Headline • मसूद अजहर मौत के दरवाजे पर • सुनैना रोशन के ब्वॉयफ्रेंड रुहेल ने रोशन परिवार पर लगाया आरोप • माइकल क्लार्क ने बुमराह और कोहली के बारे में कहा• हफ्ते भर की देरी के बाद मानसून अब  देगा दस्तक  •  राम रहीम ने की पैरोल मांग• रणबीर कपूर और आलिया के रिश्ते पर लग सकती है मुहर • रूस अमेरिका से रिश्ते मधुर करने में जुटा • यूपी के 15 शहरों के लिए राष्ट्रीय हरित अधिकरण (NGT) की चेतावनी • मायावती का अखिलेश पर बड़ा आरोप, अखिलेश के कारण हुई हार• चेन्नई की प्यास बुझाने के लिए चलाई गई स्पेशल ट्रेन• भारत की निगाह बड़ी जीत पर, अफगानिस्तान के खिलाफ विश्व कप में पहली बार भारत• बिहार में मानसून पहुंचने से लोगो ने ली राहत की सांस • एक बार फिर सदन में तीन तलाक के मुद्दे पर तीखी बहस • विश्व कप में अंतिम चार के लिए अपनी दावेदारी मजबूत करने उतरेगा भारत • संकट में कुमारस्वामी की सरकार, एचडी देवगौड़ा ने मध्यावधि चुनाव की आशंका जताई• अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर प्रधानमंत्री नरेंन्द मोदी का दुनिया को सन्देश। • गौतम गंम्भीर ने साझा किए इमोशनल मैसेज • अंतरराष्ट्रीय योग दिवस पर पीएम मोदी  रांची  में करेगें योग • भारत को आतंक का नया ठिकाना बनाने की फिराख में है ISIS के आतंकी• अमेरिका के इस कदम से, कामकाजी भारतीयों को होगी परेशानी• चुनाव के बाद तेजस्वी कहाँ गायब हो गये है।• 14 साल बाद आया अय़ोध्या आतंकियों पर अदालत का फैसला • फिल्म ‘आर्टिकल 15’ विवादों में घिरती नजर आ रही है • अमरीका और ईरान का खाड़ी में तनाव गहराया • 'एक देश एक चुनाव' से विपक्ष क्यों नाराज


 

केरल ने सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश पर प्रतिबंध लगाने के उच्चतम न्यायालय के फैसले का विरोध किया है। भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पांच-न्यायाधीशों की संविधान पीठ 28 सितंबर, 2018 के फैसले की याचिका पर सुनवाई कर रही है। पीठ में जस्टिस आर एफ नरीमन, ए एम खानविलकर, डी वाई चंद्रचूड़ और इंदु मल्होत्रा ​​भी शामिल हैं। मूल रूप से याचिकाओं पर 22 जनवरी को सुनवाई होनी थी। लेकिन न्यायमूर्ति मल्होत्रा ​​मेडिकल अवकाश पर होने से सुनवाई नहीं हो सकी थी।

पिछले साल 28 सितंबर को शीर्ष अदालत के फैसले ने पूरे केरल में विरोध की लहर पैदा कर दी थी, और चार दर्जन से अधिक याचिकाएं दायर की गई थीं। इस बीच सबरीमाला मंदिर के प्रमुख पुजारी के खिलाफ अवमानना कार्यवाई की याचिका दायर की गई थी। जिसमें आरोप लगाया गया था कि उन्होंने कुछ महिलाओं द्वारा मंदिर का दौरा करने के बाद परिसर की सफाई करने का आदेश दिया था। सोमवार को केरल सरकार ने माना कि शीर्ष अदालत के फैसले के बाद 10 और 50 वर्ष की आयु के बीच की सिर्फ दो महिलाओं ने धर्मस्थल में प्रवेश किया है।

संबंधित समाचार

:
:
: