Headline • शिक्षक ने दोस्तों के साथ मिलकर तमंचे की नोक पर युवती से किया रेप का प्रयास• थाने में सिपाही ने लगाई फांसी,परिजनों ने लगाया हत्या का आरोप• कर्नाटक में एचडी कुमारस्वामी का फ्लोर टेस्ट आज• अब बीजेपी विधायक रितेश गुप्ता से मांगी गई 10 लाख की रंगदारी,पुलिस ने बढ़ाई सुरक्षा• क्या नेहा धूपिया प्रेग्नेंट है, पिता ने मीडिया में उड़ रही अफवाहों पर दिया जवाब • एबी डिविलियर्स के संन्यास पर बोले सचिन-आपकी कमी खेलगी, कई और क्रिकेटर्स ने दी प्रतिक्रियाएं• तेजस्वी के ट्वीट पर बीजेपी का पलटवार, कहा-चारा का पैसा खाकर ज्यादा मोटा हो गए है, फिटनेस की जरूरत• वसीम रिजवी ने किया सियासी पार्टी का आगाज, नरेंद्र गिरी को बनाया संरक्षक, कहा, हक-हकूकों की लड़ाई लड़ेंगे• पाकिस्तान को भेजता था खुफिया जानकारी, आखिर चढ़ ही गया एटीएस के हत्थे, आईएसआई के संपर्क में था• PM ने स्वीकारी विराट की चुनौती, जल्द करेंगे वीडियो शेयर, योग दिवस के प्रचार का नायाब तरीका• 108 नंबर पर फोन करने पर एंबुलेंस नहीं आई तो ठेले पर ही बीमार वृद्धा को ले जाने लगे, लेकिन...• घर में लोग खाना खा रहे थे, तभी महिला ने ऐसा  किया कि घर में चीख पुकार मच गई• रेलवे की बड़ी लापरवाही, ट्रैक पर बह गया सैकड़ों लीटर डीजल, अधिकारियों ने कहा-मामूली घटना• बच्ची के साथ अश्लील हरकतें कर रहा था मंदिर का पुजारी, ग्रामीणों ने पकड़कर पुलिस को सौंपा • CM योगी ने किए कालकाजी मंदिर में मातारानी के दर्शन, रिश्तेदार को देखने गाजियाबाद अस्पताल भी पहुंचे• संघ नेता के बेटे की गुंडई, ईएमओ पर ताना तमंचा, इमरजेंसी सेवाएं ठप्प, पुलिस के सामने से फरार हुआ आरोपी • कैराना में बीजेपी की मुश्किलें बढ़ीं, लोकदल प्रत्याशी ने रालोद-सपा की प्रत्याशी तबस्सुम को समर्थन दिया• सैफ को छोड़ विराट पर आया करीना का दिल!• विवाद सुलझाने गए दारोगा को बुरी तरह पीटा, लाठी डंडों से मारने के बाद फायरिंग भी की• धाकड़ खिलाड़ी एबी डिविलियर्स ने तीनों फॉर्मेट से लिया संन्यास, कहा-थकान की वजह से खेलना मुश्किल• किसने कहा, मायावती अंबेडकरवादी बल्कि कांशीरामवादी है, दलितों पर उनका अधिकार नहीं है• ईस्टर्न पेरिफेरल के उद्घाटन पर आपत्ति, आरएलडी ने लिखा चुनाव आयोग को खत• दस्यु सुंदरी सीमा परिहार ने कहा-हथियार चलाना भूली नहीं हूं, बीहड़ में कूदने को मजबूर कर रही है पुलिस• आखिर कौन है अली बुदेश, जिसके नाम से मांगी जा रही है 13 विधायकों से रंगदारी • विपक्षी दलों के नेताओं की मौजूदगी में कुमारस्वामी ने ली कर्नाटक के सीएम पद की शपथ, परमेश्वर बने डिप्टी सीएम

सपा में सुलह की 8वीं कोशिश, अखिलेश-मुलायम के बीच बैठक जारी

लखनऊ: समाजवादी पार्टी में चल रहे वि‍वादों के बीच चुनाव आयोग में 'साइकिल' पर अपना दावा जताकर लौटे मुलायम सिंह यादव ने सोमवार को कहा कि अगले चुनाव में अखिलेश यादव ही मुख्यमंत्री पद का चेहरा होंगे। हालांकि उन्होंने इस बात का जवाब नही दिया कि पार्टी में राष्ट्रीय अध्यक्ष की भूमिका कौन निभायेगा। साथ ही प्रत्याशियों को चुनाव चिह्न देने वाले फार्म पर किसके हस्ताक्षर दिखाई देंगे।माना जा रहा हैं इन सभी सवालों पर मंगलवार को अखिलेश के साथ होने वाली बैठक में चर्चा की जायेगी। बता दें कि सोमवार शाम दि‍ल्‍ली से लखनऊ लौटे मुलायम सिंह ने मीडिया से बातचीत के दौरान कहा था कि "समाजवादी पार्टी एक ही है। चुनाव के बाद अगले सीएम अखिलेश यादव ही रहेंगे। इसमें कोई कन्‍फ्यूजन नहीं है। समाजवादी पार्टी ना टूटी है और ना टूटेगी। 

अब तक सुलह की 7 कोशिशें हो चुकी है नाकाम

 

-आपको बता दें कि सुलह की पहली कोशिश 31 दि‍संबर 2016 को की गई। जब मुलायम के साथ हुई मीटिंग में अखिलेश ने अपनी 4 शर्तें रखी थीं।

-जिसमें पहली शर्त में अखिलेश ने अमर सिंह को पार्टी से बर्खास्त करने के लिए कहा था।

-दूसरी शर्त में अखिलेश ने कहा कि शिवपाल यादव को राष्ट्रीय राजनीति में भेजा जाए।

-तीसरी शर्त में कहा गया कि टिकट बंटवारा मुलायम और अखिलेश की सहमति से हो। इसमें किसी तीसरे की दखलंदाजी न हो।

-चौथी शर्त में मांग की गई कि टीम अखिलेश के बर्खास्त लोगों को भी पार्टी में वापस लिया जाए।

-हालांकि अखिलेश की ये सभी शर्तें नहीं मानी गईं।

-जबकि सुलह की दूसरी कोशिश 2 जनवरी को की गई। जब सपा के सिंबल पर दावेदारी के लि‍ए शि‍वपाल और अमर सिंह के साथ मुलायम चुनाव आयोग पहुंचे।

-3 जनवरी को अपनी तीसरी सुलह की कोशिश के चलते अखि‍लेश यादव ने मुलायम सिंह के घर पर जाकर मुलाकात की, पर बात नहीं बनी। 

-बता दें कि 4 जनवरी को हुई अपनी चौथी सुलह की कोशिश में आजम के साथ मुलायम की 5 घंटे तक बातचीत हुई, लेकि‍न फिर भी कोई समझौता नहीं हो सका। 

- लेकिन पांचवी बार ये कोशिश 5 जनवरी को की गई। जब देर रात तक करीब 4 घंटे मुलायम, शि‍वपाल और अमर सिंह के बीच दि‍ल्‍ली में बातचीत हुई। 

- 6 जनवरी को छठी बार सुबह अखि‍लेश यादव से शि‍वपाल और अमर ने मुलाकात की।लेकिन कोई फैसला नही हो पाया।

- सातवीं बार 8 जनवरी रविवार की सुबह अखिलेश ने मुलायम को फोन किया था। मुलायम ने अखिलेश के सामने दो शर्तें रखीं थीं। पहली की वे नेशनल प्रेसिडेंट बने रहेंगे और दूसरी शिवपाल प्रदेश अध्‍यक्ष बने रहेंगे। सूत्रों के अनुसार ये दोनों ही शर्तें अखिलेश ने नहीं मानी थी।

- बहरहाल आज आठंवी बार 10 जनवरी को अखिलेश एक बार फिर मुलायम के घर उनसे मिलने पहुंचे हैं।

 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: