तो मुद्दे भी स्थायी नहीं होते, वक्त के साथ उन्हें गढ़ा जाता है और जरूरत के मुताबिक फिर निकाल लिया जाता है। इसकी ताज़ा मिसाल समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के दरमियान बनी नई दोस्ती है। भले ही ये दोनों पार्टियां अब एक दूसरे के साथ हैं, लेकिन इन दोनों के बीच खटास का भी एक लंबा इतिहास रहा है।

कई बार मुलायम ने कांग्रेस का हाथ थामा, तो कई बार उसे छोड़ भी दिया। दोनों की इस दोस्ती का आगाज 1990 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी से हुआ। उस वक्त मुलायम सिंह यादव मुसलमानों के लिए कांग्रेस के समर्थन से एक अभियान चला रहे थे। कयास लगाए गए थे कि समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का गठबंधन होगा, लेकिन अपने धोबी पछाड़ के लिए मशहूर मुलायम ने कांग्रेस को पटखनी दे दी।

कहा जाता है कि मुलायम ने सुबह 4.30 बजे तत्कालीन राज्यपाल सत्य नारायण रेड्डी को फोन कर विधानसभा भंग करने के लिए कहा था। कांग्रेस और सपा के बीच कभी खुशी और कभी गम का माहौल तभी से चला आ रहा है। कभी मुलायम ने कांग्रेस पर सीबीआई का उनके खिलाफ गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया, तो 1999 को कौन भूल सकता है, जब कांग्रेस ने सोनिया गांधी को सत्ता तक पहुंचने से रोकने का समाजवादी पार्टी पर आरोप लगाया था। लेकिन इस बार हालात बदले-बदले से नज़र आते हैं।

दोनों ही पार्टियों के नई पीढ़ी के सियासतदां मैदान में हैं। अगर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के दरमियान इस ताज़ा गठबंधन पर नजर डाली जाए तो आंकड़े यही बताते हैं कि टीम अखिलेश और टीम राहुल अगर जमीनी स्तर पर इस गठबंधन के मुताबिक वोट हासिल करने में कामयाब रहे तो उत्तर प्रदेश विधानसभा के नतीजे बेहद चौंकाने वाले साबित हो सकते हैं। अखिलेश और राहुल ने ये फैसला महज ऐसे ही नहीं ले लिया है। इसके पीछे एक गहरी सोच है। दरअसल समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन से प्रदेश की कई सीटों पर मामला हार से जीत में बदल सकता है।

अखिलेश ने 2012 में अकेले ही पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई। प्रदेश में 29.15 प्रतिशत वोट समाजवादी पार्टी को मिले और कांग्रेस सूबे में चौथे नंबर पर रही। जिसे  11.63 प्रतिशत वोट मिले। दोनों के वोट जोड़ दिए जाएं तो ये आंकड़ा 40.78 प्रतिशत होता है। ये अपने आप में एक जादुई आंकड़ा है, क्योंकि यूपी की राजनीति में महज 25 से 30 प्रतिशत वोट हासिल करने वाली पार्टी सरकार बनाती आई हैं। लेकिन, तस्वीर के कई और पहलू भी हैं, क्या समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के पास 2012 वाली चमक बरकरार है। क्योंकि उत्तर प्रदेश की राजनीति में सत्ता विरोधी लहर लगभग हर चुनाव में देखने को मिलती है। साथ ही जमीनी स्तर पर ये गठबंधन वोटों को भी जोड़ पाएगा ये भी एक बड़ा सवाल है। क्या मुस्लिम वोट एकजुट होकर सपा-कांग्रेस गठबंधन की तरफ जाएंगे या फिर बीएसपी उन्हें अपनी तरफ खींचने में कामयाब रहेगी? 

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन में टीम अखिलेश और टीम राहुल के सामने बड़ी चुनौती वोटों को एकजुट करने की भी है और अगर ये कामयाब रहे तो नतीजे वाकई चौंकाने वाले रहेंगे।

BY- अमन अहमद

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 
  • samachar plus
  • live-tv-uttrakhand
  • live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

  • आलोक वर्मा

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    23 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय। दैनिक जागरण, करंट न...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: