Headline • 4 फरवरी को थी बेटी की शादी, शनिवार को घर आना था जवान को, लेकिन शाम तिरंगे में लिपटी लाश पहुंचेगी• कैदियों में सुधार लाने की अच्छी पहल, उरई जेल ने किया ओलंपियाड का आयोजन• अब हाईकोर्ट से AAP को लगा झटका, तिलमिलाई पार्टी बोली, मोदी का कर्ज चुका रहे हैं CEC ज्योति• कोर्ट मैरिज करने पहुंचे प्रेमी जोड़े ने किया हाईवोल्टेज ड्रामा• डोकलाम में निर्माण गतिविधियों की चीन ने की पुष्टि, कहा, उसके अधिकार क्षेत्र में आता है यह इलाका• पोर्न स्टार का दावा, डोनाल्ड ट्रंप के साथ उसके थे सेक्स संबंध, राष्ट्रपति के सचिव ने दिया पैसा• कंफ्यूज्ड विराटः किसे चुने यहां तो सभी फ्लाॅप, तीसरे टेस्ट में एक नहीं चार की हो सकती है छुट्टी• गाजीपुर में रखी गई पूर्वांचल के पहले लाॅजिस्टिक पार्क की नींव, 2 लाख टन भंडारन की क्षमता• कृषि मंत्री का सपा पर बड़ा वार, कहा, चोरों की तरह सड़क पर आलू फेंक गए• पद्मावत विवाद : ओवैसी ने मुसलमानों से कहा- 'फिल्म देखकर वक्त और पैसे बर्बाद न करें'• केजरीवाल सरकार को तगड़ा झटका, चुनाव आयोग ने दिया 20 विधायकों को अयोग्य करार• प्रेग्नेंट हैं न्यूजीलैंड की पीएम जेसिंदा आर्डर्न, जल्द लेंगी छह सप्‍ताह की छुट्टी• जंगली जानवरों के लिए बिछाए गए जाल में फंसा तेंदुआ, पीलीभीत रेस्क्यू टीम का हो रहा है इंतजार• घायलों ने तड़प-तड़पकर तोड़ा दम,पुलिस अस्पताल ले जाने की बजाय कहती रही-'गाड़ी गंदी हो जाएगी'• जिला अस्पताल से बाबा साहेब का नाम हटाया तो दलित समाज के लोगों ने बोर्ड पर पोत दिया काला पेंट• गाजियाबाद : रेल की पटरी काट रहा था युवक, लोगों ने पीट पीटकर कर दी ऐसी हालत, देखें तस्वीरें• सुप्रीम कोर्ट ने 'पद्मावत' फिल्म का विरोध करने वालों को दिया बड़ा झटका, कहा...• मुजफ्फरनगर दंगों के मामले में पूर्व मंत्री संजीव बालियान और विधायक उमेश मलिक कोर्ट में पेश• लखनऊ : देर रात घर में घुसे डकैत, विरोध करने पर तीन को मारी गोली,2 नाबालिग लड़कियों का किया अपहरण• Blue Whale गेम खेलती थी ऋतिक को चाकू मारने वाली छात्रा,दो बार घर से भी...• 24 घंटे में पाकिस्तान ने फिर तोड़ा सीजफायर, दो लोगों की मौत, 7 घायल• दरोगा ने की थी महिला सिपाही से छेड़छाड़, 14 महीने बाद दर्ज हुआ मुकदमा• हरियाणवी सिंगर ममता शर्मा की निर्मम हत्‍या, खेत में मिला शव• इलाहाबाद पहुंचे सीएम योगी, संत सम्मेलन में लेंगे हिस्सा• मानवता शर्मसार : गैंगरेप पीड़िता का इलाज नहीं कर रहे डॉक्टर, बिस्तर पर पड़ी तड़प रही है महिला


यूपी. गाजियाबाद पुलिस का बेहद खौफनाक चेहरा सामने आया है। पुलिस ने एक युवक के परिजनों को बिना सूचना दिए। उसके शव को लावारिस में फूंक दिया। इससे गुस्साएं परिजनों ने साहिबाबाद थाने में जमकर हंगामा किया। परिजनों का आरोप है कि पुलिस की इस लापरवाही की वजह से वह अपने बेटे का अंतिम संस्कार भी नहीं करा पाए। परिजनों ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आरोपी पुलिस वालों को सस्पेंड  नहीं किया गया तो वे दोबारा थाने में धरने पर बैठ जाएंगे। 

 

नशे में था तो थाने ले आई पुलिस

-ये मामला गाजियाबाद के श्याम पार्क एक्सटेंशन का है। 

मृतक मनदीप के पिता गिरीश सिंह नेगी ने बताया कि उनके बेटे को पुलिस ने लावारिस समझकर फूंक दिया। इस बात की जानकारी उन्हें शनिवार को हुई। इसके बाद वह तुरंत थाने पहुंचे। मगर पुलिस मदद करने की बजाय उन्हें डराने धमकाने लगी। 

-थाने में बैठे पुलिस वालों ने उन्हें गुमराह करना शुरू कर दिया। पुलिस ने कहा कि उनके बेटे को नशे की हालत में शनि चौक पुलिस की PCR लेकर आई थी।

- श्याम पार्क एक्सटेंशन की PCR पर तैनात पुलिस कर्मियों ने बताया कि 100 नंबर की सूचना पर वह मनदीप को थाने लाए थे। उसने थाने पर अपना नाम व पता बताया था। उसे छोड़कर वह चले गए थे।

 

परिजनों को नहीं दी गई कोई सूचना और कर दिया अंतिम संस्कार 

- गिरीश ने कहा कि मनदीप के नाम बताने के बावजूद पुलिस ने उसे लावारिस में क्यों भर्ती कराया। उसकी मौत होने पर उन्हें सूचना क्यों नहीं दी। 

-लावारिस में अंतिम संस्कार करने से पहले अखबार या अन्य माध्यम से सूचना सार्वजनिक क्यों नहीं की। पुलिस की वेबसाइट पर सूचना अपलोड क्यों नहीं की। 

-उनकी गुमशुदगी दर्ज होने के 24 घंटे बाद लावारिस में अंतिम संस्कार किया गया, तो उनसे शिनाख्त क्यों नहीं कराया गया। 

-गुमशुदगी दर्ज होने के बाद उनके बेटे का विवरण अन्य थाने - चौकी व अन्य जगह क्यों प्रसारित नहीं की गई। 

-इससे साफ है कि पुलिस ने बेटे के साथ मारपीट की, जिससे उससे गंभीर से चोट आई और उसकी मौत हो गई।

 

ऐसे समझे पूरा मामला 

- 9 जुलाई की रात 10 बजे मनदीप घर से लापता हुआ।

- 9 जुलाई की रात करीब 12 बजे पुलिस ने लावारिस में एमएमजी अस्पताल, गाजियाबाद में भर्ती कराया।

- 10 जुलाई की सुबह करीब सवा 7 बजे अस्पताल में मौत हो गई।

- 11 जुलाई को परिजन थाने में गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचे, नहीं दर्ज हुई।

- 12 जुलाई को पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज की।

- 13 जुलाई को पुलिस ने लावारिस में अंतिम संस्कार कर दिया।

- 15 जुलाई को पुलिस ने परिजनों से शिनाख्त कराई।

- 16 जुलाई को परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए हंगामा किया।

 

ये उठ रहे है पुलिस पर सवाल 

- थाने लाने पर मनदीप का क्यों नहीं किया शिनाख्त, जबकि वह होश में था।

- लावारिस में मौत होने पर उसकी फोटो व विवरण सार्वजनिक क्यों नहीं।

- गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचने पर परिजनों से उसकी शिनाख्त क्यों नहीं कराई गई।

- पुलिस ने थाने पहुंचने पर परिजनों को गुमराह करने का क्यों प्रयास किया। 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: