Headline • सरकार चली गई लेकिन सपाइयों की हनक नहीं गई, चौकी में घुस कर पुलिसकर्मियों से की बदसलूकी• सोनिया के संसदीय क्षेत्र में कानून-व्यवस्था रसातल पर, घर में सोए पिता-पुत्र की गला रेत कर हत्या• क्या करेगा एंटी भूमाफिया स्कवॉयड, जब बीजेपी विधायक की नजर दूसरे की जमीन पर गढ़ गई• मलाइका अरोड़ा ने ऐसे सेलिब्रेट किया अपना बर्थडे, देखें PHOTO...• पुलिस नहीं, ग्रामीणों ने दिखाई बहादुरी, लूटकर भाग रहे एक बदमाश को धर दबोचा• बीजेपी के वरिष्ठ नेता विनय कटियार ने कहा-'ताजमहल पहले शिव मंदिर था,शाहजहां ने...'• वोडाफोन लेकर आया अब तक सबसे सस्ता 4G फोन, जानें क्या होगी कीमत !• ईशा देओल ने अपनी बेटी का रखा ये नाम, पहले से ही...• आजमगढ़ में मायावती ने फिर कहा, सहारनपुर में बीजेपी मेरी हत्या कराना चाहती थी• पिता ने अपनी ही बेटियों को ट्रेन से फेंका, हालत गंभीर• FB पर हुई दोस्ती, BF ने अपनी GF को मिलने के लिए बुलाया तो...• सपा चैयरमैन ने किया धर्म परिवर्तन, ममता पांडेय से बनीं सबा खान...• ताजमहल में चालीसा पढ़ने वालों ने कहा -'जब नमाज पढ़ी जा सकती है तो...'• शौच के लिए गई 10वीं की छात्रा से रेप, बेहोश हुई तो...• आगरा एक्सप्रेस-वे पर हरक्यूलिस,जगुआर और सुखोई ने दुनिया को दिखाया भारत का दम• मामूली विवाद के चलते रिटायर्ड दरोगा के बेटे को मारी गोली, अस्पताल में भर्ती• SC ने कहा- देशभक्ति साबित करने के लिए सिनेमा हॉल में राष्ट्रगान...• नहाय-खाय से आज शुरू हुआ छठ पर्व, पहले दिन...• इस गांव में है सांड का आतंक, घर में घुसकर लोगों को...• आज बसपा सुप्रीमो मायावती की आजमगढ़ में रैली, जानें क्या है कार्यक्रम• ताजमहल के गेट पर बम की सूचना से मचा हडकंप, जांच की तो पता चला...• पुलिस को मिली बड़ी कामयाबी, मुठभेड़ कर गिरफ्तार किया 15 हजार का इनामी बदमाश• कश्मीर नीति पर मोदी सरकार ने मारी पलटी, अब हर एक से करेगी बातचीत, प्रतिनिधि नियुक्त• नोएडा में बुजुर्ग ने धारदार हथियार से युवती पर किया हमला, दिल्ली रेफर• पूर्व आईपीएस ने टीम इंडिया पर कर दी ऐसी टिप्पणी कि हरभजन सिंह को करारा जवाब देना पड़ा

दिक्कत से दिक्कत या दिक्कत सियासी है !

नोटबंदी से फिलहाल दिक्कत आम को भी और खास को भी दिक्कत तो है । और सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है सड़क से संसद तक नोटबंदी पर सवाल उठा रही पॉलिटिकल पार्टियों को । जो विरोध के लिए हवाला दे रहीं हैं लोगों को हो रहीं दिक्कतों का । तो क्या दिक्कत से दिक्कत है या दिक्कत की वजह कुछ और है ? ये समझने की जरुरत है । असल में आम लोगों की दिक्कतों का हवाला देकर विरोध करने वाली पॉलिटिकल पार्टी ये बताएं कि आम लोग क्या आज दिक्कत में हैं ? आम और गरीब क्या आज लाइन में लगे हैं ? राशन से लेकर अस्पताल, अस्पताल से लेकर सरकारी कार्यालय तक कभी देखा है बदहाल व्यवस्था से जूझते गरीब को ? यहां तक कि पूरे दिन मेहनत-मजदूरी करने वाले मजदूर को तो उसकी मजदूरी भी लाइन में ही लगकर मिलती है । जिसकी ये गैरंटी भी नहीं कि मिलेगी भी कि नहीं । ना जाने कितने लोग सरकारी अस्पताल में बिना इलाज के दम तोड़ देते हैं । कभी देखा है जब गरीब को रिश्वत ना देने पर सरकारी अस्पताल से धक्के मारकर निकाल दिया जाता है । तो वहीं निजी अस्पताल बिना पैसे दिए इलाज करने से इंकार कर देते हैं । कई तो इसलिए जान गंवा देते हैं क्योंकि अस्पताल में डॉक्टर ही नहीं है । कभी देखा है किसी पीड़ित को जो थाने के चक्कर काट-काटकर थक जाता है मगर बिना पैसे दिए इंसाफ तो दूर पुलिस सुनती भी नहीं औऱ वो इसलिए आत्महत्या कर लेता है । कभी गौर किया है जब एक गरीब की बेटी दहेज ना देने पर जला दी जाती है । देश में ना कितने ही गरीब बिन पैसे भूखे पेट सो जाते हैं । क्या कभी उनका दर्द समझने की कोशिश की किसी ने ? कभी सोचा है उन युवाओं के बारे में जो पढ़-लिखकर भी बेरोजगार है । नौकरी नहीं तो पैसे कहां से ? नौकरी के लिए भी तो रिश्वत ही चलती है । बिन मुआवजे के किसान आत्महत्या कर लेता है । बिन पैसे सब सून । फिर दिक्कत आज ही क्यों ? ये सोचने का विषय है कि विरोध की असल वजह है क्या ?  यूपी सरकार ने एलान किया कि कुछ दिन के लिए पुराने नोट रजिस्ट्री में स्वीकार्य होंगे । अब सोचिए क्या गरीब आदमी प्रोपर्टी खरीदेगा ? पहले वो पेट तो भर ले । प्रोपर्टी लेने-बेचने की उसकी हैसियत होती तो वो गरीब नहीं होता । तो सोचिए ये फैसला किनके लिए ? हां अगर राहत देनी ही है तो कुछ ऐसा कीजिए सरकार कि गरीब अपने पुराने नोट भी चला लें और अपना काम धंधा छोड़कर लम्बी लाइनों में भी ना लगना पड़े । यूपी के ही आजमगढ़ में कुछ बच्चों ने अपनी गुल्लक तोड़कर खुले पैसे के जरिए लोगों की मदद के लिए सरकारी अस्पताल में स्टॉल लगाए और काफी लोगों की मदद भी की । कुछ ऐसा ही कर देते । और कुछ नहीं तो सख्त निर्देश अस्पतालों को ही दे दिए जाते कि नोटबंदी की वजह से किसी का इलाज ना रुके । तो क्या ये अस्पताल इलाज के लिए इंकार कर देते ? जहां पुराने नोटों की स्वीकार्यता के सख्त आदेश हैं कम से कम वहां तो ये नोट स्वाकार्य हों  ये प्रतिबद्धता ही दिखा देते । तो क्या जनता यूं परेशान होती ! ये सवाल उन सभी राजनीतिक दलों से । जिनकी कहीं ना कहीं राज्य में अपनी सरकार है । क्या विरोध करने भर से जिम्मेदारी पूरी हो जाती है ? वाकई चिंता है तो सवाल के बजाए समाधान ढूंढिए । माना फैसला केंद्र सरकार का है मगर प्रदेश में तो सरकार आप भी हैं । जनता के प्रति जिम्मेदारी तो आपकी भी है । जनादेश तो आपको भी मिला । फिर कोशिश आपकी की तरफ से क्यों नहीं ? इसलिए ये सवाल कि दिक्कत के लिए दिक्कत है या दिक्कत सियासी है ? 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: