Headline • कर्नाटक: सिद्धगंगा मठ के मठाधीश शिवकुमार स्वामी का 111 साल की उम्र में निधन• Amazon ग्रेट इंडियन सेल: तीन दिनों की शानदार डील• मेक्सिको ईंधन पाइपलाइन ब्लास्ट में मरने वालों का आंकड़ा रविवार को बढ़कर 85 हो गया।• विपक्ष का गठबंधन नकारात्मकता और भ्रष्टाचार का है :पीएम मोदी• धोनी ने आलोचकों को दिया बल्ले से जमकर जवाब • रूसी विमान युद्धाभ्यास के दौरान जापान सागर पर आपस में टकराए • कंगना करणी सेना से नाराज बोली मैं भी राजपूत हूं बर्बाद कर दुंगी तुम्‍हें• मिशन 2019: चुनाव आयोग मार्च में कर सकता है। लोकसभा चुनाव का एलान • ममता की महारैली में विपक्ष का जमावड़ा, पहुंचे बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा• मेघालय, कोयला खदान से 35 दिनों के बाद 200 फीट की गहराई से निकला मजदूर का शव • भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को स्वाइन फ्लू, एम्स में चल रहा इलाज • रुपये में मजबूती शेयर बाजार 36 हजार के पार• World Bank के प्रमुख पद की दावेदार में इंद्रा नूई का नाम आगे • कर्नाटक में राजनीतिक उठा-पटक, कांग्रेस ने 18 को बुलाई विधायकों की बैठक• विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अध्यक्ष राम जन्मभूमि मार्गदर्शक मंडल के सदस्य विष्णु हरि डालमिया का निधन• भदोही में एक निजी स्कूल वैन में लगी आग, 19 बच्चे झुलसे• मथुरा के यमुना एक्सप्रेस वे पर, रफ्तार का कहर 3 की मौत• जहरीली शराब कांड का इनामी बदमाश कानपुर पुलिस की गिरफ्त में• गाजियाबाद में स्वाइन फ्लू की दस्तक, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट• प्रयागराज में हर्ष फायरिंग दौरान, एक को लगी गोली• पेट्रोल-डीजल के दामों ने फिर दिया झटका, क्या रहे आपके शहर के दाम• RRB ग्रुप डी आंसर की जारी 14 से 19 जनवरी तक दर्ज कराएं अपनी आपत्ति• सवर्णों को 10% आरक्षण बिल को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती• अयोध्या विवाद संवैधानिक बेंच से जस्टिस यूयू ललित हटे, 29 जनवरी को फिर से होगी सुनवाई• जम्मू-कश्मीर के आईएएस शाह फ़ैसल ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए इस्तीफ़ा देने का किया ऐलान I


रायबरेली: सरकार प्रदेश भर में वृद्ध व निराश्रित लोगों की देखभाल करने के लिये करोड़ों रुपये पानी की तरह बहा रही है। विश्व बैंक से लेकर तमाम ऑर्गनाइजेशन अलग अलग योजना चलाकर उनके हित की बात कर रहे हैं। मगर इसके उलट जमीनी स्तर पर इसकी हकीकत कुछ और ही है।

आंख मूंद कर काम करने वाले अधिकारी व कर्मचारी जीवित को मृत बताकर उसकी पेंशन बन्द कर दे रहे हैं। आफिस में बैठे बैठे ही असहाय विधवा वृद्धा को कागजों पर मार डालने वाले इन अधिकारियों की मानवता दर दर की ठोकरें खा रही बूढ़ी नम आंखों को देख कर भी नहीं जागी।

दरअसल, कागजों में वो दो साल पहले ही मर चुकी है। सामने आने पर भी सरकारी बाबू इन्हें जीवित मानने को तैयार नहीं है। ये हम नही खुद सरकारी कागज बता रहे हैं। इनका नाम भगवत देइ है। और यह जिले की डलमऊ तहसील क्षेत्र के मुरैठी गांव को रहने वाली हैं।

कुछ समय पहले इनके पति की मृत्यु हो गयी थी तो इनके ऊपर गमों का पहाड़ टूट पड़ा। इनको सरकार की तरफ से विधवा पेंशन मिलने लगी तो इनको लगा कि इनका वृद्धा अवस्था मे किसी के आगे हाथ नहीं फैलाने पड़ेंगे। मगर जिले के अधिकारियों ने ऐसी कलम चलाई कि अभिलेखों में भगवत देइ को जीते जी मार दिया गया।

वृद्धा भगवत देइ की माने तो लगभग दो वर्ष पूर्व उनके घर मे ब्लाक से सेक्रेटरी साहब कोई सर्वे करने आये और उनसे दस्तखत करवाये थे। तभी से उनकी पेंशन आना बंद हो गयी।

अब जब वह ब्लाक व तहसील से लेकर जिले के आलाधिकारियों के चक्कर लगाती हैं तो उनको यह कह कर वापस कर दिया जाता है कि आप तो मर चुकी हैं इसलिए आप की पेंशन बन्द कर दी गयी है। अब बेचारी वृद्धा को जिले के अधिकारियों व कर्मचारियों के सामने खुद के जिंदा होने का सबूत देना पड़ रहा है और अधिकारी है कि मानते ही नहीं।

संबंधित समाचार

:
:
: