Headline • नेतन्याहू की ईरान को चेतावनी, इजरायल की परीक्षा लेने की कोशिश ना करें• इंग्लैंड दौरे के कार्यक्रम में बदलाव, अब दस दिन पहले जाएगी टीम इंडिया• समाचार प्लस की खबर पर कोठारी का जवाब, 'विदेश नहीं भाग रहा हूं'• स्पेनिश लीग में बार्सिलोना की शानदार जीत, सुआरेज और जोर्डी चमके• प्रदर्शन करने जा रहे जिग्नेश मेवानी गिरफ्तार, कई जगहों पर उपद्रव, समर्थकों ने गाड़ियां जलाईं• मायावती को मोदी पर वार, सरकार की नाक के नीचे गरीबों के पैसे को लूटते रहे धन्नासेठ• बीजेपी के हाईटेक कार्यालय का हुआ उद्घाटन, पीएम मोदी ने दी अमित शाह और टीम को बधाई• सुकमा में नक्सली और सुरक्षाबलों में मुठभेड़, 6 जवान घायल, कई नक्सली भी घायल• मृतकों की होली ला रहे लोगों पर चढ़ी जाइलो कार, 5 की मौके पर ही मौत, दर्जन भर घायल• सांसद और डीएम के साथ बैठक में सोते रहे अधिकारी• दूसरे जिलों में पस्त लेकिन ग्रेनो में बदमाशों के हौसले बुलंद, 2 व्यापारी को लूटा• अंतिम वन डे मैच में विराट ने एक नहीं दो शतक लगाए थे• जिम्बाब्वे-अफगानिस्तान वन डे में बन गया ऐसा रिकाॅर्ड जो वर्षों तक रहेगा बुक में• चोटिल झूलन गोस्वामी की जगह अब रूमाली धर टीम में शामिल• धूम मचाने आ गया रे बाबा निरहुआ, होली में नाचने के लिए पेश किया गाना• जानें वह कौन सा राज है जिसे यश चोपड़ा छुपाए हुए थे• पद्मावत के जौहर वाले दृश्य की शूटिंग के वक्त रणवीर क्यों दूर चले जाते थे• सलमान की इस हिरोइन ने किसे कहा-'दूं एक तमाचा मुंह पर'• आंख मारने वाली लड़की से बोले ऋषि, तुम मेरे टाइम में क्यों नहीं आईं• नीरव की मदद करने वाले पीएनबी के डिप्टी मैनेजर गोकुलनाथ समेत 3 और गिरफ्तार• 'पहरेदार सोते रहे, चोर रुपए लूटकर चला गया', कांग्रेस ने पीएम मोदी के पहरेदार बयान पर कसा तंज• दिल्ली में बीजेपी को तगड़ा झटका, लवली फिर कांग्रेस में शामिल• पहले प्रेमजाल में फंसाती हैं फिर करती हैं अपना काम, फिर पहुंच जाती हैं जीजा के पास• आजमगढ़ में मिले दस्तावेज से निकलेगा राममंदिर विवाद का हल• कच्ची शराब के खिलाफ अभियान चलाया तो माफियाओं ने कर दी पति की हत्या, पुलिस भी बनी जालिम

यहां लावारिस लाशों को कंधा देती है महिलाएं, 5 हजार शवों का करा चुकी अंतिम संस्कार

कानपुर. किसी की मौत होने पर अक्सर उसकी लाश को पुरूष कंधा देते हैं। अंतिम संस्कार की रस्में भी पुरुष करते हैं। लेकिन, सोमवार को कानपुर में महिलाएं लाश को कंधा देती दिखी। हर कोई सड़क से गुजरती इन महिलाओं को देख चौक गया। बड़ी संख्या में महिलाएं लाशों को कंधा देने के लिए जुटी थी।

 

लावारिश लाशों का किया जाता है अंतिम संस्कार

- बता दें कि जिन लाशों को महिलाएं कंधा देती है। उनका अपना कोई नहीं होता है। उनकी बॉडी पर कोई हक भी नहीं जताता है।

- महिलाओं के मुताबिक वे लोगों की सोच को बदलने के लिए ऐसा कर रही हैं।

- उन्होंने कहा कि लावारिश लाश को देखनेवाला कोई नहीं होता है। सरकार की ओर से भी कोई ध्यान नहीं दिया जाता है।

- जिन लोगों का अपना कोई नहीं होता है। उनकी मौत के बाद अंतिम संस्कार किया जाता है।

- यहां की महिलाएं ट्रेडिशन के अनुसार अंतिम संस्कार करती हैं। बड़ी संख्या में फूलों को भी मंगाया जाता है।

- अब तक करीब 5 हजार शवों का अंतिम संस्कार किया जा चुका है। इस कैंपेन में बड़ी संख्या में महिलाएं शामिल होती हैं।

महिलाओं को मिले सभी अधिकार

- लावारिस लाशों को कंधा देने वाली महिलाओं का कहना है कि उन्हें सभी तरह के अधिकारों की जरूरत है।

- उन्होंने बताया कि कंधा देने का काम केवल पुरुषों का नहीं है। महिलाएं भी इसे कर सकती है।

- हालांकि, लावारिस लाशों के अंतिम संस्कार में पुरूष भी सहयोग करते हैं। वे भी महिलाओं का उत्साह बढ़ा रहे हैं।

  

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: