Headline • केंद्र सरकार ने दिया बड़ा तोहफा, अब 1.5 लाख में नहीं बस इतने रुपए में बदल जाएंगे आपके घुटने• 81 लाख आधार कार्ड हुए बंद,ऐसे करें चेक कहीं आपका भी तो नहीं हो गया डिएक्टिवेट• बड़ी खबर: अखिलेश यादव को औरैया पुलिस ने हिरासत में लिया• अंकि‍ता लोखंडे ने इंस्टा पर शेयर की ये फोटो, फैन्स बोले....• यूपी का यह खिलाड़ी है प्रो कबड्डी में सबसे महंगा प्लेयर• श्रीनगर के लाल चौक पर तिरंगा फहराकर भारत मां की जय बोलने वाली महिला को सुरेश रैना ने किया Salute• जन्माष्टमी पर CM योगी आदित्यनाथ ने दिया ये बड़ा बयान, कहा सड़क पर ईद की नमाज..• रेप की घटना पर दिव्‍यांका त्रिपाठी ने कहा -'मोदी जी,बेटी पैदा करने से अब डर लगता है'• बड़ी खबर: गोरखपुर के बीआरडी अस्पताल में दो दिन में 35 और बच्चों ने तोड़ा दम • गोरखपुर के DM की रिपोर्ट में हुआ बड़ा खुलासा,इनकी लापरवाही से गई बच्चों की जान• PM मोदी की बड़ी जीत, US ने हिज्बुल मुजाहिदीन को घोषित किया अंतरराष्ट्रीय आतंकी संगठन• सोनिया गांधी के खोजनेवाले को मिलेगा ईनाम, पोस्टर में लापता हुईं कांग्रेस अध्यक्ष• पुलवामा में लश्कर का टॉप कमांडर अयुब ढेर, घाटी को आतंकीमुक्त करने में जुटे जवान • UP के इस जिले में खौफ में बीत रही लोगों की रातें, घर से निकलने में भी लग रहा डर• पूर्वांचल में भी बाढ़ का खतरा, बढ़ रहा नदी का जलस्तर• एक्टर वरुण धवन ने जारी किया ‘जुड़वा 2’ का पोस्टर • सैफ की बर्थडे पार्टी में ग्लैमरस लुक में दिखी बेटी सारा, देखें PHOTOS• नॉर्थ कोरिया की ताकत से अनजान नहीं है US, कहा- 'मिसाइल के लिए इंजन भी बनाता है NK' • एक घंटे में इस SP  ने किया 50 हजार के इनामी बदमाश को ढ़ेर, ग्रामीण बोले-कप्तान साहब जिंदाबाद • खुलासा: 'रोहित वेमुला ने इस वजह से की थी खुदकुशी, दलित नहीं..'• अमेरिकी रिपोर्ट में दावा, पाकिस्तान में मुसलमानों के अलावा किसी को भी नहीं है धार्मिक अजादी • अनुष्का पहुंचीं विराट को जीत की बधाई देने, फोटो हुई वायरल• BJP कार्यकर्ताओं ने किया राष्ट्रध्वज का अपमान, पार्टी के झंडे के नीचे फहराया तिरंगा• 4 साल बाद एस. श्रीसंत से हटाया गया बैन, लंबे समय बाद प्रैक्टिस के लिए मैदान में दिखे• जान हथेली पर रखकर बच्चे यहां पढ़ते हैं

दिक्कत से दिक्कत या दिक्कत सियासी है !

नोटबंदी से फिलहाल दिक्कत आम को भी और खास को भी दिक्कत तो है । और सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है सड़क से संसद तक नोटबंदी पर सवाल उठा रही पॉलिटिकल पार्टियों को । जो विरोध के लिए हवाला दे रहीं हैं लोगों को हो रहीं दिक्कतों का । तो क्या दिक्कत से दिक्कत है या दिक्कत की वजह कुछ और है ? ये समझने की जरुरत है । असल में आम लोगों की दिक्कतों का हवाला देकर विरोध करने वाली पॉलिटिकल पार्टी ये बताएं कि आम लोग क्या आज दिक्कत में हैं ? आम और गरीब क्या आज लाइन में लगे हैं ? राशन से लेकर अस्पताल, अस्पताल से लेकर सरकारी कार्यालय तक कभी देखा है बदहाल व्यवस्था से जूझते गरीब को ? यहां तक कि पूरे दिन मेहनत-मजदूरी करने वाले मजदूर को तो उसकी मजदूरी भी लाइन में ही लगकर मिलती है । जिसकी ये गैरंटी भी नहीं कि मिलेगी भी कि नहीं । ना जाने कितने लोग सरकारी अस्पताल में बिना इलाज के दम तोड़ देते हैं । कभी देखा है जब गरीब को रिश्वत ना देने पर सरकारी अस्पताल से धक्के मारकर निकाल दिया जाता है । तो वहीं निजी अस्पताल बिना पैसे दिए इलाज करने से इंकार कर देते हैं । कई तो इसलिए जान गंवा देते हैं क्योंकि अस्पताल में डॉक्टर ही नहीं है । कभी देखा है किसी पीड़ित को जो थाने के चक्कर काट-काटकर थक जाता है मगर बिना पैसे दिए इंसाफ तो दूर पुलिस सुनती भी नहीं औऱ वो इसलिए आत्महत्या कर लेता है । कभी गौर किया है जब एक गरीब की बेटी दहेज ना देने पर जला दी जाती है । देश में ना कितने ही गरीब बिन पैसे भूखे पेट सो जाते हैं । क्या कभी उनका दर्द समझने की कोशिश की किसी ने ? कभी सोचा है उन युवाओं के बारे में जो पढ़-लिखकर भी बेरोजगार है । नौकरी नहीं तो पैसे कहां से ? नौकरी के लिए भी तो रिश्वत ही चलती है । बिन मुआवजे के किसान आत्महत्या कर लेता है । बिन पैसे सब सून । फिर दिक्कत आज ही क्यों ? ये सोचने का विषय है कि विरोध की असल वजह है क्या ?  यूपी सरकार ने एलान किया कि कुछ दिन के लिए पुराने नोट रजिस्ट्री में स्वीकार्य होंगे । अब सोचिए क्या गरीब आदमी प्रोपर्टी खरीदेगा ? पहले वो पेट तो भर ले । प्रोपर्टी लेने-बेचने की उसकी हैसियत होती तो वो गरीब नहीं होता । तो सोचिए ये फैसला किनके लिए ? हां अगर राहत देनी ही है तो कुछ ऐसा कीजिए सरकार कि गरीब अपने पुराने नोट भी चला लें और अपना काम धंधा छोड़कर लम्बी लाइनों में भी ना लगना पड़े । यूपी के ही आजमगढ़ में कुछ बच्चों ने अपनी गुल्लक तोड़कर खुले पैसे के जरिए लोगों की मदद के लिए सरकारी अस्पताल में स्टॉल लगाए और काफी लोगों की मदद भी की । कुछ ऐसा ही कर देते । और कुछ नहीं तो सख्त निर्देश अस्पतालों को ही दे दिए जाते कि नोटबंदी की वजह से किसी का इलाज ना रुके । तो क्या ये अस्पताल इलाज के लिए इंकार कर देते ? जहां पुराने नोटों की स्वीकार्यता के सख्त आदेश हैं कम से कम वहां तो ये नोट स्वाकार्य हों  ये प्रतिबद्धता ही दिखा देते । तो क्या जनता यूं परेशान होती ! ये सवाल उन सभी राजनीतिक दलों से । जिनकी कहीं ना कहीं राज्य में अपनी सरकार है । क्या विरोध करने भर से जिम्मेदारी पूरी हो जाती है ? वाकई चिंता है तो सवाल के बजाए समाधान ढूंढिए । माना फैसला केंद्र सरकार का है मगर प्रदेश में तो सरकार आप भी हैं । जनता के प्रति जिम्मेदारी तो आपकी भी है । जनादेश तो आपको भी मिला । फिर कोशिश आपकी की तरफ से क्यों नहीं ? इसलिए ये सवाल कि दिक्कत के लिए दिक्कत है या दिक्कत सियासी है ? 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: