Headline • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।• 14 साल बाद आया अय़ोध्या आतंकियों पर अदालत का फैसला • फिल्म ‘आर्टिकल 15’ विवादों में घिरती नजर आ रही है • अमरीका और ईरान का खाड़ी में तनाव गहराया • 'एक देश एक चुनाव' से विपक्ष क्यों नाराज


अक्टूबर माह में प्रदेश की त्रिवेन्द्र सिंह रावत सरकार ने प्रदेश में निवेश के लिए बड़ा जलसा किया था। देश भर के बडे उधोगपतियों को बुलाने का दावा किया गया था। हालांंकि बड़ी कंपनियों के प्रतिनिधि तो पहुंंचे लेकिन अंबानी ,अडाणी समेत बड़ी संख्या में बडे उधोगपति पीएम मोदी के आने के बावजूद अपनी उपस्थिति दर्ज कराने भी नहीं पहुंंचे।

सरकार का दावा था, की प्रदेश के विभिन्न सेक्टरों में सरकार को लगभग 1 लाख 25 हजार करोड़़ के निवेश के प्रस्ताव प्राप्त हुए हैं। जिसे सरकार ने अपनी बडी उपलब्धी बताया था। सरकार ने दावा तो बड़े निवेश का कर दिया लेकिन आंकडों की माने तो कुल प्रस्तावों का 8 से 10 प्रतिशत भी नहीं आया है। सरकार दावा कर रही है की लगभग 10 हजार करोड़ के प्रस्तावों को मंजूरी दे दी गई है। हालांकि सरकार के पास लैंड बैंक की कमी है और उधोग के लिए सरकार प्रदेश के विभिन्न इलाकों में लैंडबैंक बनाने की कोशिशों में जुटी हैंं। सरकार अब निजी भूमि स्वामियों से भी भूमि खरीदने की बात कर रही है। ताकि उधोगों की जमीन की जरूरत को पूरा किया जा सके।

हालांंकि प्रदेश के मुख्यमंत्री इसी बात को लेकर अपनी पीठ थपथपा रहे हैं। की पिछले 18 सालों में प्रदेश में 40 हजार करोड़ का निवेश आया और हमारी सरकार ने 4 महिने में ही 12 हजार करोड़ का निवेश प्रदेश में ला दिया है। हालांंकि उनके अनुसार आगे भीी निवेश आता रहेंंगा ।

संबंधित समाचार

:
:
: