Headline • तंमचा लेकर डिस्को डांस करना पड़ा भारी, वीडियो वायरल होने के बाद...• जम्मू कश्मीर में आतंकियों ने किया महिलाओं पर हमला, एक की मौत, एक घायल• प्रोपर्टी के विवाद में छोटे भाई ने बड़े भाई...• 'गोलमाल अगेन' ने बॉक्स ऑफिस पर तोड़े सारे रिकॉर्ड, बाहुलबली 2 से...• पूजा करने खेत में गई थी महिला और अचानक...• घर से बुलाकर ले गए गांव के पांच लड़के और इसके बाद...• INDvNZ: टीम इंडिया को लगा बड़ा झटका, शिखर ध्वन हुए आउट• सीएम योगी करेंगे ताजमहल का दौरा, झाड़ू लगाकर...• आदित्य पंचोली को फोन पर मिल रही है धमकी, वर्सोवा पुलिस स्टेशन में...• यमुना ब्रिज से नदी में कूदी छात्रा, गोताखोरों ने ऐसे बचाई जान• परिवार के साथ माधुरी ने देखा ताज, ट्वीट कर कहा...• अखिलेश यादव ने कहा-'2019 में समाजवादी पार्टी....'• भगवान राम की आरती करने वाली मुस्लिम महिलाओं पर जारी हुआ फतवा, इस्लाम से...• पटाखा जलाने को लेकर हुआ विवाद, दर्जनों घायल, तीन की हालात गंभीर• हार्दिक पटेल को लगा बड़ा झटका, दो करीबी नेता बीजेपी में शामिल• अस्पताल में ऑक्सीजन न मिलने से मरीज ने तोड़ा दम, परिजनों ने...• गुजरात : विधानसभा चुनाव से पहले PM मोदी ने शुरू की 'फेरी सेवा'• कोयली देवी का गांव में रहना हुआ मुश्किल, गांव वालों ने...• जम्मू कश्मीर : सुरक्षाबलों ने मुठभेड़ कर मार गिराया एक आंतकवादी• दुर्गा विसर्जन के दौरान SP ने बंद कराया डीजे, किन्नरों ने किया हंगामा• दबंगों ने बरसाई गोली, कपड़ा व्यापारी ने ऐसे बचाई अपनी जान• घर से बाहर बुलाकर बदमाशों ने युवक को मारी गोली, हत्या के बाद तमंचा...• सेक्स चेंज कर लड़का से लड़की बन गया, अब बिकनी पहनने से कतरा रही है गौरी• 'ये सिर्फ सेक्स की बात नहीं है, बल्कि ये पावर का मामला है और ये एक हकीकत है'• मेरा नाम सपना चौधरी, हरियाणे की हूं मैं कतई हार ना माणूं

देश से छुआछूत मिटाने के नाम पर RTI का बड़ा खुलासा

मुरादाबाद- देश से छुआछूत मिटाने के नाम पर केंद्र सरकार ने पानी की तरह पैसा बहाया है। इसके बावजूद भी समाज में अभिशाप बनी यह सामाजिक कुरीतियां ग्रामीण अंचल में अभी खत्म तो नहीं हुई लेकिन जनता का अरबो रुपया इस भेदभाव को खत्म करने के नाम पर खर्च हो गया है। चालू वित्तीय वर्ष के जुलाई माह तक केंद्र सरकार राज्यों को पांच हजार लाख रुपए से अधिक अवमुक्त कर चुकी है। इसमें उत्तर प्रदेश को सबसे ज्यादा ग्यारह सौ लाख रुपए मिले हैं। उत्तर प्रदेश ही नहीं महाराष्ट्र ,मध्य प्रदेश ,राजिस्थान और गुजरात को भी इस भेदभाव को मिटाने के लिए खूब बजट दिया गया। जबकि झारखंड ,उतराखंड ,असम ,पश्चिम बंगाल ,दिल्ली यह कुछ ऐसे राज्य हैं, जहाँ इन चैदह सालों में कुछ लाख रुपए ही दिए गए।

मुरादाबाद निवासी पवन अग्रवाल नामक आरटीआई कार्यकर्ता ने यह खुलासा बढ़ा किया हैं जिन्होंने इसी साल जुलाई 2014 को प्रधानमन्त्री कार्यालय से एक आरटीआई मांगी थी, जिसमे पूछा गया था, कि देश में छुआछूत मिटाने के नाम पिछले चैदह साल में राज्यों और ,नजीओ को वर्षवार कितने रुपए दिए गए तो प्रधानमन्त्री कार्यालय से जो जवाब मिला वह चैकाने वाला था, आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश को इस अवधि में दस हजार लाख रुपए से भी अधिक की धनराशि आवंटित की गई है, इसके बावजूद उत्तर प्रदेश के हजारो गांव ऐसे हैं, जहाँ न तो अभी छुआछूत मिटी और न ही भेदभाव का अंत हुआ।

दरअसल में केंद्र सरकार प्रदेश की सरकारों को यह धन आवंटित करती है। इस धन को फिर जिलों में बांटा जाता है जिन जगहों पर भेदभाव के मामले ज्यादा मिलते हैं, इन्ही हिसाब से धनराशि मिलती है। अगर उत्तर प्रदेश की बात करें तो पूर्वांचल ,बुन्देलखंड और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हजारों गांव ऐसे हैं, जहाँ अभी भी छुआछूत मौजूद है, जात-पात के नाम पर भेदभाव अभी भी जारी है।

वहीं आरटीआई क्टिविट पवन अग्रवाल का कहना है कि, सरकार ने छुआछूत मिटाने के लिए पैसा तो खूब खर्च किया, लेकिन जिस राज्य को पैसे की ज्यादा जरुरत थी, वहां पैसा सबसे कम दिया गया और वहां गलत तरीके से पैसे को आवंटित करके पैसे का दुरुपयोग किया गया है।

 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: