Headline • CRPF के जवानों पर नक्‍सलियों का हमला मुठभेड़ में एक जवान शहीद • गोवा के नए सीएम बने प्रमोद सावंत• टोटल धमाल'की छपर फाड कमाई अभिताभ बच्चन की 'बदला' भी टक्कर में • न्यूजीलैंड की मस्जिदों के हमलावर को कोर्ट में किया पेश • मनोहर पर्रिकर के निधन के कुछ घंटों बाद ही गोवा में सियासी घमासान तेज• भारतीय वनडे टीम से बाहर होने पर आर अश्विन की नाराजगी• इस बार भी वर्ल्‍ड कप से पहले सीरीज हारना क्‍या रहेगा टीम इंडिया के लिए लकी• 17 साल बाद चीन को लगा बड़ा झटका आर्थिक स्थिति बेहद कमजोर• एयर स्ट्राइक से पाकिस्तान के साथ साथ भारत के भी कु़छ नेता परेशान: राजनाथ सिंह• कंगना रनौत की नाराजगी पर आमिर खान ने दिया बयान• सुप्रीम कोर्ट ने आईपीएल स्पॉट फिक्सिंग मे क्रिकेटर श्रीसंत को दी राहत • न्यूजीलैंड की मस्जिदों में ताबातोड़ फायरिंग 40 की मौत 27 घायल • UNSC में मसूद अजहर को ग्लोबल आतंकी घोषित करने में चीन ने लगाया वीटो • SC ने शुरू की राफेल मामले पर सुनवाई• कुनबा बढ़ाने की रणनीति से सहमी कांग्रेस, नेताओं को दी चुप्पी साधने की हिदायत • आजम खान के खिलाफ योगी सरकार की बड़ी कार्यवाही • 15 मार्च से शुरू टेस्ट मैच की तयारी में लगी अफगानिस्तान आयरलैंड की टीम• लोकसभा चुनावों में लगी आदर्श आचार संहिता का सख्ती से पालन• आजादी के बाद आज भी ब्रिटिश काल की पेयजल पम्पिंग योजना पर निर्भर• बीजेपी सांसद के बगावती तेवर • कांग्रेस पर चढ़ा सपा- बसपा गठबन्धन के रिश्तों का रंग • भारत के सबसे बड़े नेटवर्क बीएसएनएल कंपनी पर संकट के बादल• कोलंबिया में विमान दुर्घटना में 12 लोगों की मौत • रमजान के दौरान मतदान पर चुनाव आयोग का जवाब • अंतरराष्ट्रीय उलमा कांफ्रेंस में विश्व शांति का संदेश


शाहजहांपुर. बैंक लोन लेकर फरार हुए 'विजय माल्या' की तरह शाहजहांपुर में 14 हजार से ज्यादा छोटे 'विजय माल्या' मौजूद है जिन पर 220 करोड़ से ज्यादा का बैंक लोन बकाया है। यहां बैंक ने 14 हजार से ज्यादा बैंक कर्जदारों के खिलाफ रिकवरी की आरसी जारी की है। फिलहाल, एक साथ इतनी बड़ी कार्यवाही के बाद से बैंक कर्जदारों हडकंप मचा हुआ है। जिला प्रशासन ने भी दो सौ बीस करोड़ की रिकवरी के लिए राजस्व विभाग को कड़े निर्देश जारी किये है। 

-दरअसल, शाहजहांपुर में 30 अलग अलग बैंकों ने लोगों को सरकारी योजनाओं के नाम पर 220 करोड़ रुपया लोन पर दिया था। जिसमें सबसे ज्यादा लोन बैक ऑफ बड़ौदा ने बांटा है। लेकिन पूरे जनपद में 14 हजार से ज्यादा लोग बैंक द्वारा दिये गये कर्ज का पैसा दबाए बैंठै है। इनमें से कई ऐसे है जो जिला छोड़कर दूसरे राज्यों में नौकरी कर रहे है। तमाम को शिशों के बाद भी जब बैंक का कर्ज वापस नहीं मिला तो बैंक ने जिला प्रशासन के साथ खास बैठक करके पैसों की रिकवरी करने का फैसला किया है। 

-इसी के चलते लीड बैंक ने सभी तीस बैंकों का लगभग 220 करोड़ रुपयों की वसूली के लिए 14 हजार कर्जदारों के खिलाफ रिकवरी के लिए सभी पांचों तहसीलों के लिए आरसी जारी की है। 

-वहीं जिला प्रशासन भी बैंक के अरबों रुपए की रिकवरी के संबंधित तहसीलों को रिकवरी के आदेश दिये है। 

-जिला प्रशासन का कहना है कि रिकवरी में लावरवाही करने वालों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की जाएगी। 

-बैंकों का ये भी कहना है कि अगर व्यापारियों और उद्योगों पर बकाय का आंकलन किया जाये तो रिकवरी कई अरबों में हो सकती है। 

संबंधित समाचार

:
:
: