Headline • कोर्ट ने पाक विदेशमंत्री को ठहराया अयोग्य, कुर्सी भी गई और नेशनल एसेंबली की सदस्यता भी• बलात्कार की झूठी रिपोर्ट दर्ज कर लोगों से रुपए ऐंठने वाली महिला समेत दो गिरफ्तार • मनोज तिवारी बोले, रेणुका चौधरी के बयान से लगता है कि कांग्रेस में कास्टिंग काउच है• बाबा बद्री का नए छत्र से होगा श्रृंगार, लुधियाना के एक परिवार दे रहा है 4 किलो सोने का छत्र• उमा भारती की गोद ली हुई नदी पहुंच गई है मरणासन्न स्थिति में, 4 साल से कोई देखने वाला नहीं• हिना खान की शॉर्ट फिल्म का पहला लुक आया सामने, आपने देखा क्या• काॅल गर्ल पर पैसे लुटाते नजर आ रहा है बांगरमऊ का ईओ, वीडियो वायरल• स्कूल वैन हादसा : कुशीनगर के बाद घायलों से मिलने गोरखपुर के BRD मेडिकल कॉलेज पहुंचे CM योगी• दिल्‍ली: तेज रफ्तार टैंकर का कहर,स्कूल वैन को मारी टक्कर, एक की मौत,17 बच्चे घायल• Raazi का दूसरा गाना 'दिलबरो' रिलीज,बाप-बेटी का खूबसूरत रिश्‍ता देख आप भी हो जाएंगे इमोशनल • कुशीनगर हादसा : घायल बच्चों से मिलने के बाद घटना स्थल पर पहुंचे सीएम योगी• कुशीनगर हादसा : घायल बच्चों से मिलने के बाद,CM योगी ने कहा- ईयरफोन लगाकर वैन चला रहा था ड्राइवर• कुशीनगर हादसा : घायल बच्चों से अस्पताल में मिलने पहुंचे सीएम योगी• हादसे का जायजा लेने कुशीनगर जाएंगे CM योगी,मृतक बच्चों के परिवारों से करेंगे मुलाकात• कुशीनगर हादसाः पीएम मोदी,राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और रेल मंत्री ने जताया दुख• कुशीनगर हादसे में बड़ी लापरवाही आई सामने,ईयरफोन लगाकर स्कूल वैन चला रहा था ड्राइवर • सीएम योगी का आज अमरोहा दौरा,मेहंदीपुर गांव में लगाएंगे चौपाल,दलित के घर खाएंगे खाना• कुशीनगर हादसे पर CM योगी ने जताया दुख,दिए जांच के आदेश• कुशीनगर : स्कूल वैन और ट्रेन की टक्कर,13 बच्चों की मौत,8 की हालत गंभीर,दर्दनाक तस्वीरें आई सामने• कुशीनगर : मानवरहित क्रॉसिंग पर ट्रेन से टकराई स्कूल वैन, 13 बच्चों की मौत, पीएम मोदी ने जताया दुख• मंगोलिया भारत का राजनीतिक रूप से ही सहयोगी नहीं है बल्कि आध्यात्मिक रूप से भी हम नजदीक हैंः सुषमा• 8 माह पहले डोकलाम पर धमकी दे रहा था, आज मोदी के स्वागत के लिए रेड कार्पेट बिछा रहा है चीन• सपना के गाने पर नहीं नाचे थे क्रिस गेल, फेक वीडियो पोस्ट कर सपना ने बटोरी शोहरत• एक ऐसा बैंक जहां एक भी कर्मचारी नहीं है• कास्टिंग काउच पर खामोश हैं ये अभिनेत्रियां, एक दूसरे को माइक थमाकर बचती रहीँ देखें video

दिक्कत से दिक्कत या दिक्कत सियासी है !

नोटबंदी से फिलहाल दिक्कत आम को भी और खास को भी दिक्कत तो है । और सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है सड़क से संसद तक नोटबंदी पर सवाल उठा रही पॉलिटिकल पार्टियों को । जो विरोध के लिए हवाला दे रहीं हैं लोगों को हो रहीं दिक्कतों का । तो क्या दिक्कत से दिक्कत है या दिक्कत की वजह कुछ और है ? ये समझने की जरुरत है । असल में आम लोगों की दिक्कतों का हवाला देकर विरोध करने वाली पॉलिटिकल पार्टी ये बताएं कि आम लोग क्या आज दिक्कत में हैं ? आम और गरीब क्या आज लाइन में लगे हैं ? राशन से लेकर अस्पताल, अस्पताल से लेकर सरकारी कार्यालय तक कभी देखा है बदहाल व्यवस्था से जूझते गरीब को ? यहां तक कि पूरे दिन मेहनत-मजदूरी करने वाले मजदूर को तो उसकी मजदूरी भी लाइन में ही लगकर मिलती है । जिसकी ये गैरंटी भी नहीं कि मिलेगी भी कि नहीं । ना जाने कितने लोग सरकारी अस्पताल में बिना इलाज के दम तोड़ देते हैं । कभी देखा है जब गरीब को रिश्वत ना देने पर सरकारी अस्पताल से धक्के मारकर निकाल दिया जाता है । तो वहीं निजी अस्पताल बिना पैसे दिए इलाज करने से इंकार कर देते हैं । कई तो इसलिए जान गंवा देते हैं क्योंकि अस्पताल में डॉक्टर ही नहीं है । कभी देखा है किसी पीड़ित को जो थाने के चक्कर काट-काटकर थक जाता है मगर बिना पैसे दिए इंसाफ तो दूर पुलिस सुनती भी नहीं औऱ वो इसलिए आत्महत्या कर लेता है । कभी गौर किया है जब एक गरीब की बेटी दहेज ना देने पर जला दी जाती है । देश में ना कितने ही गरीब बिन पैसे भूखे पेट सो जाते हैं । क्या कभी उनका दर्द समझने की कोशिश की किसी ने ? कभी सोचा है उन युवाओं के बारे में जो पढ़-लिखकर भी बेरोजगार है । नौकरी नहीं तो पैसे कहां से ? नौकरी के लिए भी तो रिश्वत ही चलती है । बिन मुआवजे के किसान आत्महत्या कर लेता है । बिन पैसे सब सून । फिर दिक्कत आज ही क्यों ? ये सोचने का विषय है कि विरोध की असल वजह है क्या ?  यूपी सरकार ने एलान किया कि कुछ दिन के लिए पुराने नोट रजिस्ट्री में स्वीकार्य होंगे । अब सोचिए क्या गरीब आदमी प्रोपर्टी खरीदेगा ? पहले वो पेट तो भर ले । प्रोपर्टी लेने-बेचने की उसकी हैसियत होती तो वो गरीब नहीं होता । तो सोचिए ये फैसला किनके लिए ? हां अगर राहत देनी ही है तो कुछ ऐसा कीजिए सरकार कि गरीब अपने पुराने नोट भी चला लें और अपना काम धंधा छोड़कर लम्बी लाइनों में भी ना लगना पड़े । यूपी के ही आजमगढ़ में कुछ बच्चों ने अपनी गुल्लक तोड़कर खुले पैसे के जरिए लोगों की मदद के लिए सरकारी अस्पताल में स्टॉल लगाए और काफी लोगों की मदद भी की । कुछ ऐसा ही कर देते । और कुछ नहीं तो सख्त निर्देश अस्पतालों को ही दे दिए जाते कि नोटबंदी की वजह से किसी का इलाज ना रुके । तो क्या ये अस्पताल इलाज के लिए इंकार कर देते ? जहां पुराने नोटों की स्वीकार्यता के सख्त आदेश हैं कम से कम वहां तो ये नोट स्वाकार्य हों  ये प्रतिबद्धता ही दिखा देते । तो क्या जनता यूं परेशान होती ! ये सवाल उन सभी राजनीतिक दलों से । जिनकी कहीं ना कहीं राज्य में अपनी सरकार है । क्या विरोध करने भर से जिम्मेदारी पूरी हो जाती है ? वाकई चिंता है तो सवाल के बजाए समाधान ढूंढिए । माना फैसला केंद्र सरकार का है मगर प्रदेश में तो सरकार आप भी हैं । जनता के प्रति जिम्मेदारी तो आपकी भी है । जनादेश तो आपको भी मिला । फिर कोशिश आपकी की तरफ से क्यों नहीं ? इसलिए ये सवाल कि दिक्कत के लिए दिक्कत है या दिक्कत सियासी है ? 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: