Headline • सोशल मीडिया में आग लगा रही ही एक और भोजपुरी डांसर, डांस के लटके-झटके सपना चौधरी जैसे• आजमगढ़ में फिर मुठभेड़, बदमाश के साथ पुलिस अधिकारी को भी लगी गोली • प्रिंसिपल या जल्लाद! बच्चे को तबतक मारते रहे जब तक डंडा टूट न गया, क्लास में हंसने पर दी सजा• दामाद की हत्या के लिए 1 करोड़ की सुपारी दी, गैंग की लिंक आईएसआई से भी पाई गई• मृत महिला को जिंदा दिखाकर कर लिया मकान का बैनामा, असली मालिक पर घर छोड़ने की धमकी• महिलाओं ने सरेराह प्रधान में चप्पलों और लाठियों से की पिटाई, पति पत्नी के झगड़े को सुलझाना पड़ा भारी• भारत-पाक मुकाबले का रोमांच चरम पर, कानपुर में फैंस ने बप्पा से की टीम इंडिया की जीत की प्रार्थना• पाकिस्तान ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय, क्या कमाल कर पाएगी रोहित एंड कंपनी?• जब कुर्ता पजामा पहनकर नानी के घर गणपति पूजा में पहुंचे तैमूर,फोटो और वीडियो वायरल• क्यों हो रही है यूपी के इस दरोगा की प्रशंसा, जान की बाजी लगाकर किया कमाल• 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' से सामने आया फातिमा सना शेख का दमदार लुक,आमिर खान ने दी चेतावनी • रामकथा पर झूमे शिवपाल, कहा-समय बताएगा कौन किसके साथ है• साथ में बीड़ी पी रहे दोस्त की जेब में पैसा देखा तो लालच आ गया, ईंट मारकर हत्या कर पैसे ले लिए• शिकायत करने पर नहीं सुनी लेकिन जब आत्मदाह करने पहुंचा गरीब आदमी तो तुरंत जांच बैठा दी• चंद्रशेखर रावण और मदनी में गोपनीय बातचीत, शेरसिंह राणा ने भी पेश कर दी चुनौती• राजा भैया के पिता और प्रशासन में ठनी ! मोहर्रम के दिन भंडारे के कार्यक्रम में प्रशासन ने लगाई रोक• तीन तलाक पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला,अध्यादेश को दी मंजूरी• शामली : मठुभेड़ में दो बदमाश गिरफ्तार, एक को लगी गोली, 10 लाख कैश बरामद • दरोगा के बेटे ने खुद को गोली मारकर की आत्महत्या, मां की बीमारी के चलते डिप्रेशन में था• बीजेपी विधायक देवेंद्र राजपूत की दबंगई, बिजली विभाग के जेई को पीटा,वीडियो वायरल• बहराइच में बुखार का कहर, 45 दिनों में 70 बच्चों की मौत• 'समाचार प्लस' की खबर का असर,विकिपीडिया ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का निक नेम 'झांपू' हटाया• ब्लॉक प्रमुख से फोन पर मांगी गई 5 करोड़ की रंगदारी, न देने पर जान से मारने की धमकी• कानपुर : रैगिंग को लेकर भिड़े मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र,आधा दर्जन घायल• मेरठ : पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, एक बदमाश को लगी गोली


प्रवीण साहनी

एक्जीक्यूटिव एडिटर

मुन्ना बजरंगी की जेल में हत्या भी एक राज बन कर रह जाएगी क्योंकि हत्या करने वाला सुनील राठी तो पकड़ा गया लेकिन मास्टरमाइंड अभी भी बाहर है, अब मैं आपको बताता हूं कि ये प्लानिंग कब से चल रही थी। मोस्टवॉन्टेड मुन्ना बजरंगी को मारने की प्लानिंग आज की नहीं बल्कि लगभग एक साल से चल रही थी जब मुन्ना ने एक पूर्व सांसद की सुरक्षा हटने के बाद उसको मौत के घाट उतारने की प्लानिंग की थी तो उस पूर्व सांसद ने भी अपनी सालों पुरानी दुश्मनी का बदला लेने के लिए एक चक्रव्यूह मुन्ना के लिए तैयार किया था, जिस चक्रव्यूह में मुन्ना बजरंगी फंस भी गया और अपनी जान गवां बैठा।

इस चक्रव्यूह को रचने से पहले दोनों गैंग के लोगों और रिश्तेदारों की हत्या भी की गई। अपनी हत्या की भनक खुद मुन्ना को भी थी क्योंकि उसके दो खास शूटरों की हत्या कर दी गई थी जो कि मुन्ना के आंख और कान थे, और इसके बाद था मुन्ना का नंबर। ये बात मुन्ना को पता थी इसलिए उसकी पत्नी ने 3 दिन पहले एक प्रेस कॉन्फ्रेंस भी की थी और उसका वकील भी कभी डॉक्टर और कभी कोर्ट के चक्कर काट रहा था लेकिन परिवार और मुन्ना को हत्या की साजिश का तो पता था लेकिन स्क्रिप्ट क्या है... हत्या कौन करेगा... इसका पता मुन्ना को भी नहीं था।

अब मैं आपको इसके बैकग्राउन्ड में लेकर चलता हूं, मुन्ना के खिलाफ बागपत में रंगदारी की पहले भी एक FIR हुई थी लेकिन वो टिक नहीं पाई और खारिज हो गयी। अब तलाश एक ऐसे आदमी की थी जिसकी कंप्लेंट कोर्ट में स्टैंड हो सके तो एक पूर्व विधायक को मुन्ना बजरंगी के नाम से उसका गुर्गा धमकी दे रहा था, उसी शिकायत के आधार पर FIR दर्ज की गई लेकिन जब मैंने वो ऑडियो सुना तो मुझे कहीं नहीं लगा कि ये एक मोस्टवॉन्टेड क्रिमिनल का गुर्गा बात कर रहा है, जो इतने सालों से क्राइम की दुनिया पर राज कर रहा हो उसका गुर्गा इस सड़क छाप स्टाइल में धमकी देगा।

मुझे विश्वास नहीं होता। उस ऑडियो में वो पूर्व विधायक को झांसी जेल जाकर मुन्ना से मिलने को कह रहा है, आगे वो उसको ठेका न मैनेज करने के लिए भी धमकी दे रहा है। जब पूर्व विधायक उसका नाम पूछ रहा है तो वो कह रहा है कि वहां जाओगे तो पता चल जाएगा। अब आगे चलते हैं मुकदमा तो दर्ज हो गया लेकिन मुन्ना बजरंगी की हत्या की साजिश रचने वाले मुन्ना को बागपत ही क्यों लाना चाहते थे ? इसकी दो वजहें थीं पहला सुनील राठी और दूसरा जेल के सुरक्षा इंतजाम और सीसीटीवी।

हत्या करवाने वालों को अच्छे से पता था कि उत्तर प्रदेश की अधिकतर जेल सीसीटीवी से लैस हो चुकी हैं लेकिन बागपत जेल ऐसी है जहां अभी भी सीसीटीवी से लेकर जेल की सुरक्षा में कई खामियां हैं और मुन्ना का हर जेल में कोई न कोई वफादार मौजूद है सिर्फ बागपत जेल ही ऐसी जेल है जहां मुन्ना को आसानी से ठिकाने लगाया जा सकता है।

अब बात करते हैं सुनील राठी की... सुनील राठी भी अभी तक अपराध की दुनिया में सिर्फ 3 राज्यों तक ही सिमटा हुआ था, वो भी अपना नाम उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश में करना चाहता था और गैंग को बड़ा करना, हाईटेक हथियार खरीदना इसके लिए उसे बहुत मोटी रकम की जरूरत थी, जो मुन्ना को मारकर ही पूरी हो सकती थी। मुझे मेरे कुछ सूत्रों ने बताया कि राठी से पूर्व सांसद ने जेल में पिछले एक साल में 3 बार मुलाकात की है और इन मुलाकातों में ही मुन्ना की मारने की प्लानिंग हुई।

आज भी उत्तर प्रदेश की जेलों में अपराधियों से बड़े लोगों की मुलाकात का कोई रिकॉर्ड नहीं रखा जाता है, शायद यही वजह है आज भी जेलों से हत्या, रंगदारी और गैंग संचालित हो रहे हैं। तो ये प्लान्ड स्क्रिप्ट लिखी गई थी मुन्ना को निपटाने के लिए। सवाल कई हैं... ये हत्या सच में गैंगवार का नतीजा है ? क्या सुनील राठी ने सिर्फ मोटा कहने की वजह से मुन्ना की हत्या कर दी ? क्या दोनों एक दूसरे की हत्या करना चाहते थे ? क्या बजरंगी की हत्या की सुपारी दी गई ? जेल में हत्या हुई तो जेलर को हिरासत में क्यों नहीं लिया गया ? क्या जेल में बड़े अपराधी हमेशा अपने साथ हथियार रखते हैं या फिर सिर्फ बजरंगी को मारने लिए उस दिन जेल में हथियार लाया गया ? ये वो सवाल हैं जिनका जवाब हर कोई जानना चाहता है।

*मेरे सूत्रों से मिली जानकारी के आधार पर*

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: