Headline • योगी की राह पर चले केजरीवाल, रद्द होंगी महापुरुषों के जन्म और निर्वाण दिवस की छुट्टियां• गाजियाबाद में पटाखा फैक्ट्री में ब्लास्ट, 5 की मौत• पेट्रोल पंप पर STF की छापेमारी, चिप लगाकर पेट्रोल की हो रही थी चोरी• इलाहाबाद विश्वविद्यालय में छात्रों का हंगामा, हॉस्टल खाली कराए जाने को लेकर बढ़ा विवाद• कांग्रेस जैसी हो गई है आप की हालत: कुमार विश्वास• पहले पत्थरबाजी बंद हो तब पैलेट गन बंद करने को कहेंगे: सुप्रीम कोर्ट• पुलिस वालों के लिए धरने पर बैठे 'अर्थी बाबा'• सीएम योगी आदित्यनाथ ने की शहीद कैप्टन के परिजनों को 30 लाख की मदद की घोषणा• 2 साल बाद मिल गया जवाब, इसलिए कटप्पा ने बाहुबली को मारा • आवास पर फरियादियों की भीड़ देख चढ़ा सीएम का पारा, सभी जिलों के DM-SP को भेजा फरमान• योगी सरकार बेटियों के लिए ला रही है बड़ी सौगात, होगी बेटी तो मिलेगा ये • सुकमा मे शहीद जवानों के बच्चों की पढ़ाई का जिम्मेदारी लिए गौतम गंभीर • योगी सरकार की अधिकारियों को चेतावनी, 9 से 6 बजे ऑफिस में दिखें, कभी भी आ सकता है CM का कॉल• BJP की महिला विधायक की गाड़ी का हुआ एक्सीडेंट, MLA समेत 3 लोग घायल • Baahubali 2: आज खत्म हो जाएगा सस्पेंस, 9000 स्क्रीन पर हो रही है रिलीज • STF का खुलासा, लखनऊ में डिवाइस लगा हो रही थी पेट्रोल की चोरी, 7 पेट्रोल पंप हुए सीज• अब पत्थरबाजों को जवाब देंगी बेटियां, 1000 महिला पुलिसकर्मियों की होगी भर्ती• बिलखते हुए बोली शहीद की मां- मोदी जी बताएं कब तक माताएं अपने बेटों की शहादत देती रहेंगी• JEE Main-2017: कंपाउंडर के बेटे ने बनाया 'अकल्पनीय' रिकॉर्ड, 100 प्रतिशत मार्क्स लाकर रचा इतिहास• ये हैं लखनऊ के नए SSP, ईमानदार होने की वजह से पिछली सरकार कर देती थी तबादला• भारत ने बैलिस्टिक मिसाइल अग्नि-3 का किया सफल परीक्षण• सुप्रीम कोर्ट के फैसले का मायावती ने किया स्वागत, कहां- केंद्र सरकार तत्काल नियुक्ति करे लोकपाल • कांग्रेस ने कराई थी मेरी गिरफ्तारी, जान से मारने की रची गई थी साजिश: साध्वी प्रज्ञा • अयोध्या में इस साल दशहरे में फिर से शुरू होगी रामलीला: सीएम योगी • CM योगी के साथ विनोद खन्ना की फोटो हुई वायरल, गोरखपुर आकर जमकर किया था प्रचार
दिक्कत से दिक्कत या दिक्कत सियासी है !

नोटबंदी से फिलहाल दिक्कत आम को भी और खास को भी दिक्कत तो है । और सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है सड़क से संसद तक नोटबंदी पर सवाल उठा रही पॉलिटिकल पार्टियों को । जो विरोध के लिए हवाला दे रहीं हैं लोगों को हो रहीं दिक्कतों का । तो क्या दिक्कत से दिक्कत है या दिक्कत की वजह कुछ और है ? ये समझने की जरुरत है । असल में आम लोगों की दिक्कतों का हवाला देकर विरोध करने वाली पॉलिटिकल पार्टी ये बताएं कि आम लोग क्या आज दिक्कत में हैं ? आम और गरीब क्या आज लाइन में लगे हैं ? राशन से लेकर अस्पताल, अस्पताल से लेकर सरकारी कार्यालय तक कभी देखा है बदहाल व्यवस्था से जूझते गरीब को ? यहां तक कि पूरे दिन मेहनत-मजदूरी करने वाले मजदूर को तो उसकी मजदूरी भी लाइन में ही लगकर मिलती है । जिसकी ये गैरंटी भी नहीं कि मिलेगी भी कि नहीं । ना जाने कितने लोग सरकारी अस्पताल में बिना इलाज के दम तोड़ देते हैं । कभी देखा है जब गरीब को रिश्वत ना देने पर सरकारी अस्पताल से धक्के मारकर निकाल दिया जाता है । तो वहीं निजी अस्पताल बिना पैसे दिए इलाज करने से इंकार कर देते हैं । कई तो इसलिए जान गंवा देते हैं क्योंकि अस्पताल में डॉक्टर ही नहीं है । कभी देखा है किसी पीड़ित को जो थाने के चक्कर काट-काटकर थक जाता है मगर बिना पैसे दिए इंसाफ तो दूर पुलिस सुनती भी नहीं औऱ वो इसलिए आत्महत्या कर लेता है । कभी गौर किया है जब एक गरीब की बेटी दहेज ना देने पर जला दी जाती है । देश में ना कितने ही गरीब बिन पैसे भूखे पेट सो जाते हैं । क्या कभी उनका दर्द समझने की कोशिश की किसी ने ? कभी सोचा है उन युवाओं के बारे में जो पढ़-लिखकर भी बेरोजगार है । नौकरी नहीं तो पैसे कहां से ? नौकरी के लिए भी तो रिश्वत ही चलती है । बिन मुआवजे के किसान आत्महत्या कर लेता है । बिन पैसे सब सून । फिर दिक्कत आज ही क्यों ? ये सोचने का विषय है कि विरोध की असल वजह है क्या ?  यूपी सरकार ने एलान किया कि कुछ दिन के लिए पुराने नोट रजिस्ट्री में स्वीकार्य होंगे । अब सोचिए क्या गरीब आदमी प्रोपर्टी खरीदेगा ? पहले वो पेट तो भर ले । प्रोपर्टी लेने-बेचने की उसकी हैसियत होती तो वो गरीब नहीं होता । तो सोचिए ये फैसला किनके लिए ? हां अगर राहत देनी ही है तो कुछ ऐसा कीजिए सरकार कि गरीब अपने पुराने नोट भी चला लें और अपना काम धंधा छोड़कर लम्बी लाइनों में भी ना लगना पड़े । यूपी के ही आजमगढ़ में कुछ बच्चों ने अपनी गुल्लक तोड़कर खुले पैसे के जरिए लोगों की मदद के लिए सरकारी अस्पताल में स्टॉल लगाए और काफी लोगों की मदद भी की । कुछ ऐसा ही कर देते । और कुछ नहीं तो सख्त निर्देश अस्पतालों को ही दे दिए जाते कि नोटबंदी की वजह से किसी का इलाज ना रुके । तो क्या ये अस्पताल इलाज के लिए इंकार कर देते ? जहां पुराने नोटों की स्वीकार्यता के सख्त आदेश हैं कम से कम वहां तो ये नोट स्वाकार्य हों  ये प्रतिबद्धता ही दिखा देते । तो क्या जनता यूं परेशान होती ! ये सवाल उन सभी राजनीतिक दलों से । जिनकी कहीं ना कहीं राज्य में अपनी सरकार है । क्या विरोध करने भर से जिम्मेदारी पूरी हो जाती है ? वाकई चिंता है तो सवाल के बजाए समाधान ढूंढिए । माना फैसला केंद्र सरकार का है मगर प्रदेश में तो सरकार आप भी हैं । जनता के प्रति जिम्मेदारी तो आपकी भी है । जनादेश तो आपको भी मिला । फिर कोशिश आपकी की तरफ से क्यों नहीं ? इसलिए ये सवाल कि दिक्कत के लिए दिक्कत है या दिक्कत सियासी है ? 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 
  • samachar plus
  • live-tv-uttrakhand
  • live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

  • आलोक वर्मा

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    23 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय। दैनिक जागरण, करंट न...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: