Headline • कर्नाटक: सिद्धगंगा मठ के मठाधीश शिवकुमार स्वामी का 111 साल की उम्र में निधन• Amazon ग्रेट इंडियन सेल: तीन दिनों की शानदार डील• मेक्सिको ईंधन पाइपलाइन ब्लास्ट में मरने वालों का आंकड़ा रविवार को बढ़कर 85 हो गया।• विपक्ष का गठबंधन नकारात्मकता और भ्रष्टाचार का है :पीएम मोदी• धोनी ने आलोचकों को दिया बल्ले से जमकर जवाब • रूसी विमान युद्धाभ्यास के दौरान जापान सागर पर आपस में टकराए • कंगना करणी सेना से नाराज बोली मैं भी राजपूत हूं बर्बाद कर दुंगी तुम्‍हें• मिशन 2019: चुनाव आयोग मार्च में कर सकता है। लोकसभा चुनाव का एलान • ममता की महारैली में विपक्ष का जमावड़ा, पहुंचे बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा• मेघालय, कोयला खदान से 35 दिनों के बाद 200 फीट की गहराई से निकला मजदूर का शव • भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को स्वाइन फ्लू, एम्स में चल रहा इलाज • रुपये में मजबूती शेयर बाजार 36 हजार के पार• World Bank के प्रमुख पद की दावेदार में इंद्रा नूई का नाम आगे • कर्नाटक में राजनीतिक उठा-पटक, कांग्रेस ने 18 को बुलाई विधायकों की बैठक• विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अध्यक्ष राम जन्मभूमि मार्गदर्शक मंडल के सदस्य विष्णु हरि डालमिया का निधन• भदोही में एक निजी स्कूल वैन में लगी आग, 19 बच्चे झुलसे• मथुरा के यमुना एक्सप्रेस वे पर, रफ्तार का कहर 3 की मौत• जहरीली शराब कांड का इनामी बदमाश कानपुर पुलिस की गिरफ्त में• गाजियाबाद में स्वाइन फ्लू की दस्तक, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट• प्रयागराज में हर्ष फायरिंग दौरान, एक को लगी गोली• पेट्रोल-डीजल के दामों ने फिर दिया झटका, क्या रहे आपके शहर के दाम• RRB ग्रुप डी आंसर की जारी 14 से 19 जनवरी तक दर्ज कराएं अपनी आपत्ति• सवर्णों को 10% आरक्षण बिल को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती• अयोध्या विवाद संवैधानिक बेंच से जस्टिस यूयू ललित हटे, 29 जनवरी को फिर से होगी सुनवाई• जम्मू-कश्मीर के आईएएस शाह फ़ैसल ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए इस्तीफ़ा देने का किया ऐलान I


बुलंदशहरः यहां देश के सबसे विशालतम शिवलिंगों में एक शिवलिंग है। इस शिवालय की ऊंचाई 70 फिट है। शिवभक्त शिवालय को द्वादश महालिंगेश्वर सिद्ध महापीठ के नाम से जानते हैं।

इस शिवालय की विशेषता यह है कि यहां 12 ज्योतिर्लिंगों से स्पर्श कराकर लाये गए 12 ज्योतिर्लिंगो की स्थापना की गई है ताकि शिवभक्तों को एक ही जगह सभी ज्योतिर्लिंग के दर्शन का लाभ मिल सके। देश के मुख्य मुख्य तीर्थ स्थलों, नदियों, समुद्रों से जल व मिट्टी लाकर इसके निर्माण में इस्तेमाल की गई है।

इस सिद्ध महापीठ का निर्माण विश्व ज्योतिष आचार्य मनजीत धर्मध्वज जी ने शिवप्रेरणा से कराया है। आचार्य मनजीतजी की मानें तो वो बचपन से ही हनुमान जी के भक्त रहे हैं और पिछले 25 वर्षों से साल से के नवरात्रों में मौन होकर गर्भ साधना करते आ रहे है।

साल 2009 में आचार्य जी को नवरात्रों में गर्भ साधना के दौरान स्वयं भगवान शंकर ने खुली आँखों से दर्शन दिए थे। स्वयं शिव दर्शन के बाद आचार्य जी ने शिव प्रेरणा से मैथनी ज्योतिष के अनुसार राष्ट्र हित के लिए 2009 में ही अक्षय तृतीया को इस शिवालय सिद्ध महापीठ की नींव रखी थी।

2009 से महालिंगेश्वर सिद्ध महापीठ का निर्माण कार्य शुरू होकर अप्रैल 2018 में अक्षय तृतीया को सिद्ध महापीठ में बारह ज्योतिर्लिंगों के साथ महालिंगेश्वर भगवान, मां पार्वती, भगवान कार्तिकेय एवं गणेश की साथ कालभैरव और वीरभद्र भगवान की प्राण प्रतिष्ठा की गई है।

भगवान महालिंगेश्वर की प्रसिद्धि दूर दूर तक शिवभक्तों में फैल चुकी है। प्रतिदिन असंख्य श्रद्धालु द्वादश महालिंगेश्वर सिध्महापीठ पर दर्शन करने आते है। प्रत्येक सोमवार के दिन महालिंगेश्वर भगवान का विभिन्न प्रकार से श्रृंगार किया जाता है।

सिध्महापीठ पर राष्ट्रहित के लिए विशेष तिथियों में अनुष्ठान और महाभिषेक किये जाते है। सर्पदोष की विशेष पूजा सिध्महापीठ पर रुद्राष्टाध्यायी के साथ महालिंगेश्वर का जलाभिषेक कराकर की जाती है।

 

संबंधित समाचार

:
:
: