Headline • जम्मू-कश्मीर: त्राल में सुरक्षाबलों पर आतंकियों ने किया ग्रेनेड से हमला, 10 जवान घायल• गंदी नियत से पड़ोसी के घर में घुसा युवक, लोगों ने मुंह काला कर गांव में घुमाया• गुजरात : वडोदरा में स्कूल के वॉशरूम में मिला 9वीं के छात्र का शव, बैग से बरामद हुआ चाकू• गोंडा : टैंकर और कार की आमने-सामने की टक्कर,एक ही परिवार के पांच लोगों की दर्दनाक मौत• मॉल में चलते-चलते अचानक फिसलकर गिर पड़ी काजोल, फिर हुआ कुछ ऐसा, देखें वीडियो• बेटे ने दी गोली मारने की धमकी,बुजुर्ग माता-पिता ने किया पलायन,बोले-भगवान ऐसी औलाद किसी को ना दे• हापुड़ : लोगों ने शव को घसीटा, पुलिस ने मांगी माफी, इंस्पेक्टर समेत 2 सिपाही लाइन हाजिर• सनी लियोनी ने अस्पताल पहुंचकर कराया चेकअप, शूटिंग के दौरान बिगड़ी थी तबीयत• गाजियाबाद : रिटायर जज ने गोली मारकर की आत्महत्या,पत्नी की मौत के बाद से थे डिप्रेशन में • जम्मू कश्मीर : अनंतनाग में सुरक्षाबलों ने ढेर किए चार आतंकी,एक जवान शहीद• BJP नेता ने गुर्गों के साथ मिलकर परिवार को बंधक बनाकर पीटा,बचाने की बजाय खड़ी देखती रही पुलिस• गाजियाबाद : शिखर एन्क्लेव में लापरवाही बरतने के मामले में आवास विकास के 12 इंजीनियर निलंबित• बुलंदशहर : 13 साल की नाबालिग लड़की के साथ 7 लोगों ने किया गैंगरेप• उन्नाव कांड : आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और सहयोगी शशि सिंह को आज कोर्ट में पेश करेगी CBI• शाहजहांपुर में दर्दनाक सड़क हादसा, तीन की मौत, 12 घायल• 10 नवंबर को शादी के बंधन में बधेंगे रणवीर और दीपिका, वेन्यू अभी तय नहीं• अर्जेंटीना के लिए करो या मरो की स्थिति, मेसी को दिखाना होगा अपना नैचुरल गेम• शेरा के साथ भाईजान गए अमेरिका, एअरपोर्ट पर खूब की मस्ती, देखें वीडियो• गंगा की सफाई के लिए अरबों खर्च कर हुए और इधर लोगों ने बिना पैसे का ये काम किया• पत्नी की मौत के बाद जिस बच्चे को इंजीनियर बनाया, उसी ने सामान सहित घर से बाहर फेंक दिया• कपिल को देख फैंस बोले, ये क्या हाल बना रखा है, कुछ लेते क्यों नहीं• 8 साल के ध्रुव ने योग में बनाया कीर्तिमान, देश-विदेश में कई अवार्ड जीते, गजब की योग प्रतिभा है बच्चे में• शाहजहांपुर : जिला महिला अस्पताल में लगी आग, प्रेग्नेंट महिलाओं ने भागकर बचाई अपनी जान• अखिलेश बोले-पीएम नहीं, मुझे तो सिर्फ एक बार फिर यूपी का सीएम बनना है, बीजेपी का हराना मुख्य लक्ष्य• महिला ने लगाया छेड़खानी का आरोप,अपर विकास अधिकारी बोले- जब किसी ने देखा नहीं तो साबित कैसे होगा

दिक्कत से दिक्कत या दिक्कत सियासी है !

नोटबंदी से फिलहाल दिक्कत आम को भी और खास को भी दिक्कत तो है । और सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है सड़क से संसद तक नोटबंदी पर सवाल उठा रही पॉलिटिकल पार्टियों को । जो विरोध के लिए हवाला दे रहीं हैं लोगों को हो रहीं दिक्कतों का । तो क्या दिक्कत से दिक्कत है या दिक्कत की वजह कुछ और है ? ये समझने की जरुरत है । असल में आम लोगों की दिक्कतों का हवाला देकर विरोध करने वाली पॉलिटिकल पार्टी ये बताएं कि आम लोग क्या आज दिक्कत में हैं ? आम और गरीब क्या आज लाइन में लगे हैं ? राशन से लेकर अस्पताल, अस्पताल से लेकर सरकारी कार्यालय तक कभी देखा है बदहाल व्यवस्था से जूझते गरीब को ? यहां तक कि पूरे दिन मेहनत-मजदूरी करने वाले मजदूर को तो उसकी मजदूरी भी लाइन में ही लगकर मिलती है । जिसकी ये गैरंटी भी नहीं कि मिलेगी भी कि नहीं । ना जाने कितने लोग सरकारी अस्पताल में बिना इलाज के दम तोड़ देते हैं । कभी देखा है जब गरीब को रिश्वत ना देने पर सरकारी अस्पताल से धक्के मारकर निकाल दिया जाता है । तो वहीं निजी अस्पताल बिना पैसे दिए इलाज करने से इंकार कर देते हैं । कई तो इसलिए जान गंवा देते हैं क्योंकि अस्पताल में डॉक्टर ही नहीं है । कभी देखा है किसी पीड़ित को जो थाने के चक्कर काट-काटकर थक जाता है मगर बिना पैसे दिए इंसाफ तो दूर पुलिस सुनती भी नहीं औऱ वो इसलिए आत्महत्या कर लेता है । कभी गौर किया है जब एक गरीब की बेटी दहेज ना देने पर जला दी जाती है । देश में ना कितने ही गरीब बिन पैसे भूखे पेट सो जाते हैं । क्या कभी उनका दर्द समझने की कोशिश की किसी ने ? कभी सोचा है उन युवाओं के बारे में जो पढ़-लिखकर भी बेरोजगार है । नौकरी नहीं तो पैसे कहां से ? नौकरी के लिए भी तो रिश्वत ही चलती है । बिन मुआवजे के किसान आत्महत्या कर लेता है । बिन पैसे सब सून । फिर दिक्कत आज ही क्यों ? ये सोचने का विषय है कि विरोध की असल वजह है क्या ?  यूपी सरकार ने एलान किया कि कुछ दिन के लिए पुराने नोट रजिस्ट्री में स्वीकार्य होंगे । अब सोचिए क्या गरीब आदमी प्रोपर्टी खरीदेगा ? पहले वो पेट तो भर ले । प्रोपर्टी लेने-बेचने की उसकी हैसियत होती तो वो गरीब नहीं होता । तो सोचिए ये फैसला किनके लिए ? हां अगर राहत देनी ही है तो कुछ ऐसा कीजिए सरकार कि गरीब अपने पुराने नोट भी चला लें और अपना काम धंधा छोड़कर लम्बी लाइनों में भी ना लगना पड़े । यूपी के ही आजमगढ़ में कुछ बच्चों ने अपनी गुल्लक तोड़कर खुले पैसे के जरिए लोगों की मदद के लिए सरकारी अस्पताल में स्टॉल लगाए और काफी लोगों की मदद भी की । कुछ ऐसा ही कर देते । और कुछ नहीं तो सख्त निर्देश अस्पतालों को ही दे दिए जाते कि नोटबंदी की वजह से किसी का इलाज ना रुके । तो क्या ये अस्पताल इलाज के लिए इंकार कर देते ? जहां पुराने नोटों की स्वीकार्यता के सख्त आदेश हैं कम से कम वहां तो ये नोट स्वाकार्य हों  ये प्रतिबद्धता ही दिखा देते । तो क्या जनता यूं परेशान होती ! ये सवाल उन सभी राजनीतिक दलों से । जिनकी कहीं ना कहीं राज्य में अपनी सरकार है । क्या विरोध करने भर से जिम्मेदारी पूरी हो जाती है ? वाकई चिंता है तो सवाल के बजाए समाधान ढूंढिए । माना फैसला केंद्र सरकार का है मगर प्रदेश में तो सरकार आप भी हैं । जनता के प्रति जिम्मेदारी तो आपकी भी है । जनादेश तो आपको भी मिला । फिर कोशिश आपकी की तरफ से क्यों नहीं ? इसलिए ये सवाल कि दिक्कत के लिए दिक्कत है या दिक्कत सियासी है ? 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स



शो

:
:
: