Headline • राम मंदिर मुद्दे पर बोले विनय कटियार- हम बलिदान देने के लिए तैयार हैं, लेकिन पीछे हटने के लिए नहीं• 'पति दहेज के लिए बहुत मारता था, 7 महीने से केस दर्ज है,बच्ची बिमार है,खाने के लाले है आप ही बताए क्या करु'• पूजा-पाठ के बाद सीएम अवास में गृह प्रवेश करेंगे योगी, मंत्रियों के साथ करेंगे फलाहार • 'जब स्थित नहीं संभली तो चलानी पड़ी गोली', 43 जवान घायल• अमेरिका में मुस्लिम अधिकारी को कहा गया 'ISIS का नेता', केस दर्ज• शुरुआती कारोबार में सेंसेक्स 127 अंक हुआ मजबूत• महिला की आपत्तिजनक फोटो वायरल, SSP ऑफिस में की हुई आरोपी की पिटाई• पति की पत्नी से ख्वाहिश, 'मेरा कुत्ता मुझे प्यारा है, इसके साथ करो...'• चाइनीज कंपनी ने भारत में ही किया तिरंगे का अपमान, भारतीयों ने किया हंगामा• योगी जिन्दाबाद का नारा लगाना युवक को पड़ा भारी, सपा नेता ने मारी गोली, हुई मौत• लंबे समय बाद NOKIA ने भारत में लॉन्च किया अपना फोन, जानें खासियत • 'जो देश को तोड़ने की बात करे, उन्हें बिना संकोच लोटा-लोटा कर मारो'• अर्जुन कपूर की फिल्म हाफ गर्लफ्रेंड का फर्स्ट लुक हुआ रिलीज • खलीलाबाद रेलवे स्टेशन के पास हुआ धमाका, रेलवे ट्रेक से 3 जिंदा बम बरामद • ग्रेटर नोएडा में अफ्रीकी छात्रों पर हमला, सुषमा स्वराज ने यूपी सरकार से मांगी रिपोर्ट • टीम इंडिया 6 महीने से नहीं हारी टेस्ट सीरीज, 4 साल बाद ऑस्ट्रेलिया से जीती सीरीज• योगी सरकार ने नकल पर नकेल कसने के लिए जारी किए हेल्पलाइन नंबर• SC ने जम्मू कश्मीर सरकार से पूछा, क्या हिन्दूओं को दे दें अल्पसंख्यक का दर्जा? • पीएम मोदी 9 दिनों तक सिर्फ पानी पी कर रखते हैं व्रत, सीएम योगी पहली बार गोरखपुर से बाहर करेंगे शक्ति साधना • दो लुटेरे गिरफ्तार, हथियार बरामद• 'हिंदू राष्ट्र' का सपना पूरा करने के लिए मोहन भागवत को बनाया जाए राष्ट्रपति : शिवसेना• योगी 'राज' : सरकारी फाइलों को किया आग के हवाले, किस घोटाले को छिपा रहे हैं अधिकारी?• एंटी रोमियो, बूचड़खानों के नाम पर निर्दोषों पर कार्रवाई, कहीं सरकार को बदनाम करने की साजिश तो नहीं?• पुलिस को लिखा पत्र, 'कहा- बेटी की मंगनी है, भैंसा काटने की अनुमित दें'• सीरत कपूर ने कराया टॉपलेस फोटोशूट, फेसबुक पर शेयर की हॉट तस्वीरें 
यहां लावारिस लाशों को कंधा देती है महिलाएं, 5 हजार शवों का करा चुकी अंतिम संस्कार

कानपुर. किसी की मौत होने पर अक्सर उसकी लाश को पुरूष कंधा देते हैं। अंतिम संस्कार की रस्में भी पुरुष करते हैं। लेकिन, सोमवार को कानपुर में महिलाएं लाश को कंधा देती दिखी। हर कोई सड़क से गुजरती इन महिलाओं को देख चौक गया। बड़ी संख्या में महिलाएं लाशों को कंधा देने के लिए जुटी थी।

 

लावारिश लाशों का किया जाता है अंतिम संस्कार

- बता दें कि जिन लाशों को महिलाएं कंधा देती है। उनका अपना कोई नहीं होता है। उनकी बॉडी पर कोई हक भी नहीं जताता है।

- महिलाओं के मुताबिक वे लोगों की सोच को बदलने के लिए ऐसा कर रही हैं।

- उन्होंने कहा कि लावारिश लाश को देखनेवाला कोई नहीं होता है। सरकार की ओर से भी कोई ध्यान नहीं दिया जाता है।

- जिन लोगों का अपना कोई नहीं होता है। उनकी मौत के बाद अंतिम संस्कार किया जाता है।

- यहां की महिलाएं ट्रेडिशन के अनुसार अंतिम संस्कार करती हैं। बड़ी संख्या में फूलों को भी मंगाया जाता है।

- अब तक करीब 5 हजार शवों का अंतिम संस्कार किया जा चुका है। इस कैंपेन में बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल होती हैं।

महिलाओं को मिले सभी अधिकार

- लावारिस लाशों को कंधा देने वाली महिलाओं का कहना है कि उन्हें सभी तरह के अधिकारों की जरूरत है।

- उन्होंने बताया कि कंधा देने का काम केवल पुरुषों का नहीं है। महिलाएं भी इसे कर सकती है।

- हालांकि, लावारिस लाशों के अंतिम संस्कार में पुरूष भी सहयोग करते हैं। वे भी महिलाओं का उत्साह बढ़ा रहे हैं।

  

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 
  • samachar plus
  • live-tv-uttrakhand
  • live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

  • आलोक वर्मा

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    23 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय। दैनिक जागरण, करंट न...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: