top-advertisement

Headline • यहां लंगूर कर रहे EVM मशीन की सुरक्षा, बंदरों के आतंक से डरी पुलिस• चुनावी सभा में डिंपल के साथ हुआ ऐसा, हाथ जोड़कर बोलीं,- ''चुप रहो, वरना भाभी बात नहीं करेंगी''• मलाइका अरोड़ा के घर बर्थडे पार्टी में पहुंचे अरबाज खान, देखें तस्वीरें • IPL में इस प्लेयर की 3 करोड़ में लगी बोली, कहा- 'क्रिकेट मेरे पास नहीं होता, तो जरुर मैं कुली होता'• RSS के एजेंडे पर चल रही बीजेपी, बहुमत की सरकार बनाएगी BSP- मायावती• 'परिवार में झगड़ा न होता तो कांग्रेस से गठबंधन भी नहीं होता': अखिलेश यादव• कौशाम्बी के पास शिवगंगा एक्सप्रेस में लगी आग, दिल्ली हावड़ा रुट प्रभावित• मायावती आज सिद्धार्थनगर और फैजाबाद में करेंगी रैली, सीएम अखिलेश करेंगे 7 जनसभाओं को संबोधित, जानें पूरा शेड्यूल• राजनाथ सिंह आज 5 जनसभाओं को करेंगे संबोधित, अमित शाह पूर्वांचल में भरेंगे हुंकार • 'यह एक रचा हुआ ड्रामा था, जिसमें हम सभी को रोल दिया गया': अमर सिंह• ''सीएम अखिलेश गंगा की कसम खाकर कहें, क्या मुसलमानों के साथ इंसाफ किया': असदुद्दीन ओवैसी• बाल- बाल बचे भाजपा सांसद, हेलीकॉप्‍टर की करनी पड़ी आपात लैंडिंग• अखिलेश सरकार में कब्रिस्तान का बजट रहा दोगुना, तो बेहाल रहे श्मशान• अखिलेश पर योगी का पलटवार, कहा- 'देवा शरीफ में 24 घंटे बिजली, महादेव मंदिर में 4 घंटे भी नहीं' • अखिलेश सरकार का एक और कारनामा उजागर, मंत्री भी कर चुके हैं शिकायत, हाईकोर्ट ने मांगा जवाब• PM के लिए गोदनामा तैयार, जानें मोदी को कौन ले रहा है गोद• शंख बजाकर बोले शाह- सरकार बनते ही खत्म होगा गुंडाराज, मृत्युदंड देने का आया समय• मायावती ने BJP को बताया 'भारतीय जुमला पार्टी', कहा- 'चुनाव को हिंदू-मुस्लिम में बांट रही बीजेपी' • SSP का फर्जी FB अकाउंट : जब मैडम ही नहीं सुरक्षित, तो औरों को कैसे बचाएगी UP पुलिस• रितिक रोशन के बीच कथित प्रेम संबंधों का मशहूर मसला अब बीते दिनों की बात है: कंगना रनौत• डिप्रेशन में आ गए हैं अखिलेश, दिखने लगी है हार : विजय रुपाणी• टी. नटराजन जैसे युवा प्रतिभा को मौका मिलते रहना चाहिए: आर. अश्विन• 1 अप्रैल से जियो की फ्री सेवा होगी बंद, इसके बाद महज 10 रुपये में मिलेगा अनलिमिटेड सर्विस• इलाहबाद में BJP के रोड शो में भगवा साड़ी में दिखी महिलाएं, समर्थकों ने लगाए जय श्रीराम के नारे• लालू ने पीएम मोदी को बताया "इंडियन डोनाल्ड ट्रंप", नोटबंदी पर दी बहस की चुनौती

हमारे समाज में वैसे तो कहने के लिए स्त्रियों को देवी का दर्जा दिया जाता है। लेकिन, इसकी जमीनी हकीकत अगर देखें तो स्थिति उतनी ही भयावह है। ये बिल्कुल वैसी ही है जैसे किसी कुरुप वस्तु को सजा-धजा कर पेश कर दिया जाता है। बनावटी अमलीजामा इतना डरावाना होता है कि खुद महिलाओं को ये यकीन होने लगता है कि वो इसी तरह के जीवन जीने के लिए पैदा हुई हैं। फिर चाहे वो पढ़ी लिखी हो या नहीं।

ये स्थिति हर वर्ग की महिलाओं को ऐसा जीवन जीने के लिए बाध्य कर देती है। आधुनिक युग की महिलाओं की स्थिति तब और दयनीय हो जाती है। जब वो खुद को पुरुषों से प्रोफेशनल लाइफ में किसी तरह से पीछे नहीं मानती। लेकिन स्वंय इस प्रश्न का सामना करने से अक्सर डरती हैं कि क्या वाकई उनकी स्थति वैसी ही है जैसा उन्हें लगता है।

हमारे समाज में महिलाओं से उम्मींद की जाती है कि वो हर हाल में मुस्कुराती रहें। वो कितनी भी थकी हुई हो लेकिन उन्हें किसी से कुछ कहने का अधिकार नहीं है। मायके में उन्हें सिखाया जाता है कि उन्हें यह सब इसलिए करना और सिखना है क्योंकि उन्हें पराये घर में जाना है। जब ससुराल आती हैं तो उन्हें ये समझाया जाता हैं कि उन्हें सारे त्याग इसलिए करने हैं क्योंकि वो दूसरे के घर से आई हैं।

आखिर क्यों बहुओं के साथ ये अत्याचार करते हुए हमें अपने घरों में बैठी अपनी मां और बहनों की याद नहीं आती। जो दर्द हमें उनके लिए होता हैं वो हमें खुद के घर आई उस बेटी के लिए क्यों नहीं होता जिसे 'बहू' बुलाया जाता है।

उसे क्यों सिर्फ एक काम करने वाली मशीन समझकर ट्रीट किया जाता है। सारे एडजस्टमेंट क्यों उसी से करवाए जाते हैं। खाना हमारी पंसद से खाओ क्योंकि हमें ऐसा पसंद है। घर से बाहर निकलने के लिए भी दूसरों की पसंद को देखना पड़ता है। इस मेहमान से बात करो, इससे मत करो क्योंकि हम ये चाहते हैं। ऐसा करने वाले लोगों से ये सवाल होना चाहिए कि औरतों को कब तक रोबोट समझा जाएगा। कब तक पति के पसंद को वो समाज की परंपरा मानकर ढोती रहेगी।

आपको बता दें कि हमारे देश में ऐसे पुरुषों की भी कमी नहीं हैं जो ये समझते हैं अगर वो अपनी पत्नी की सहयता करेंगे तो उनकी पत्नियां सदैव उनसे सहायता की उम्मीद रखने लगेगी। बावजूद इस भय के अगर वो कभी जोश में उन्हें मदद करने भी लगे तो बाकी मौजूद पुरुष उन्हें उलहाना देने से बाज नहीं आते कि वो तो अब जोरू के गुलाम बन गए हैं।

क्या वाकई वो अपनी मां के बारे में भी ऐसा ही सोचते होंगे। जब उनके पापा ने उनकी मम्मी का हाथ घर के कामों में बंटाया होगा। महिलाएं कितनी भी थकी हुई क्यों ना हो पर उन्हें कहने का हक क्यों नही दिया जाता। पुरुष क्यों उनकी सहयता नहीं कर सकते। महिलाएं ऑफिस जाकर पुरुषों का हाथ बंटा सकती हैं तो पुरुष घर में महिलाओं का हाथ क्यों नहीं बंटा सकते।

मेरा ये ब्लॉक उन सभी पुरुषों के लिए हैं जो इस तरह की मानसिकता से पीड़ित हैं। जिनके लिए महिलाएं सिर्फ दासी हैं जिन्हें स्टेटस सिंबल बनाए रखने के लिए पढ़ी लिखी बीवी तो चाहिए। लेकिन घटिया मानसिकता के चलते उन्हें कामवाली बाई से ज्यादा का दर्जा नहीं देना चाहते।

 

- मंजू शर्मा ( Web Journalist)

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

advertisement1

  • samachar plus
  • live-tv-uttrakhand
  • live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

  • आलोक वर्मा

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    23 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय। दैनिक जागरण, करंट न...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
:

right-advertisement

left-advertisement