Headline • अतिक्रमण हटाने के दौरान अभद्रता करने पर पुलिस ने ली बीजेपी नेता की जमकर क्लास, ठुकाई के बाद एफआईआर • क्र‍िस गेल ने सपना चौधरी के इस हिट गाने पर किया डांस, सोशल मीडिया पर वायरल• खुलेआम दी प्रशासन और 4 विधायकों को दी धमकी, कहा, समर्थकों को कुछ हुआ तो खैर नहीं• राहुल गांधी ने साधा निशाना,कहा- मोदी जी अब नया नारा देंगे 'बेटी बचाओ, BJP के लोगों से बचाओ'• पति विवेक की इस हरकत से परेशान हो गई दिव्यांका, उठाया ये कदम• 80 के दशक के इस गाने पर डांस करेंगे माधुरी और अनिल कपूर• पति रहता है विदेश, ससुर बना रहा है अवैध संबंध का दवाब, नहीं हुई सुनवाई तो महिला पहुंचीं कोर्ट• नोएडा : STF को मिली बड़ी सफलता,मुठभेड़ में ढेर किया 2 लाख का इनामी बदमाश बलराज भाटी• गाजियाबाद : चलते ऑटो और कार पर गिरा मेट्रो का गार्डर, कई लोग घायल• उपराष्ट्रपति वेंकैया नायडू ने खारिज किया CJI दीपक मिश्रा के खिलाफ महाभियोग नोटिस• बरेली : एटीएम से निकले 500 रुपये के चूरन वाले नोट,लिखा है- मैं धारक को 500 कूपन अदा करने का वचन देता हूं'• VHP कार्यकर्ता ने मुस्लिम ड्राइवर होने की वजह से कैंसिल की कैब, ओला ने दिया ये जवाब• BJP सांसद अनिल अग्रवाल के स्कूल में युवक की गोली मारकर हत्या• गाजियाबाद : पुलिस ने बरामद की 11 साल की लापता बच्ची, मदरसे का मौलवी गिरफ्तार• मेरठ में लगी भीषण आग,100 से ज्यादा झुग्गी झोपड़ी खाक• घर पर कुर्की नोटिस चस्पा कर रही थी पुलिस,सामने खड़ा होकर हंसता रहा इनामी भीम आर्मी का अध्यक्ष• लड़की ने लड़का बनकर लड़की से की शादी,अब बोल रही- अगर अलग किया तो दोनों मर जाएंगे• ग्रेटर नोएडा : पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़,25 हजार का इनामी बदमाश गिरफ्तार, कांस्टेबल घायल• नशे में टल्ली होकर युवतियों ने काटा हंगामा, वीडियो वायरल• महाराष्ट्र: सुरक्षाबलों को मिली बड़ी कामयाबी, मुठभेड़ कर मार गिराए 14 नक्सली• अफगानिस्तान : काबुल में वोटिंग रजिस्ट्रेशन सेंटर के बाहर आत्मघाती हमला, 31 की मौत• जब अचानक गेहूं मंडी का निरीक्षण करने पहुंच गए सीएम योगी,किसानों से पूछी समस्याएं• गाजियाबाद पहुंचे बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह, जानें क्या-क्या कहा• खौफ के साए में यूपी पुलिस का दरोगा,बदमाशों के डर से परिवार सहित किया पलायन• 10 साल तक गैंगरेप, सोती रही बिजनौर पुलिस, अब मेरठ पुलिस के पास पहुंची पीड़िता


यूपी. गाजियाबाद पुलिस का बेहद खौफनाक चेहरा सामने आया है। पुलिस ने एक युवक के परिजनों को बिना सूचना दिए। उसके शव को लावारिस में फूंक दिया। इससे गुस्साएं परिजनों ने साहिबाबाद थाने में जमकर हंगामा किया। परिजनों का आरोप है कि पुलिस की इस लापरवाही की वजह से वह अपने बेटे का अंतिम संस्कार भी नहीं करा पाए। परिजनों ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आरोपी पुलिस वालों को सस्पेंड  नहीं किया गया तो वे दोबारा थाने में धरने पर बैठ जाएंगे। 

 

नशे में था तो थाने ले आई पुलिस

-ये मामला गाजियाबाद के श्याम पार्क एक्सटेंशन का है। 

मृतक मनदीप के पिता गिरीश सिंह नेगी ने बताया कि उनके बेटे को पुलिस ने लावारिस समझकर फूंक दिया। इस बात की जानकारी उन्हें शनिवार को हुई। इसके बाद वह तुरंत थाने पहुंचे। मगर पुलिस मदद करने की बजाय उन्हें डराने धमकाने लगी। 

-थाने में बैठे पुलिस वालों ने उन्हें गुमराह करना शुरू कर दिया। पुलिस ने कहा कि उनके बेटे को नशे की हालत में शनि चौक पुलिस की PCR लेकर आई थी।

- श्याम पार्क एक्सटेंशन की PCR पर तैनात पुलिस कर्मियों ने बताया कि 100 नंबर की सूचना पर वह मनदीप को थाने लाए थे। उसने थाने पर अपना नाम व पता बताया था। उसे छोड़कर वह चले गए थे।

 

परिजनों को नहीं दी गई कोई सूचना और कर दिया अंतिम संस्कार 

- गिरीश ने कहा कि मनदीप के नाम बताने के बावजूद पुलिस ने उसे लावारिस में क्यों भर्ती कराया। उसकी मौत होने पर उन्हें सूचना क्यों नहीं दी। 

-लावारिस में अंतिम संस्कार करने से पहले अखबार या अन्य माध्यम से सूचना सार्वजनिक क्यों नहीं की। पुलिस की वेबसाइट पर सूचना अपलोड क्यों नहीं की। 

-उनकी गुमशुदगी दर्ज होने के 24 घंटे बाद लावारिस में अंतिम संस्कार किया गया, तो उनसे शिनाख्त क्यों नहीं कराया गया। 

-गुमशुदगी दर्ज होने के बाद उनके बेटे का विवरण अन्य थाने - चौकी व अन्य जगह क्यों प्रसारित नहीं की गई। 

-इससे साफ है कि पुलिस ने बेटे के साथ मारपीट की, जिससे उससे गंभीर से चोट आई और उसकी मौत हो गई।

 

ऐसे समझे पूरा मामला 

- 9 जुलाई की रात 10 बजे मनदीप घर से लापता हुआ।

- 9 जुलाई की रात करीब 12 बजे पुलिस ने लावारिस में एमएमजी अस्पताल, गाजियाबाद में भर्ती कराया।

- 10 जुलाई की सुबह करीब सवा 7 बजे अस्पताल में मौत हो गई।

- 11 जुलाई को परिजन थाने में गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचे, नहीं दर्ज हुई।

- 12 जुलाई को पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज की।

- 13 जुलाई को पुलिस ने लावारिस में अंतिम संस्कार कर दिया।

- 15 जुलाई को पुलिस ने परिजनों से शिनाख्त कराई।

- 16 जुलाई को परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए हंगामा किया।

 

ये उठ रहे है पुलिस पर सवाल 

- थाने लाने पर मनदीप का क्यों नहीं किया शिनाख्त, जबकि वह होश में था।

- लावारिस में मौत होने पर उसकी फोटो व विवरण सार्वजनिक क्यों नहीं।

- गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचने पर परिजनों से उसकी शिनाख्त क्यों नहीं कराई गई।

- पुलिस ने थाने पहुंचने पर परिजनों को गुमराह करने का क्यों प्रयास किया। 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: