Headline • सोशल मीडिया में आग लगा रही ही एक और भोजपुरी डांसर, डांस के लटके-झटके सपना चौधरी जैसे• आजमगढ़ में फिर मुठभेड़, बदमाश के साथ पुलिस अधिकारी को भी लगी गोली • प्रिंसिपल या जल्लाद! बच्चे को तबतक मारते रहे जब तक डंडा टूट न गया, क्लास में हंसने पर दी सजा• दामाद की हत्या के लिए 1 करोड़ की सुपारी दी, गैंग की लिंक आईएसआई से भी पाई गई• मृत महिला को जिंदा दिखाकर कर लिया मकान का बैनामा, असली मालिक पर घर छोड़ने की धमकी• महिलाओं ने सरेराह प्रधान में चप्पलों और लाठियों से की पिटाई, पति पत्नी के झगड़े को सुलझाना पड़ा भारी• भारत-पाक मुकाबले का रोमांच चरम पर, कानपुर में फैंस ने बप्पा से की टीम इंडिया की जीत की प्रार्थना• पाकिस्तान ने टॉस जीता और पहले बल्लेबाजी करने का निर्णय, क्या कमाल कर पाएगी रोहित एंड कंपनी?• जब कुर्ता पजामा पहनकर नानी के घर गणपति पूजा में पहुंचे तैमूर,फोटो और वीडियो वायरल• क्यों हो रही है यूपी के इस दरोगा की प्रशंसा, जान की बाजी लगाकर किया कमाल• 'ठग्स ऑफ हिंदोस्तान' से सामने आया फातिमा सना शेख का दमदार लुक,आमिर खान ने दी चेतावनी • रामकथा पर झूमे शिवपाल, कहा-समय बताएगा कौन किसके साथ है• साथ में बीड़ी पी रहे दोस्त की जेब में पैसा देखा तो लालच आ गया, ईंट मारकर हत्या कर पैसे ले लिए• शिकायत करने पर नहीं सुनी लेकिन जब आत्मदाह करने पहुंचा गरीब आदमी तो तुरंत जांच बैठा दी• चंद्रशेखर रावण और मदनी में गोपनीय बातचीत, शेरसिंह राणा ने भी पेश कर दी चुनौती• राजा भैया के पिता और प्रशासन में ठनी ! मोहर्रम के दिन भंडारे के कार्यक्रम में प्रशासन ने लगाई रोक• तीन तलाक पर मोदी सरकार का बड़ा फैसला,अध्यादेश को दी मंजूरी• शामली : मठुभेड़ में दो बदमाश गिरफ्तार, एक को लगी गोली, 10 लाख कैश बरामद • दरोगा के बेटे ने खुद को गोली मारकर की आत्महत्या, मां की बीमारी के चलते डिप्रेशन में था• बीजेपी विधायक देवेंद्र राजपूत की दबंगई, बिजली विभाग के जेई को पीटा,वीडियो वायरल• बहराइच में बुखार का कहर, 45 दिनों में 70 बच्चों की मौत• 'समाचार प्लस' की खबर का असर,विकिपीडिया ने सीएम त्रिवेंद्र सिंह रावत का निक नेम 'झांपू' हटाया• ब्लॉक प्रमुख से फोन पर मांगी गई 5 करोड़ की रंगदारी, न देने पर जान से मारने की धमकी• कानपुर : रैगिंग को लेकर भिड़े मेडिकल और इंजीनियरिंग कॉलेज के छात्र,आधा दर्जन घायल• मेरठ : पुलिस और बदमाशों के बीच मुठभेड़, एक बदमाश को लगी गोली

आशीष नेहरा ने कराची में मोईन खान को नहीं बनाने दिए थे 6 बॉल पर 9 रन 

नई दिल्ली. टीम इंडिया के दिग्गज तेज गेंदबाज आशीष नेहरा ने इंटरनेशनल क्रिकेट से संयास की घोषणा कर दिया है। भारत के सबसे अनुभवी तेज गेंदबाज आशीष नेहरा अपने जीवन का अंतिम अंतरराष्ट्रीय मैच एक नवंबर को न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने घर दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर होने वाले टी-20 मैच के रूप में खेलेंगे। इसके बाद 38 साल के नेहरा किसी भी प्रारूप में भारतीय जर्सी में नजर नहीं आएंगे। आइए जानते है नेहरा के पांच बेहतरीन रिकॉर्ड के बारे में... 

 

1999 में किए थे डेब्यू 

-टीम इंडिया के स्टार गेंदबाज आशीष नेहरा 1999 में श्रीलंका के खिलाफ टेस्ट में और 2001 में जिंबाब्वे के खिलाफ वन डे में डेब्यू किया था।

-बहुत जल्दी ही नेहरा नई गेंद के बेहतरीन गेंदबाज माने जाने लगे, लेकिन लगातार चोटों ने उनके करियर को तेजी से आगे नहीं बढ़ने दिया।

-12 सर्जरी झेल चुके नेहरा के लिए खुद को प्रेरित करना और दोबारा कमबैक करना आसान नहीं था।

-मगर 38 साल की उम्र में नेहरा ऑस्ट्रेलिया दौरे पर टी-20 में वापस लौटे।

-यह कम चौंकाने वाली बात नहीं थी। उनकी परफॉर्मेंस हमेशा की तरह ही शानदार रही।

 

15 साल बाद विदेशी जमीन पर दिलाई जीत 

-भारत 15 साल से विदेशी जमीन पर कोई सीरीज नहीं जीता था।

-उस समय 22 वर्षीय नेहरा का यह पहला विदेशी दौरा था।

-पहली पारी में नेहरा ने शानदार गेंदबाजी करते हुए 23 रन पर 3 विकेट लिए।

-जिंबाब्वे की पूरी टीम 173 रन पर आउट हो गई।

-भारत को पहली पारी में 145 रनों की लीड मिल गईय़

-दूसरी पारी में भी नेहरा ने एंडी फ्लॉवर और डिओन इब्राहिम का विकेट निकाला।

-नेहरा की शानदार गेंदबाजी की बदौलत भारत यह टेस्ट जीत गया।

 

उल्टी होने के बाद भी नहीं माने हार 

-2003 के विश्व कप में डर्बन में हुए लीग मैच इंग्लैंड के खिलाफ नेहरा की घातक गेंदबाजी आज भी भारतीय फैंस की दिमागा में है।

-भारत ने पहले खेलते हुए 249 रन बनाए थे, लेकिन इस मैच में आशीष नेहरा ने शानदार तेज गेंदबाजी का प्रदर्शन करते हुए 23 रन पर 6 विकेट निकाले।

-इस दौरान नेहरा लगातार 140 किलोमीटर प्रति घंटा की रफ्तार से गेंदबाजी किए थे।

-इंगलैंड का कोई भी बल्लेबाज उनकी गेंदों को नहीं खेल पाया और भारत 82 रनों से यह मैच जीत गया। 

 

पाकिस्तान के खिलाफ किए थे शानदार गेंदबाजी 

-2009 के बाद से नेहरा जहीर खान के साथ भारत के मुख्य गेंदबाज बन चुके थे।

-हालांकि टीम में उनका आना जाना लगा हुआ था। लेकिन वन डे में टीम में उन्होंने अपनी जगह बना ली थी।

-2011 के विश्व कप में नेहरा ने केवल तीन मैच खेले।

-दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ खराब प्रदर्शन के बावजूद उन्हें सेमीफाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ टीम में शामिल कर लिया गया।

-पाकिस्तान 260 रनों का बचाव कर रहा था। नेहरा को शुरू में विकेट नहीं मिले, लेकिन रन गति पर वह अंकुश लगाये रहे।

-उनका गेंदबाजी प्रदर्शन रहा- 10 ओवरों में 33 रन 2 विकेट।

 

मोइन खान को नहीं बनाने दिए थे 9 रन 

-टीम इंडिया 2004 में पाकिस्तान के दौरे पर गई हुई थी। वनडे सीरीज का पहला मैच कराची में खेला जा रहा था।

-जहां पर टीम इंडिया ने पहले बल्लेबाजी करते हुए राहुल द्रविड़ और विरेंद्र सहवाग के शानदार अर्धशतकीय पारी की बदौलत 349 रन का विशाल स्कोर खड़ा की थी।

-जिसके जवाब में पाकिस्तान के तरफ से इजमामूल हक के बेहतरीन शतकीय पारी के बदौलत पाकिस्तान जीत के करीब पहुंच गया था।

-आखिरी ओवर में पाकिस्तान को जीत के लिए 9 रन चाहिए था। 

-जिसके बाद भारतीय कप्तान सौरभ गांगूली ने भरोसेमंद गेंदबाज आशीष नेहरा को गेंदबाजी की जिम्मेवारी सौपी। 

-नेहरा ने शानदार गेंदबाजी करते हुए इस ओवप में महज 3 रन दिए थे, टीम इंडिया 6 रनों से जीत दर्ज की थी।  

 

 

 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: