Headline • कर्नाटक: सिद्धगंगा मठ के मठाधीश शिवकुमार स्वामी का 111 साल की उम्र में निधन• Amazon ग्रेट इंडियन सेल: तीन दिनों की शानदार डील• मेक्सिको ईंधन पाइपलाइन ब्लास्ट में मरने वालों का आंकड़ा रविवार को बढ़कर 85 हो गया।• विपक्ष का गठबंधन नकारात्मकता और भ्रष्टाचार का है :पीएम मोदी• धोनी ने आलोचकों को दिया बल्ले से जमकर जवाब • रूसी विमान युद्धाभ्यास के दौरान जापान सागर पर आपस में टकराए • कंगना करणी सेना से नाराज बोली मैं भी राजपूत हूं बर्बाद कर दुंगी तुम्‍हें• मिशन 2019: चुनाव आयोग मार्च में कर सकता है। लोकसभा चुनाव का एलान • ममता की महारैली में विपक्ष का जमावड़ा, पहुंचे बीजेपी सांसद शत्रुघ्न सिन्हा• मेघालय, कोयला खदान से 35 दिनों के बाद 200 फीट की गहराई से निकला मजदूर का शव • भाजपा अध्यक्ष अमित शाह को स्वाइन फ्लू, एम्स में चल रहा इलाज • रुपये में मजबूती शेयर बाजार 36 हजार के पार• World Bank के प्रमुख पद की दावेदार में इंद्रा नूई का नाम आगे • कर्नाटक में राजनीतिक उठा-पटक, कांग्रेस ने 18 को बुलाई विधायकों की बैठक• विश्व हिंदू परिषद के पूर्व अध्यक्ष राम जन्मभूमि मार्गदर्शक मंडल के सदस्य विष्णु हरि डालमिया का निधन• भदोही में एक निजी स्कूल वैन में लगी आग, 19 बच्चे झुलसे• मथुरा के यमुना एक्सप्रेस वे पर, रफ्तार का कहर 3 की मौत• जहरीली शराब कांड का इनामी बदमाश कानपुर पुलिस की गिरफ्त में• गाजियाबाद में स्वाइन फ्लू की दस्तक, स्वास्थ्य विभाग अलर्ट• प्रयागराज में हर्ष फायरिंग दौरान, एक को लगी गोली• पेट्रोल-डीजल के दामों ने फिर दिया झटका, क्या रहे आपके शहर के दाम• RRB ग्रुप डी आंसर की जारी 14 से 19 जनवरी तक दर्ज कराएं अपनी आपत्ति• सवर्णों को 10% आरक्षण बिल को सुप्रीम कोर्ट में चुनौती• अयोध्या विवाद संवैधानिक बेंच से जस्टिस यूयू ललित हटे, 29 जनवरी को फिर से होगी सुनवाई• जम्मू-कश्मीर के आईएएस शाह फ़ैसल ने अपने ट्विटर अकाउंट के जरिए इस्तीफ़ा देने का किया ऐलान I


ललितपुरः पीड़ित को न्याय दिलाने के लिए जहां वकील खुद बहस करके न्यायाधीश से न्याय मांगते हैं लेकिन आज ललितपुर की न्यायालय परिसर में कुछ उल्टा ही देखने को मिला। वकील स्वयं जज के विरोध में खड़े हो गए। 

मामला ललितपुर न्यायालय का है। बार एसोसिएशन के बैनर तले सभी वकील एकत्रित होकर एडीजे मनोज शुक्ला का विरोध प्रदर्शन कर रहे थे। सभी वकील एक साथ में एडीजे मनोज शुक्ला के विरोध में अभद्र नारे लगाते हुए उनके न्यायालय कक्ष तक पहुंचे और वहां नारेबाजी करते रहे एवं भीड़ में एकत्रित किसी ने उनके कक्ष तक चप्पल फेंक दी।   

सूचना पर पुलिस बल भी पहुंच गया जहां अधिवक्ताओं पुलिस की अभिवक्ताओं के साथ नोकझोक भी हुई।

मामला सीनियर अधिवक्ता जीवन धर लाल जैन को लेकर है। न्यायालय में बहस के दौरान जहां एडीजे ने  किसी बात को लेकर जैन को पुलिस कस्टडी में लेने के आदेश दिए।

जैन ने यह बात उन्होंने पत्र के माध्यम से बार एसोसिएशन को दी, जिससे सभी अधिवक्ताओं ने मीटिंग कर उनका विरोध शुरू कर दिया।

फिर एक साथ होकर जिला जज के चेंबर में पहुंचे जहां बातचीत के माध्यम से एवं इलाहाबाद हाईकोर्ट को इस प्रकार के मामलों की जानकारी देकर निर्णय लिए जाने की बात की गई।

वहीं अधिवक्ताओं ने एडीजे डकैती प्रभावित कोर्ट का बहिष्कार करते हुए कहा कि जब तक एडीजे मनोज शुक्ला का स्थानांतरण नहीं किया जाता या सस्पेंड नहीं किया जाता जब तक हम लोग एडीजे के न्यायालय में कोई भी केस नहीं लड़ेंगे। 

 

संबंधित समाचार

:
:
: