top-advertisement

Headline • मौलाना मदनी ने PM मोदी की इस योजना का किया समर्थन• UP ELECTION : तीसरे चरण का मतदान समाप्त, कहीं हुई फायरिंग, तो कहीं हुआ लाठीचार्ज• यूपी चुनाव : तीसरे चरण का मतदान संपन्न, वोटरों में दिखा उत्साह, 61.16 फीसदी पड़े वोट• बीजेपी कैंडिडेट का आरोप, कहा- 'BJP कार्यकर्ताओं को धमका रहे थे शिवपाल'• रायबरेली में दर्दनाक सड़क हादसा, आठ बारातियों की मौत• धार्मिक भेदभाव पर बोले PM, कहा- 'रमजान में बिजली आती है तो दिवाली में भी आनी चाहिए'• UPPOLL: 3 बजे तक रिकॉर्ड 53 फीसदी मतदान, 56% वोटिंग के साथ सीतापुर टॉप • आतंकवाद के नाम पर मुस्लिमों को किया जाता है परेशान - मायावती• मुलायम की "छोटी बहू" पर किसने लगाया शराब और पैसे बांटने का आरोप?• SCPCR ने PM को भेजा नेटिस, कहा- 7 दिन के अंदर मांगे माफी या दें जवाब• तीसरे फेज में ही अखिलेश ने मानी हार, मीडिया के सामने नहीं निकल रही थी आवाज- PM मोदी• उदयवीर सिंह की चिट्ठी पर साधना यादव का पलटवार, कहा- 'गंदा बोलने वालों को क्या जवाब दिया जाए, उनसे तो...'• फतेहपुर में बोले PM मोदी, कहा- शिवाजी नहीं बन सके तो 'सेवाजी' बने• गन्ना किसानों की आत्माओं को बनाया पोलिंग एजेंट, विश्व की सबसे बड़ी अर्थी पर किया बूथ के लिए रवाना• दुल्हन की डिमांड से फैमिली के उड़े होश, सपोर्ट में आया पति, बोला- 'प्राउड U डियर' • UpAssembly: 11 बजे तक सपा के गढ़ मैनपुरी में 31% मतदान, सीतापुर में रिकार्ड वोटिंग • चुनाव कराने स्टाइलिश अंदाज में पहुंची LADY, लोग बोले- वाह क्या बात है? • UpAssembly: शादी के लिए मंडप में बैठी थी दुल्हन, अचानक याद आई वो बात, सात फेरे छोड़ पहुंची यहां • BJP में शामिल हुए एक्टर रवि किशन, अमित शाह ने दिलाई पार्टी की सदस्यता• UPLIVE: सीएम अखिलेश ने सैफई में डाला वोट, राजनाथ सिंह ने लखनऊ में किया मतदान • UPLIVE: 9 बजे तक कन्नौज में रिकॉर्ड मतदान, सीतापुर में 11% हुई वोटिंग • UPLIVE: मायावती ने लखनऊ में किया वोट, मुलायम परिवार सैफई के लिए निकला • UPLIVE: तीसरे चरण का दंगल शुरु, 12 जिलों के 69 सीट पर हो रहे हैं मतदान • ‘जिंदा हूं मैं’ की तख्ती लटकाए अर्थी पर नामांकन करने पहुंचा 'मुर्दा', वाराणसी के अधिकारियों में हड़कंप• जानें, अमित शाह ने क्यों कहा यूपी में नहीं चल रही है बीजेपी की लहर...
देश से छुआछूत मिटाने के नाम पर RTI का बड़ा खुलासा

मुरादाबाद- देश से छुआछूत मिटाने के नाम पर केंद्र सरकार ने पानी की तरह पैसा बहाया है। इसके बावजूद भी समाज में अभिशाप बनी यह सामाजिक कुरीतियां ग्रामीण अंचल में अभी खत्म तो नहीं हुई लेकिन जनता का अरबो रुपया इस भेदभाव को खत्म करने के नाम पर खर्च हो गया है। चालू वित्तीय वर्ष के जुलाई माह तक केंद्र सरकार राज्यों को पांच हजार लाख रुपए से अधिक अवमुक्त कर चुकी है। इसमें उत्तर प्रदेश को सबसे ज्यादा ग्यारह सौ लाख रुपए मिले हैं। उत्तर प्रदेश ही नहीं महाराष्ट्र ,मध्य प्रदेश ,राजिस्थान और गुजरात को भी इस भेदभाव को मिटाने के लिए खूब बजट दिया गया। जबकि झारखंड ,उतराखंड ,असम ,पश्चिम बंगाल ,दिल्ली यह कुछ ऐसे राज्य हैं, जहाँ इन चैदह सालों में कुछ लाख रुपए ही दिए गए।

मुरादाबाद निवासी पवन अग्रवाल नामक आरटीआई कार्यकर्ता ने यह खुलासा बढ़ा किया हैं जिन्होंने इसी साल जुलाई 2014 को प्रधानमन्त्री कार्यालय से एक आरटीआई मांगी थी, जिसमे पूछा गया था, कि देश में छुआछूत मिटाने के नाम पिछले चैदह साल में राज्यों और ,नजीओ को वर्षवार कितने रुपए दिए गए तो प्रधानमन्त्री कार्यालय से जो जवाब मिला वह चैकाने वाला था, आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश को इस अवधि में दस हजार लाख रुपए से भी अधिक की धनराशि आवंटित की गई है, इसके बावजूद उत्तर प्रदेश के हजारो गांव ऐसे हैं, जहाँ न तो अभी छुआछूत मिटी और न ही भेदभाव का अंत हुआ।

दरअसल में केंद्र सरकार प्रदेश की सरकारों को यह धन आवंटित करती है। इस धन को फिर जिलों में बांटा जाता है जिन जगहों पर भेदभाव के मामले ज्यादा मिलते हैं, इन्ही हिसाब से धनराशि मिलती है। अगर उत्तर प्रदेश की बात करें तो पूर्वांचल ,बुन्देलखंड और पश्चिमी उत्तर प्रदेश के हजारों गांव ऐसे हैं, जहाँ अभी भी छुआछूत मौजूद है, जात-पात के नाम पर भेदभाव अभी भी जारी है।

वहीं आरटीआई क्टिविट पवन अग्रवाल का कहना है कि, सरकार ने छुआछूत मिटाने के लिए पैसा तो खूब खर्च किया, लेकिन जिस राज्य को पैसे की ज्यादा जरुरत थी, वहां पैसा सबसे कम दिया गया और वहां गलत तरीके से पैसे को आवंटित करके पैसे का दुरुपयोग किया गया है।

 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

advertisement1

  • samachar plus
  • live-tv-uttrakhand
  • live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

  • आलोक वर्मा

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    23 सालों से पत्रकारिता में सक्रिय। दैनिक जागरण, करंट न...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
:

right-advertisement

left-advertisement