Headline • अतिक्रमण हटाने के दौरान अभद्रता करने पर पुलिस ने ली बीजेपी नेता की जमकर क्लास, ठुकाई के बाद एफआईआर • क्र‍िस गेल ने सपना चौधरी के इस हिट गाने पर किया डांस, सोशल मीडिया पर वायरल• खुलेआम दी प्रशासन और 4 विधायकों को दी धमकी, कहा, समर्थकों को कुछ हुआ तो खैर नहीं• राहुल गांधी ने साधा निशाना,कहा- मोदी जी अब नया नारा देंगे 'बेटी बचाओ, BJP के लोगों से बचाओ'• पति विवेक की इस हरकत से परेशान हो गई दिव्यांका, उठाया ये कदम• 80 के दशक के इस गाने पर डांस करेंगे माधुरी और अनिल कपूर• पति रहता है विदेश, ससुर बना रहा है अवैध संबंध का दवाब, नहीं हुई सुनवाई तो महिला पहुंचीं कोर्ट• नोएडा : STF को मिली बड़ी सफलता,मुठभेड़ में ढेर किया 2 लाख का इनामी बदमाश बलराज भाटी• गाजियाबाद : चलते ऑटो और कार पर गिरा मेट्रो का गार्डर, कई लोग घायल• उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने खारिज किया CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग नोटिस• बरेली : एटीएम से निकले 500 रुपये के चूरन वाले नोट,लिखा है- मैं धारक को 500 कूपन अदा करने का वचन देता हूं'• VHP कार्यकर्ता ने मुस्लिम ड्राइवर होने की वजह से कैंसिल की कैब, ओला ने दिया ये जवाब• BJP सांसद अनिल अग्रवाल के स्कूल में युवक की गोली मारकर हत्या• गाजियाबाद : पुलिस ने बरामद की 11 साल की लापता बच्ची, मदरसे का मौलवी गिरफ्तार• मेरठ में लगी भीषण आग,100 से ज्यादा झुग्गी झोपड़ी खाक• घर पर कुर्की नोटिस चस्पा कर रही थी पुलिस,सामने खड़ा होकर हंसता रहा इनामी भीम आर्मी का अध्यक्ष• लड़की ने लड़का बनकर लड़की से की शादी,अब बोल रही- अगर अलग किया तो दोनों मर जाएंगे• ग्रेटर नोएडा : पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़,25 हजार का इनामी बदमाश गिरफ्तार, कांस्टेबल घायल• नशे में टल्ली होकर युवतियों ने काटा हंगामा, वीडियो वायरल• महाराष्ट्र: सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, मुठभेड़ कर मार गिराए 14 नक्सली• अफगानिस्तान : काबुल में वोटिंग रजिस्ट्रेशन सेंटर के बाहर आत्मघाती हमला, 31 की मौत• जब अचानक गेहूं मंडी का निरीक्षण करने पहुंच गए सीएम योगी,किसानों से पूछी समस्याएं• गाजियाबाद पहुंचे बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, जानें क्या-क्या कहा• खौफ के साए में यूपी पुलिस का दरोगा,बदमाशों के डर से परिवार सहित किया पलायन• 10 साल तक गैंगरेप, सोती रही बिजनौर पुलिस, अब मेरठ पुलिस के पास पहुंची पीड़िता

दिक्कत से दिक्कत या दिक्कत सियासी है !

नोटबंदी से फिलहाल दिक्कत आम को भी और खास को भी दिक्कत तो है । और सबसे ज्यादा दिक्कत हो रही है सड़क से संसद तक नोटबंदी पर सवाल उठा रही पॉलिटिकल पार्टियों को । जो विरोध के लिए हवाला दे रहीं हैं लोगों को हो रहीं दिक्कतों का । तो क्या दिक्कत से दिक्कत है या दिक्कत की वजह कुछ और है ? ये समझने की जरुरत है । असल में आम लोगों की दिक्कतों का हवाला देकर विरोध करने वाली पॉलिटिकल पार्टी ये बताएं कि आम लोग क्या आज दिक्कत में हैं ? आम और गरीब क्या आज लाइन में लगे हैं ? राशन से लेकर अस्पताल, अस्पताल से लेकर सरकारी कार्यालय तक कभी देखा है बदहाल व्यवस्था से जूझते गरीब को ? यहां तक कि पूरे दिन मेहनत-मजदूरी करने वाले मजदूर को तो उसकी मजदूरी भी लाइन में ही लगकर मिलती है । जिसकी ये गैरंटी भी नहीं कि मिलेगी भी कि नहीं । ना जाने कितने लोग सरकारी अस्पताल में बिना इलाज के दम तोड़ देते हैं । कभी देखा है जब गरीब को रिश्वत ना देने पर सरकारी अस्पताल से धक्के मारकर निकाल दिया जाता है । तो वहीं निजी अस्पताल बिना पैसे दिए इलाज करने से इंकार कर देते हैं । कई तो इसलिए जान गंवा देते हैं क्योंकि अस्पताल में डॉक्टर ही नहीं है । कभी देखा है किसी पीड़ित को जो थाने के चक्कर काट-काटकर थक जाता है मगर बिना पैसे दिए इंसाफ तो दूर पुलिस सुनती भी नहीं औऱ वो इसलिए आत्महत्या कर लेता है । कभी गौर किया है जब एक गरीब की बेटी दहेज ना देने पर जला दी जाती है । देश में ना कितने ही गरीब बिन पैसे भूखे पेट सो जाते हैं । क्या कभी उनका दर्द समझने की कोशिश की किसी ने ? कभी सोचा है उन युवाओं के बारे में जो पढ़-लिखकर भी बेरोजगार है । नौकरी नहीं तो पैसे कहां से ? नौकरी के लिए भी तो रिश्वत ही चलती है । बिन मुआवजे के किसान आत्महत्या कर लेता है । बिन पैसे सब सून । फिर दिक्कत आज ही क्यों ? ये सोचने का विषय है कि विरोध की असल वजह है क्या ?  यूपी सरकार ने एलान किया कि कुछ दिन के लिए पुराने नोट रजिस्ट्री में स्वीकार्य होंगे । अब सोचिए क्या गरीब आदमी प्रोपर्टी खरीदेगा ? पहले वो पेट तो भर ले । प्रोपर्टी लेने-बेचने की उसकी हैसियत होती तो वो गरीब नहीं होता । तो सोचिए ये फैसला किनके लिए ? हां अगर राहत देनी ही है तो कुछ ऐसा कीजिए सरकार कि गरीब अपने पुराने नोट भी चला लें और अपना काम धंधा छोड़कर लम्बी लाइनों में भी ना लगना पड़े । यूपी के ही आजमगढ़ में कुछ बच्चों ने अपनी गुल्लक तोड़कर खुले पैसे के जरिए लोगों की मदद के लिए सरकारी अस्पताल में स्टॉल लगाए और काफी लोगों की मदद भी की । कुछ ऐसा ही कर देते । और कुछ नहीं तो सख्त निर्देश अस्पतालों को ही दे दिए जाते कि नोटबंदी की वजह से किसी का इलाज ना रुके । तो क्या ये अस्पताल इलाज के लिए इंकार कर देते ? जहां पुराने नोटों की स्वीकार्यता के सख्त आदेश हैं कम से कम वहां तो ये नोट स्वाकार्य हों  ये प्रतिबद्धता ही दिखा देते । तो क्या जनता यूं परेशान होती ! ये सवाल उन सभी राजनीतिक दलों से । जिनकी कहीं ना कहीं राज्य में अपनी सरकार है । क्या विरोध करने भर से जिम्मेदारी पूरी हो जाती है ? वाकई चिंता है तो सवाल के बजाए समाधान ढूंढिए । माना फैसला केंद्र सरकार का है मगर प्रदेश में तो सरकार आप भी हैं । जनता के प्रति जिम्मेदारी तो आपकी भी है । जनादेश तो आपको भी मिला । फिर कोशिश आपकी की तरफ से क्यों नहीं ? इसलिए ये सवाल कि दिक्कत के लिए दिक्कत है या दिक्कत सियासी है ? 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: