Headline • UP Investors Summit 2018 :'सिर्फ 18 दिनों में UP में बनने वाले डिफेंस कॉरिडोर का खाका तैयार हुआ'• अमेठी के लड़के को फेसबुक पर हुआ पश्चिम बंगाल की लड़की से प्यार और फिर ऐसे मिला इतना बड़ा धोखा• कनाडा के PM ट्रूडो की पार्टी में मेहमान बना खालिस्तानी आतंकी,विवाद बढ़ने पर रद्द हुआ आज का न्यौता• UP Investors Summit 2018 :CM योगी ने कहा - 'MSME के क्षेत्र में भारत के अंदर UP का दूसरा स्थान'• छोटे नवाब तैमूर अली खान यह नया लुक सोशल मीडिया पर हो रहा है वायरल, आपने देखा क्या ?• सहारनपुर: समीक्षा बैठक में डीएम ने ईओ से कहा-'हम गला काट देंगे तुम्हारा'• UP Investors Summit 2018 : आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद समिट के समापन सत्र को करेंगे संबोधित• इमरान की शादी पर मौलानाओं की तंज, कहा, जो बीवी नहीं संभाल सकता वो मुल्क क्या संभालेगा• कनाडा में कृपाण लेकर नेशनल असेंबली में प्रवेश की इजाजत नहीं, कोर्ट का आया फैसला• बांग्लादेश की सफाई, चीन से दोस्ती को लेकर भारत को चिंता करने की जरूरत नहीं• बाहुबली अतीक अहमद की उम्मीदों पर फेर गया पानी, उप चुनाव में मायावती नहीं करेंगी समर्थन• अच्छा, तो इसलिए खेल के मैदान में चश्मा पहनते हैं यजुवेंद्र चहल• महान स्पिनर अब्दुल कादिर का बेटा पाकिस्तान नहीं, इस देश के लिए खेलेगा• पीटरसन को क्यों लगता है कि आगे सिर्फ 5 देश ही टेस्ट क्रिकेट खेलेंगे• अफसर क्या जाम में फंसे दारोगा ने कर दी रिक्शाचालक की पिटाई, पैंट में ही कर दिया पेशाब• योजना के तहत अयोध्या में काम कर रही हैं योगी और मोदी सरकारें, राम मंदिर के रुप में ढलेगा रेलवे स्टेशन• 'बागी 2' का धमाकेदार ट्रेलर हुआ रिलीज,आपने देखा क्या ?• साइकिल से सड़क पर पापड़ बेच रहे हैं ऋतिक रोशन,इस वजह से बिहार में नहीं होगी फिल्म की शूटिंग• 'बागी 2' का नया पोस्टर आया सामने,टाइगर श्रॉफ और एक्ट्रेस दिशा पटानी....• अब 10 की बजाय 13 digit का होगा आपका मोबाइल नंबर, जानें क्यों• जब शाहरुख,आमिर,फरहान अख्तर समेत बॉलीवुड की कई हस्तियों से मिले कनाड़ा के PM जस्टिन ट्रूडो,देखें तस्वीरें• वैन चालक की लापरवाही की वजह से बच्चे की जान पर आई शामत, जानें रोते बच्चे का क्या हुआ• UP Investors' Summit:यूपी में बनेगा डिफेंस इंडस्ट्रियल कोरिडोर,आगरा,अलीगढ़-झांसी-चित्रकूट तक का विकास होगा• UP Investors' Summit 2018 : पीएम मोदी ने कहा, यूपी में निवेश की संभावना,कृषि को उद्योग से जोड़ने की जरूरत• मेरठ : बजरंग दल के नेता ने किया चौथी क्लास के बच्चे के साथ कुकर्म

दिक्कत से दिक्कत या दिक्कत सियासी है !

नोटबंदी से फिलहाल दिक्कत आम को भी और खास को भी दिक्कत तो है । और सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है सड़क से संसद तक नोटबंदी पर सवाल उठा रही पॉलिटिकल पार्टियों को । जो विरोध के लिए हवाला दे रहीं हैं लोगों को हो रहीं दिक्कतों का । तो क्या दिक्कत से दिक्कत है या दिक्कत की वजह कुछ और है ? ये समझने की जरुरत है । असल में आम लोगों की दिक्कतों का हवाला देकर विरोध करने वाली पॉलिटिकल पार्टी ये बताएं कि आम लोग क्या आज दिक्कत में हैं ? आम और गरीब क्या आज लाइन में लगे हैं ? राशन से लेकर अस्पताल, अस्पताल से लेकर सरकारी कार्यालय तक कभी देखा है बदहाल व्यवस्था से जूझते गरीब को ? यहां तक कि पूरे दिन मेहनत-मजदूरी करने वाले मजदूर को तो उसकी मजदूरी भी लाइन में ही लगकर मिलती है । जिसकी ये गैरंटी भी नहीं कि मिलेगी भी कि नहीं । ना जाने कितने लोग सरकारी अस्पताल में बिना इलाज के दम तोड़ देते हैं । कभी देखा है जब गरीब को रिश्वत ना देने पर सरकारी अस्पताल से धक्के मारकर निकाल दिया जाता है । तो वहीं निजी अस्पताल बिना पैसे दिए इलाज करने से इंकार कर देते हैं । कई तो इसलिए जान गंवा देते हैं क्योंकि अस्पताल में डॉक्टर ही नहीं है । कभी देखा है किसी पीड़ित को जो थाने के चक्कर काट-काटकर थक जाता है मगर बिना पैसे दिए इंसाफ तो दूर पुलिस सुनती भी नहीं औऱ वो इसलिए आत्महत्या कर लेता है । कभी गौर किया है जब एक गरीब की बेटी दहेज ना देने पर जला दी जाती है । देश में ना कितने ही गरीब बिन पैसे भूखे पेट सो जाते हैं । क्या कभी उनका दर्द समझने की कोशिश की किसी ने ? कभी सोचा है उन युवाओं के बारे में जो पढ़-लिखकर भी बेरोजगार है । नौकरी नहीं तो पैसे कहां से ? नौकरी के लिए भी तो रिश्वत ही चलती है । बिन मुआवजे के किसान आत्महत्या कर लेता है । बिन पैसे सब सून । फिर दिक्कत आज ही क्यों ? ये सोचने का विषय है कि विरोध की असल वजह है क्या ?  यूपी सरकार ने एलान किया कि कुछ दिन के लिए पुराने नोट रजिस्ट्री में स्वीकार्य होंगे । अब सोचिए क्या गरीब आदमी प्रोपर्टी खरीदेगा ? पहले वो पेट तो भर ले । प्रोपर्टी लेने-बेचने की उसकी हैसियत होती तो वो गरीब नहीं होता । तो सोचिए ये फैसला किनके लिए ? हां अगर राहत देनी ही है तो कुछ ऐसा कीजिए सरकार कि गरीब अपने पुराने नोट भी चला लें और अपना काम धंधा छोड़कर लम्बी लाइनों में भी ना लगना पड़े । यूपी के ही आजमगढ़ में कुछ बच्चों ने अपनी गुल्लक तोड़कर खुले पैसे के जरिए लोगों की मदद के लिए सरकारी अस्पताल में स्टॉल लगाए और काफी लोगों की मदद भी की । कुछ ऐसा ही कर देते । और कुछ नहीं तो सख्त निर्देश अस्पतालों को ही दे दिए जाते कि नोटबंदी की वजह से किसी का इलाज ना रुके । तो क्या ये अस्पताल इलाज के लिए इंकार कर देते ? जहां पुराने नोटों की स्वीकार्यता के सख्त आदेश हैं कम से कम वहां तो ये नोट स्वाकार्य हों  ये प्रतिबद्धता ही दिखा देते । तो क्या जनता यूं परेशान होती ! ये सवाल उन सभी राजनीतिक दलों से । जिनकी कहीं ना कहीं राज्य में अपनी सरकार है । क्या विरोध करने भर से जिम्मेदारी पूरी हो जाती है ? वाकई चिंता है तो सवाल के बजाए समाधान ढूंढिए । माना फैसला केंद्र सरकार का है मगर प्रदेश में तो सरकार आप भी हैं । जनता के प्रति जिम्मेदारी तो आपकी भी है । जनादेश तो आपको भी मिला । फिर कोशिश आपकी की तरफ से क्यों नहीं ? इसलिए ये सवाल कि दिक्कत के लिए दिक्कत है या दिक्कत सियासी है ? 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स



शो

:
:
: