Headline • गाजियाबाद में प्रॉपर्टी जानने घर पहुंचा अपराधी, दरवाजा खुलते ही तमंचा सटाकर...• सपा के नहीं आ रहे हैं 'अच्छे दिन', जिला पंचायत अध्यक्ष की कुर्सी भी गवांनी पड़ी• 'अमेरिका और भारत मिलकर पाकिस्तान के इन ठिकानों को करे बर्बाद'• विराट कोहली को इस खिलाड़ी ने छोड़ा पीछे, जानें तोड़ा कौन सा रिकॉर्ड• रोहिंग्या मुसलमानों के समर्थन में उतरे BJP सासंद वरुण गांधी, याद दिलाया - 'अतिथि देवो भव:'• US-NK के बीच विवाद का मार्केट पर पड़ रहा है असर, 59 अंक गिरा सेंसेक्स• बांग्लादेश में रोहिंग्या कैंपों में हिंदुओं से बर्बरता, जबरन पढ़ाई जा रही है नमाज• वेस्ट बैंक में 3 इजराइलियों की हत्या, फिलिस्तीन को भुगतना होगा अंजाम • 100 करोड़ की प्रोपर्टी छोड़कर साध्वी बनी ये महिला, जानें क्यों• बागपत में नशे के गिरफ्त में बचपन, प्रशासन और सामाजिक संस्थाएं उदासीन • US-INDIA डिफेंस मिनिस्टर मीट: आतंक को बढ़ावा देनेवाले देशों को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा • भारतीय अमीरों की टॉप 10 सूची में शामिल हुए आचार्य बालकृष्ण • हार्दिक पांड्या के पिता को उम्मीद, एक दिन एक ओवर में छह छक्के लगाएगा उनका बेटा• जानें क्यों सड़कों पर आलू फेंक रहे हैं किसान• सोशल मीडिया पर जड़ेजा ने शेयर की ये फोटो, खुद को बताया 'राजपूत बॉय'• अमेरिकी रक्षामंत्री जेम्स मैटिस पहुंचे भारत, कई समझौते पर होंगे करार• रिलायंस जियो के बाद अब ये कंपनी फ्री में देगी 30 जीबी डाटा !• बीएचयू बवालः हर स्तर पर हुई है बीएचयू प्रशासन से आपराधिक लापरवाही• राहुल गांधी ने साधा बीजेपी पर निशाना, बोले-'दिल्ली में बैठकर रिमोट से नहीं चलती सरकार'• हनीप्रीत को पकड़ने के लिए दिल्ली से लेकर पंचकूला तक छापे, अग्रिम जमानत पर आज हो सकती है सुनवाई• रणवीर सिंह बनेंगे कपिल देव, 1983 के 'वर्ल्ड कप' पर बनेगी फिल्म• पकड़े गए लूट के बदमाश को गांववासियों ने कुछ ऐसे दी सजा• OMG ! ये फराह खान के साथ अमिताभ बच्चन बनकर कौन आया ? • मोमोज खाने के बाद पैसे मांगे तो बदले में खौलता तेल उड़ेल दिया• पुलिस चौकी से चंद फर्लांग दूर सरेआम मालगाड़ी के गार्ड को गोली मारी


यूपी. गाजियाबाद पुलिस का बेहद खौफनाक चेहरा सामने आया है। पुलिस ने एक युवक के परिजनों को बिना सूचना दिए। उसके शव को लावारिस में फूंक दिया। इससे गुस्साएं परिजनों ने साहिबाबाद थाने में जमकर हंगामा किया। परिजनों का आरोप है कि पुलिस की इस लापरवाही की वजह से वह अपने बेटे का अंतिम संस्कार भी नहीं करा पाए। परिजनों ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आरोपी पुलिस वालों को सस्पेंड  नहीं किया गया तो वे दोबारा थाने में धरने पर बैठ जाएंगे। 

 

नशे में था तो थाने ले आई पुलिस

-ये मामला गाजियाबाद के श्याम पार्क एक्सटेंशन का है। 

मृतक मनदीप के पिता गिरीश सिंह नेगी ने बताया कि उनके बेटे को पुलिस ने लावारिस समझकर फूंक दिया। इस बात की जानकारी उन्हें शनिवार को हुई। इसके बाद वह तुरंत थाने पहुंचे। मगर पुलिस मदद करने की बजाय उन्हें डराने धमकाने लगी। 

-थाने में बैठे पुलिस वालों ने उन्हें गुमराह करना शुरू कर दिया। पुलिस ने कहा कि उनके बेटे को नशे की हालत में शनि चौक पुलिस की PCR लेकर आई थी।

- श्याम पार्क एक्सटेंशन की PCR पर तैनात पुलिस कर्मियों ने बताया कि 100 नंबर की सूचना पर वह मनदीप को थाने लाए थे। उसने थाने पर अपना नाम व पता बताया था। उसे छोड़कर वह चले गए थे।

 

परिजनों को नहीं दी गई कोई सूचना और कर दिया अंतिम संस्कार 

- गिरीश ने कहा कि मनदीप के नाम बताने के बावजूद पुलिस ने उसे लावारिस में क्यों भर्ती कराया। उसकी मौत होने पर उन्हें सूचना क्यों नहीं दी। 

-लावारिस में अंतिम संस्कार करने से पहले अखबार या अन्य माध्यम से सूचना सार्वजनिक क्यों नहीं की। पुलिस की वेबसाइट पर सूचना अपलोड क्यों नहीं की। 

-उनकी गुमशुदगी दर्ज होने के 24 घंटे बाद लावारिस में अंतिम संस्कार किया गया, तो उनसे शिनाख्त क्यों नहीं कराया गया। 

-गुमशुदगी दर्ज होने के बाद उनके बेटे का विवरण अन्य थाने - चौकी व अन्य जगह क्यों प्रसारित नहीं की गई। 

-इससे साफ है कि पुलिस ने बेटे के साथ मारपीट की, जिससे उससे गंभीर से चोट आई और उसकी मौत हो गई।

 

ऐसे समझे पूरा मामला 

- 9 जुलाई की रात 10 बजे मनदीप घर से लापता हुआ।

- 9 जुलाई की रात करीब 12 बजे पुलिस ने लावारिस में एमएमजी अस्पताल, गाजियाबाद में भर्ती कराया।

- 10 जुलाई की सुबह करीब सवा 7 बजे अस्पताल में मौत हो गई।

- 11 जुलाई को परिजन थाने में गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचे, नहीं दर्ज हुई।

- 12 जुलाई को पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज की।

- 13 जुलाई को पुलिस ने लावारिस में अंतिम संस्कार कर दिया।

- 15 जुलाई को पुलिस ने परिजनों से शिनाख्त कराई।

- 16 जुलाई को परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए हंगामा किया।

 

ये उठ रहे है पुलिस पर सवाल 

- थाने लाने पर मनदीप का क्यों नहीं किया शिनाख्त, जबकि वह होश में था।

- लावारिस में मौत होने पर उसकी फोटो व विवरण सार्वजनिक क्यों नहीं।

- गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचने पर परिजनों से उसकी शिनाख्त क्यों नहीं कराई गई।

- पुलिस ने थाने पहुंचने पर परिजनों को गुमराह करने का क्यों प्रयास किया। 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: