Headline • विराट और अनुष्का ने इटली में रचाई शादी, देखें मेहंदी और शादी की वीडियो• विराट और अनुष्का ने ले लिए सात फेरे, औपचारिक घोषणा कभी भी• अखिलेश का पार्टी के अंदर 'सफाई अभियान' शुरू, प्रत्याशियों को हराने वालों की सपा से छुट्टी• बेबाक सोनम कपूर बोलीं, 'दादी कहती थीं पीरिएड्स के समय मंदिर व किचन में मत जाओ'• राहुल गांधी बने कांग्रेस अध्यक्ष, पूनावाला ने कहा, पार्टी के लिए काला दिन• मायावती बोलीं, समर्थकों के साथ बौद्ध बन जाऊंगी अगर बीजेपी और आरएसएस ने दलितों पर उत्पीड़न नहीं रोका• अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रही चीन, डोकलाम में फिर भेजे 1800 सैनिक• उत्तराखंड में आटो रिक्शा चलाकर बेहद तंगहाल जिंदगी गुजारते थे बुमराह के दादा • राहुल गांधी आज बन सकते हैं कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष• अतिथि देवोभवः ऐसे करती है पुलिस विदेश पर्यटकों से बर्ताव, लखनऊ से फोन जाने के बाद हुई कार्रवाई• योगी सरकार के मंत्री ने गैंगरेप को लेकर दिया शर्मनाक बयान, बोले- 'ऐसे हादसे होते रहते हैं'• अनोखी पहल: सामूहिक विवाह में दुल्हनों को दहेज में दिया शौचालय,दुल्हनें बोली- 'अब हमें शर्मिंदा नहीं होना पड़ेगा'• सनी लियोनी ने इंस्टा पर शेयर की ये फोटो, फैन्स बोले....• जम्मू-कश्मीर में आया भूकंप, रिक्टर स्केल पर तीव्रता रही 4.5 • शर्मनाक:मेरठ में कलयुगी बेटे ने 90 साल की बुजुर्ग मां को बेड़ियों में बांधा,पकड़ा गया तो बोला...• लखनऊ में ब्लड कैंसर पीड़िता से गैंगरेप, तीन आरोपी गिरफ्तार• मिर्जापुर में विदेशी सैलानियों के साथ छेड़छाड़ और मारपीट करने वाले 8 गिरफ्तार • मिर्जापुर सड़क हादसे में 10 की मौत, CM योगी ने किया मुआवजे का ऐलान • बाइक छोड़ने के लिए सिपाही ने चुपके से ली 200 रुपए की रिश्वत, वीडियो हो गया वायरल• महिला को पुलिस की मुखबिरी करना पड़ा भारी,बदमाशों ने घर में घुस कर मां-बेटी पर बरसाई गोलियां• गोरखपुर: CM योगी ने लगाया जनता दरबार,सुनी फरियादियों की समस्याएं• जायरा वसीम छेड़छाड़ केस : पुलिस ने आरोपी को किया गिरफ्तार, बोला- 'मैं तो...'• जम्मू कश्मीर: सुरक्षाबलों ने बारामूला और हंदवाड़ा में मुठभेड़ कर मार गिराए 5 आतंकवादी, एक को जिंदा पकड़ा• दो दिन पहले लापता हुए थे बुमराह के दादा, नदी के पास मिला शव • हैवानियत : हरियाणा में 5 साल की मासूम से रेप, प्राइवेट पार्ट में मिले लड़की के टुकड़े

दिक्कत से दिक्कत या दिक्कत सियासी है !

नोटबंदी से फिलहाल दिक्कत आम को भी और खास को भी दिक्कत तो है । और सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है सड़क से संसद तक नोटबंदी पर सवाल उठा रही पॉलिटिकल पार्टियों को । जो विरोध के लिए हवाला दे रहीं हैं लोगों को हो रहीं दिक्कतों का । तो क्या दिक्कत से दिक्कत है या दिक्कत की वजह कुछ और है ? ये समझने की जरुरत है । असल में आम लोगों की दिक्कतों का हवाला देकर विरोध करने वाली पॉलिटिकल पार्टी ये बताएं कि आम लोग क्या आज दिक्कत में हैं ? आम और गरीब क्या आज लाइन में लगे हैं ? राशन से लेकर अस्पताल, अस्पताल से लेकर सरकारी कार्यालय तक कभी देखा है बदहाल व्यवस्था से जूझते गरीब को ? यहां तक कि पूरे दिन मेहनत-मजदूरी करने वाले मजदूर को तो उसकी मजदूरी भी लाइन में ही लगकर मिलती है । जिसकी ये गैरंटी भी नहीं कि मिलेगी भी कि नहीं । ना जाने कितने लोग सरकारी अस्पताल में बिना इलाज के दम तोड़ देते हैं । कभी देखा है जब गरीब को रिश्वत ना देने पर सरकारी अस्पताल से धक्के मारकर निकाल दिया जाता है । तो वहीं निजी अस्पताल बिना पैसे दिए इलाज करने से इंकार कर देते हैं । कई तो इसलिए जान गंवा देते हैं क्योंकि अस्पताल में डॉक्टर ही नहीं है । कभी देखा है किसी पीड़ित को जो थाने के चक्कर काट-काटकर थक जाता है मगर बिना पैसे दिए इंसाफ तो दूर पुलिस सुनती भी नहीं औऱ वो इसलिए आत्महत्या कर लेता है । कभी गौर किया है जब एक गरीब की बेटी दहेज ना देने पर जला दी जाती है । देश में ना कितने ही गरीब बिन पैसे भूखे पेट सो जाते हैं । क्या कभी उनका दर्द समझने की कोशिश की किसी ने ? कभी सोचा है उन युवाओं के बारे में जो पढ़-लिखकर भी बेरोजगार है । नौकरी नहीं तो पैसे कहां से ? नौकरी के लिए भी तो रिश्वत ही चलती है । बिन मुआवजे के किसान आत्महत्या कर लेता है । बिन पैसे सब सून । फिर दिक्कत आज ही क्यों ? ये सोचने का विषय है कि विरोध की असल वजह है क्या ?  यूपी सरकार ने एलान किया कि कुछ दिन के लिए पुराने नोट रजिस्ट्री में स्वीकार्य होंगे । अब सोचिए क्या गरीब आदमी प्रोपर्टी खरीदेगा ? पहले वो पेट तो भर ले । प्रोपर्टी लेने-बेचने की उसकी हैसियत होती तो वो गरीब नहीं होता । तो सोचिए ये फैसला किनके लिए ? हां अगर राहत देनी ही है तो कुछ ऐसा कीजिए सरकार कि गरीब अपने पुराने नोट भी चला लें और अपना काम धंधा छोड़कर लम्बी लाइनों में भी ना लगना पड़े । यूपी के ही आजमगढ़ में कुछ बच्चों ने अपनी गुल्लक तोड़कर खुले पैसे के जरिए लोगों की मदद के लिए सरकारी अस्पताल में स्टॉल लगाए और काफी लोगों की मदद भी की । कुछ ऐसा ही कर देते । और कुछ नहीं तो सख्त निर्देश अस्पतालों को ही दे दिए जाते कि नोटबंदी की वजह से किसी का इलाज ना रुके । तो क्या ये अस्पताल इलाज के लिए इंकार कर देते ? जहां पुराने नोटों की स्वीकार्यता के सख्त आदेश हैं कम से कम वहां तो ये नोट स्वाकार्य हों  ये प्रतिबद्धता ही दिखा देते । तो क्या जनता यूं परेशान होती ! ये सवाल उन सभी राजनीतिक दलों से । जिनकी कहीं ना कहीं राज्य में अपनी सरकार है । क्या विरोध करने भर से जिम्मेदारी पूरी हो जाती है ? वाकई चिंता है तो सवाल के बजाए समाधान ढूंढिए । माना फैसला केंद्र सरकार का है मगर प्रदेश में तो सरकार आप भी हैं । जनता के प्रति जिम्मेदारी तो आपकी भी है । जनादेश तो आपको भी मिला । फिर कोशिश आपकी की तरफ से क्यों नहीं ? इसलिए ये सवाल कि दिक्कत के लिए दिक्कत है या दिक्कत सियासी है ? 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: