Headline • योगी की राह पर चले केजरीवाल, रद्द होंगी महापुरुषों के जन्म और निर्वाण दिवस की छुट्टियां• गाजियाबाद में पटाखा फैक्ट्री में ब्लास्ट, 5 की मौत• पेट्रोल पंप पर STF की छापेमारी, चिप लगाकर पेट्रोल की हो रही थी चोरी• इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रों का हंगामा, हॉस्टल खाली कराए जाने को लेकर बढ़ा विवाद• कांग्रेस जैसी हो गई है आप की हालत: कुमार विश्वास• पहले पत्थरबाजी बंद हो तब पैलेट गन बंद करने को कहेंगे: सुप्रीम कोर्ट• पुलिस वालों के लिए धरने पर बैठे 'अर्थी बाबा'• सीएम योगी आदित्यनाथ ने की शहीद कैप्टन के परिजनों को 30 लाख की मदद की घोषणा• 2 साल बाद मिल गया जवाब, इसलिए कटप्पा ने बाहुबली को मारा • आवास पर फरियादियों की भीड़ देख चढ़ा सीएम का पारा, सभी जिलों के DM-SP को भेजा फरमान• योगी सरकार बेटियों के लिए ला रही है बड़ी सौगात, होगी बेटी तो मिलेगा ये • सुकमा मे शहीद जवानों के बच्चों की पढ़ाई का जिम्मेदारी लिए गौतम गंभीर • योगी सरकार की अधिकारियों को चेतावनी, 9 से 6 बजे ऑफिस में दिखें, कभी भी आ सकता है CM का कॉल• BJP की महिला विधायक की गाड़ी का हुआ एक्सीडेंट, MLA समेत 3 लोग घायल • Baahubali 2: आज खत्म हो जाएगा सस्पेंस, 9000 स्क्रीन पर हो रही है रिलीज • STF का खुलासा, लखनऊ में डिवाइस लगा हो रही थी पेट्रोल की चोरी, 7 पेट्रोल पंप हुए सीज• अब पत्थरबाजों को जवाब देंगी बेटियां, 1000 महिला पुलिसकर्मियों की होगी भर्ती• बिलखते हुए बोली शहीद की मां- मोदी जी बताएं कब तक माताएं अपने बेटों की शहादत देती रहेंगी• JEE Main-2017: कंपाउंडर के बेटे ने बनाया 'अकल्पनीय' रिकॉर्ड, 100 प्रतिशत मार्क्स लाकर रचा इतिहास• ये हैं लखनऊ के नए SSP, ईमानदार होने की वजह से पिछली सरकार कर देती थी तबादला• भारत ने बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-3 का किया सफल परीक्षण• सुप्रीम कोर्ट के फैसले का मायावती ने किया स्वागत, कहां- केंद्र सरकार तत्काल नियुक्ति करे लोकपाल • कांग्रेस ने कराई थी मेरी गिरफ्तारी, जान से मारने की रची गई थी साजिश: साध्वी प्रज्ञा • अयोध्या में इस साल दशहरे में फिर से शुरू होगी रामलीला: सीएम योगी • CM योगी के साथ विनोद खन्ना की फोटो हुई वायरल, गोरखपुर आकर जमकर किया था प्रचार

सियासत के गलियारों में कहा जाता है कि यहां कुछ भी स्थायी नहीं होता, ना दोस्ती और ना ही दुश्मनी। यहां तो मुद्दे भी स्थायी नहीं होते, वक्त के साथ उन्हें गढ़ा जाता है और जरूरत के मुताबिक फिर निकाल लिया जाता है। इसकी ताज़ा मिसाल समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के दरमियान बनी नई दोस्ती है। भले ही ये दोनों पार्टियां अब एक दूसरे के साथ हैं, लेकिन इन दोनों के बीच खटास का भी एक लंबा इतिहास रहा है।

कई बार मुलायम ने कांग्रेस का हाथ थामा, तो कई बार उसे छोड़ भी दिया। दोनों की इस दोस्ती का आगाज 1990 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी से हुआ। उस वक्त मुलायम सिंह यादव मुसलमानों के लिए कांग्रेस के समर्थन से एक अभियान चला रहे थे। कयास लगाए गए थे कि समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का गठबंधन होगा, लेकिन अपने धोबी पछाड़ के लिए मशहूर मुलायम ने कांग्रेस को पटखनी दे दी।

कहा जाता है कि मुलायम ने सुबह 4.30 बजे तत्कालीन राज्यपाल सत्य नारायण रेड्डी को फोन कर विधानसभा भंग करने के लिए कहा था। कांग्रेस और सपा के बीच कभी खुशी और कभी गम का माहौल तभी से चला आ रहा है। कभी मुलायम ने कांग्रेस पर सीबीआई का उनके खिलाफ गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया, तो 1999 को कौन भूल सकता है, जब कांग्रेस ने सोनिया गांधी को सत्ता तक पहुंचने से रोकने का समाजवादी पार्टी पर आरोप लगाया था। लेकिन इस बार हालात बदले-बदले से नज़र आते हैं।

दोनों ही पार्टियों के नई पीढ़ी के सियासतदां मैदान में हैं। अगर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के दरमियान इस ताज़ा गठबंधन पर नजर डाली जाए तो आंकड़े यही बताते हैं कि टीम अखिलेश और टीम राहुल अगर जमीनी स्तर पर इस गठबंधन के मुताबिक वोट हासिल करने में कामयाब रहे तो उत्तर प्रदेश विधानसभा के नतीजे बेहद चौंकाने वाले साबित हो सकते हैं। अखिलेश और राहुल ने ये फैसला महज ऐसे ही नहीं ले लिया है। इसके पीछे एक गहरी सोच है। दरअसल समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन से प्रदेश की कई सीटों पर मामला हार से जीत में बदल सकता है।

अखिलेश ने 2012 में अकेले ही पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई। प्रदेश में 29.15 प्रतिशत वोट समाजवादी पार्टी को मिले और कांग्रेस सूबे में चौथे नंबर पर रही। जिसे  11.63 प्रतिशत वोट मिले। दोनों के वोट जोड़ दिए जाएं तो ये आंकड़ा 40.78 प्रतिशत होता है। ये अपने आप में एक जादुई आंकड़ा है, क्योंकि यूपी की राजनीति में महज 25 से 30 प्रतिशत वोट हासिल करने वाली पार्टी सरकार बनाती आई हैं। लेकिन, तस्वीर के कई और पहलू भी हैं, क्या समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के पास 2012 वाली चमक बरकरार है। क्योंकि उत्तर प्रदेश की राजनीति में सत्ता विरोधी लहर लगभग हर चुनाव में देखने को मिलती है। साथ ही जमीनी स्तर पर ये गठबंधन वोटों को भी जोड़ पाएगा ये भी एक बड़ा सवाल है। क्या मुस्लिम वोट एकजुट होकर सपा-कांग्रेस गठबंधन की तरफ जाएंगे या फिर बीएसपी उन्हें अपनी तरफ खींचने में कामयाब रहेगी? 

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन में टीम अखिलेश और टीम राहुल के सामने बड़ी चुनौती वोटों को एकजुट करने की भी है और अगर ये कामयाब रहे तो नतीजे वाकई चौंकाने वाले रहेंगे।

BY- अमन अहमद

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 
  • samachar plus
  • live-tv-uttrakhand
  • live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

  • आलोक वर्मा

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    23 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय। दैनिक जागरण, करंट न...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: