Headline • मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर• कर्नाटक संकट : बागी विधायक बोले इस्तीफे नहीं लेंगे वापस• 'अब बस' जाने क्या है मामला• सबाना के सपोर्ट में स्वरा• कर्नाटक का सियासी संग्राम जारी • भारत और न्यूजीलैंड का 54 ओवर का खेल आज• भारत बनाम न्यूजीलैंड• कर्नाटक संकट का असर राज्यसभा में• अहमदाबाद की अदालत  में राहुल गांधी• व्हाइट हाउस में भरा बारिश का पानी • क्या अनुपमा परमेसरन को डेट कर रहे जसप्रीत बुमराह


 

पुलवामा आतंकी हमले पर सर्वदलीय बैठक शनिवार को शुरू हो गई है। कश्मीर में होने वाले हालात का जायजा लेने के लिए गृह मंत्री राजनाथ सिंह द्वारा बुलाई गई बैठक में गुलाम नबी आजाद, आनंद शर्मा और कांग्रेस के ज्योतिरादित्य सिंधिया, सुदीप बंद्योदय और टीएमसी के डेरेक ओ ब्रायन शामिल हैं। शिवसेना के संजय राउत, टीआरएस के जितेंद्र रेड्डी, सीपीआई के डी। राजा, नेशनल कांफ्रेंस के फारूक अब्दुल्ला और लोजपा के रामविलास पासवान सहित अन्य शामिल हैं।

गृह मंत्रालय के एक अधिकारी ने कहा कि पुलवामा में हमले और सरकार द्वारा अब तक उठाए जा रहे कदमों के बारे में पार्टियों को जानकारी दी जाएगी। जम्मू-कश्मीर में सुरक्षाबलों पर हुए सबसे बड़े आतंकी हमलों में से 40 CRPF के जवान शहीद हो गए। पाकिस्तान स्थित आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद ने इसके लिए जिम्मेदारी का दावा किया है।

राजनीतिक दलों ने हमले के बाद इस मामले पर अपनी प्रतिक्रिया पर एनडीए सरकार को अपना समर्थन देने की पेशकश की है। प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी ने मजबूती से इस बात की और जोर दिया कि इसके पीछे के लोगों को दंडित किया जाएगा और सरकार ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय के भीतर पाकिस्तान को अलग-थलग करने के लिए एक राजनयिक आक्रमण शुरू किया है।

संबंधित समाचार

:
:
: