Headline • जम्मू-कश्मीर: त्राल में सुरक्षाबलों पर आतंकियों ने किया ग्रेनेड से हमला, 10 जवान घायल• गंदी नियत से पड़ोसी के घर में घुसा युवक, लोगों ने मुंह काला कर गांव में घुमाया• गुजरात : वडोदरा में स्कूल के वॉशरूम में मिला 9वीं के छात्र का शव, बैग से बरामद हुआ चाकू• गोंडा : टैंकर और कार की आमने-सामने की टक्कर,एक ही परिवार के पांच लोगों की दर्दनाक मौत• मॉल में चलते-चलते अचानक फिसलकर गिर पड़ी काजोल, फिर हुआ कुछ ऐसा, देखें वीडियो• बेटे ने दी गोली मारने की धमकी,बुजुर्ग माता-पिता ने किया पलायन,बोले-भगवान ऐसी औलाद किसी को ना दे• हापुड़ : लोगों ने शव को घसीटा, पुलिस ने मांगी माफी, इंस्पेक्टर समेत 2 सिपाही लाइन हाजिर• सनी लियोनी ने अस्पताल पहुंचकर कराया चेकअप, शूटिंग के दौरान बिगड़ी थी तबीयत• गाजियाबाद : रिटायर जज ने गोली मारकर की आत्महत्या,पत्नी की मौत के बाद से थे डिप्रेशन में • जम्मू कश्मीर : अनंतनाग में सुरक्षाबलों ने ढेर किए चार आतंकी,एक जवान शहीद• BJP नेता ने गुर्गों के साथ मिलकर परिवार को बंधक बनाकर पीटा,बचाने की बजाय खड़ी देखती रही पुलिस• गाजियाबाद : शिखर एन्क्लेव में लापरवाही बरतने के मामले में आवास विकास के 12 इंजीनियर निलंबित• बुलंदशहर : 13 साल की नाबालिग लड़की के साथ 7 लोगों ने किया गैंगरेप• उन्नाव कांड : आरोपी विधायक कुलदीप सिंह सेंगर और सहयोगी शशि सिंह को आज कोर्ट में पेश करेगी CBI• शाहजहांपुर में दर्दनाक सड़क हादसा, तीन की मौत, 12 घायल• 10 नवंबर को शादी के बंधन में बधेंगे रणवीर और दीपिका, वेन्यू अभी तय नहीं• अर्जेंटीना के लिए करो या मरो की स्थिति, मेसी को दिखाना होगा अपना नैचुरल गेम• शेरा के साथ भाईजान गए अमेरिका, एअरपोर्ट पर खूब की मस्ती, देखें वीडियो• गंगा की सफाई के लिए अरबों खर्च कर हुए और इधर लोगों ने बिना पैसे का ये काम किया• पत्नी की मौत के बाद जिस बच्चे को इंजीनियर बनाया, उसी ने सामान सहित घर से बाहर फेंक दिया• कपिल को देख फैंस बोले, ये क्या हाल बना रखा है, कुछ लेते क्यों नहीं• 8 साल के ध्रुव ने योग में बनाया कीर्तिमान, देश-विदेश में कई अवार्ड जीते, गजब की योग प्रतिभा है बच्चे में• शाहजहांपुर : जिला महिला अस्पताल में लगी आग, प्रेग्नेंट महिलाओं ने भागकर बचाई अपनी जान• अखिलेश बोले-पीएम नहीं, मुझे तो सिर्फ एक बार फिर यूपी का सीएम बनना है, बीजेपी का हराना मुख्य लक्ष्य• महिला ने लगाया छेड़खानी का आरोप,अपर विकास अधिकारी बोले- जब किसी ने देखा नहीं तो साबित कैसे होगा


यूपी. गाजियाबाद पुलिस का बेहद खौफनाक चेहरा सामने आया है। पुलिस ने एक युवक के परिजनों को बिना सूचना दिए। उसके शव को लावारिस में फूंक दिया। इससे गुस्साएं परिजनों ने साहिबाबाद थाने में जमकर हंगामा किया। परिजनों का आरोप है कि पुलिस की इस लापरवाही की वजह से वह अपने बेटे का अंतिम संस्कार भी नहीं करा पाए। परिजनों ने चेतावनी देते हुए कहा कि अगर आरोपी पुलिस वालों को सस्पेंड  नहीं किया गया तो वे दोबारा थाने में धरने पर बैठ जाएंगे। 

 

नशे में था तो थाने ले आई पुलिस

-ये मामला गाजियाबाद के श्याम पार्क एक्सटेंशन का है। 

मृतक मनदीप के पिता गिरीश सिंह नेगी ने बताया कि उनके बेटे को पुलिस ने लावारिस समझकर फूंक दिया। इस बात की जानकारी उन्हें शनिवार को हुई। इसके बाद वह तुरंत थाने पहुंचे। मगर पुलिस मदद करने की बजाय उन्हें डराने धमकाने लगी। 

-थाने में बैठे पुलिस वालों ने उन्हें गुमराह करना शुरू कर दिया। पुलिस ने कहा कि उनके बेटे को नशे की हालत में शनि चौक पुलिस की PCR लेकर आई थी।

- श्याम पार्क एक्सटेंशन की PCR पर तैनात पुलिस कर्मियों ने बताया कि 100 नंबर की सूचना पर वह मनदीप को थाने लाए थे। उसने थाने पर अपना नाम व पता बताया था। उसे छोड़कर वह चले गए थे।

 

परिजनों को नहीं दी गई कोई सूचना और कर दिया अंतिम संस्कार 

- गिरीश ने कहा कि मनदीप के नाम बताने के बावजूद पुलिस ने उसे लावारिस में क्यों भर्ती कराया। उसकी मौत होने पर उन्हें सूचना क्यों नहीं दी। 

-लावारिस में अंतिम संस्कार करने से पहले अखबार या अन्य माध्यम से सूचना सार्वजनिक क्यों नहीं की। पुलिस की वेबसाइट पर सूचना अपलोड क्यों नहीं की। 

-उनकी गुमशुदगी दर्ज होने के 24 घंटे बाद लावारिस में अंतिम संस्कार किया गया, तो उनसे शिनाख्त क्यों नहीं कराया गया। 

-गुमशुदगी दर्ज होने के बाद उनके बेटे का विवरण अन्य थाने - चौकी व अन्य जगह क्यों प्रसारित नहीं की गई। 

-इससे साफ है कि पुलिस ने बेटे के साथ मारपीट की, जिससे उससे गंभीर से चोट आई और उसकी मौत हो गई।

 

ऐसे समझे पूरा मामला 

- 9 जुलाई की रात 10 बजे मनदीप घर से लापता हुआ।

- 9 जुलाई की रात करीब 12 बजे पुलिस ने लावारिस में एमएमजी अस्पताल, गाजियाबाद में भर्ती कराया।

- 10 जुलाई की सुबह करीब सवा 7 बजे अस्पताल में मौत हो गई।

- 11 जुलाई को परिजन थाने में गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचे, नहीं दर्ज हुई।

- 12 जुलाई को पुलिस ने गुमशुदगी दर्ज की।

- 13 जुलाई को पुलिस ने लावारिस में अंतिम संस्कार कर दिया।

- 15 जुलाई को पुलिस ने परिजनों से शिनाख्त कराई।

- 16 जुलाई को परिजनों ने पुलिस पर आरोप लगाते हुए हंगामा किया।

 

ये उठ रहे है पुलिस पर सवाल 

- थाने लाने पर मनदीप का क्यों नहीं किया शिनाख्त, जबकि वह होश में था।

- लावारिस में मौत होने पर उसकी फोटो व विवरण सार्वजनिक क्यों नहीं।

- गुमशुदगी दर्ज कराने पहुंचने पर परिजनों से उसकी शिनाख्त क्यों नहीं कराई गई।

- पुलिस ने थाने पहुंचने पर परिजनों को गुमराह करने का क्यों प्रयास किया। 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स



शो

:
:
: