Headline • श्रीलंका के इस खिलाड़ी के पिता की गोली मारकर हत्या, अब वेस्टइंडिज दौरे पर लगा ग्रहण• उत्तर कोरिया ने परमाणु परीक्षण स्थल को किया ध्वस्त लेकिन नहीं माना अमेरिका, ट्रंप और किम की मुलाकात नहीं• मैदान में स्मार्ट घड़ी पहनकर नहीं खेले पाएंगे क्रिकेटर, आईसीसी ने लगाई रोक• ... देखें क्या हुआ जब प्रियंका चोपड़ा पर एक साथ चढ़ गए दर्जनों बच्चे..• पाकिस्तान में अल्पसंख्यक अहमदिया मस्जिद को गिरा दिया गया, अहमदियों से नफरत करते हैं सुन्नी• कभी हर फिल्म होती थी हिट अब रिलीज की भी नहीं हो रही है चर्चा• RLD से BJP में गए विधायक ने कहा, एएमयू का नाम बदल दिया जाए, सारा फसाद खुद की रूक जाएगा• 'असल जिंदगी में भी हम पीते हैं और गाली देते हैं, आज की लड़कियां सेक्स के लिए शादी का इंतजार नहीं करती'• BJP के सदन से वाॅक आउट के बीच कुमारस्वामी ने हासिल किया विश्वास मत, Cong के रमेश कुमार बने स्पीकर• ओमप्रकाश राजभर बोले, कुमारस्वामी के शपथ ग्रहण में सब दगे हुए कारतूस शामिल हुए, जीत मोदी की होगी• अनियमितता और बदइंतजामी के बीच श्रद्धालुओं ने लगाई गंगा दशहरा पर गंगा में डूबकी• लिफ्ट नहीं देने पर युवक को गोली से उड़ाया, लोगों ने पीछा किया गया तो बाग में छिप गया फिर...• तिरंगे में लिपटा जवान का पार्थिव शरीर गांव पहुंचा तो होर एक की जुबां पर थी जाबांजी की चर्चा• सलमान खान ने 'रेस 3' के लिए लिखा ये गाना• नाराज डाक कर्मियों ने मोदी के नाम पर चौराहे पर मांगी भीख, वादाखिलाफी का लगाया आरोप• टूरिस्ट वीजा पर आए चीनी नागरिकों की हिम्मत देखिए, पेपर मिल में शुरू कर दी व्यावसायिक गतिविधि• अमेरिकी अखरोट रोकेगा देवभूमि से युवाओं का पलायन को, जल्द ही अमल में लाई जाएगी योजना• 'संजू' के नए पोस्टर में रणबीर के साथ सोनम कपूर, जानें किसका निभा रही किरदार !• नैनीताल राजभवन में आज से 16वां गवर्नर गोल्फ कप टूर्नामेंट शुरू, 112 गोल्फर ले रहे हैं भाग• कहां है एंटी भूमाफिया स्काॅयड बैखौफ भूमाफिया ने थाने की जमीन का कर डाला सौदा• ब्रह्मपुत्र मेल में पांच माह की बच्ची की मौत,13 घंटे लेट चल रही थी ट्रेन• कनाड़ा :भारतीय रेस्टोरेंट में धमाका,15 लोग घायल,सामने आई दो संदिग्धों की तस्वीर• बेसिक शिक्षा अधिकारी का फरमान,शौचालय के साथ जमा करवाएं फोटो,वरना रोक दी जाएगी सैलरी• जब पीएम मोदी ने ममता बनर्जी दिखाया सही रास्ता, देखें वीडियो• यूपी पुलिस का गजब कारनामा,मुर्दे पर दर्ज की FIR, बनाया चोरी और जमीन कब्जाने का आरोपी


सियासत के गलियारों में कहा जाता है कि यहां कुछ भी स्थायी नहीं होता, ना दोस्ती और ना ही दुश्मनी। यहां तो मुद्दे भी स्थायी नहीं होते, वक्त के साथ उन्हें गढ़ा जाता है और जरूरत के मुताबिक फिर निकाल लिया जाता है। इसकी ताज़ा मिसाल समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के दरमियान बनी नई दोस्ती है। भले ही ये दोनों पार्टियां अब एक दूसरे के साथ हैं, लेकिन इन दोनों के बीच खटास का भी एक लंबा इतिहास रहा है।

कई बार मुलायम ने कांग्रेस का हाथ थामा, तो कई बार उसे छोड़ भी दिया। दोनों की इस दोस्ती का आगाज 1990 में तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी से हुआ। उस वक्त मुलायम सिंह यादव मुसलमानों के लिए कांग्रेस के समर्थन से एक अभियान चला रहे थे। कयास लगाए गए थे कि समाजवादी पार्टी और कांग्रेस का गठबंधन होगा, लेकिन अपने धोबी पछाड़ के लिए मशहूर मुलायम ने कांग्रेस को पटखनी दे दी।

कहा जाता है कि मुलायम ने सुबह 4.30 बजे तत्कालीन राज्यपाल सत्य नारायण रेड्डी को फोन कर विधानसभा भंग करने के लिए कहा था। कांग्रेस और सपा के बीच कभी खुशी और कभी गम का माहौल तभी से चला आ रहा है। कभी मुलायम ने कांग्रेस पर सीबीआई का उनके खिलाफ गलत इस्तेमाल करने का आरोप लगाया, तो 1999 को कौन भूल सकता है, जब कांग्रेस ने सोनिया गांधी को सत्ता तक पहुंचने से रोकने का समाजवादी पार्टी पर आरोप लगाया था। लेकिन इस बार हालात बदले-बदले से नज़र आते हैं।

दोनों ही पार्टियों के नई पीढ़ी के सियासतदां मैदान में हैं। अगर समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के दरमियान इस ताज़ा गठबंधन पर नजर डाली जाए तो आंकड़े यही बताते हैं कि टीम अखिलेश और टीम राहुल अगर जमीनी स्तर पर इस गठबंधन के मुताबिक वोट हासिल करने में कामयाब रहे तो उत्तर प्रदेश विधानसभा के नतीजे बेहद चौंकाने वाले साबित हो सकते हैं। अखिलेश और राहुल ने ये फैसला महज ऐसे ही नहीं ले लिया है। इसके पीछे एक गहरी सोच है। दरअसल समाजवादी पार्टी और कांग्रेस के बीच गठबंधन से प्रदेश की कई सीटों पर मामला हार से जीत में बदल सकता है।

अखिलेश ने 2012 में अकेले ही पूर्ण बहुमत की सरकार बनाई। प्रदेश में 29.15 प्रतिशत वोट समाजवादी पार्टी को मिले और कांग्रेस सूबे में चौथे नंबर पर रही। जिसे  11.63 प्रतिशत वोट मिले। दोनों के वोट जोड़ दिए जाएं तो ये आंकड़ा 40.78 प्रतिशत होता है। ये अपने आप में एक जादुई आंकड़ा है, क्योंकि यूपी की राजनीति में महज 25 से 30 प्रतिशत वोट हासिल करने वाली पार्टी सरकार बनाती आई हैं। लेकिन, तस्वीर के कई और पहलू भी हैं, क्या समाजवादी पार्टी और अखिलेश यादव के पास 2012 वाली चमक बरकरार है। क्योंकि उत्तर प्रदेश की राजनीति में सत्ता विरोधी लहर लगभग हर चुनाव में देखने को मिलती है। साथ ही जमीनी स्तर पर ये गठबंधन वोटों को भी जोड़ पाएगा ये भी एक बड़ा सवाल है। क्या मुस्लिम वोट एकजुट होकर सपा-कांग्रेस गठबंधन की तरफ जाएंगे या फिर बीएसपी उन्हें अपनी तरफ खींचने में कामयाब रहेगी? 

समाजवादी पार्टी और कांग्रेस गठबंधन में टीम अखिलेश और टीम राहुल के सामने बड़ी चुनौती वोटों को एकजुट करने की भी है और अगर ये कामयाब रहे तो नतीजे वाकई चौंकाने वाले रहेंगे।

BY- अमन अहमद

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: