Headline • पाकिस्तान के पूर्व प्रधानमंत्री शाहिद खाकान अब्बासी गिरफ्तार • 90 बीघे जमीन के लिए चली अंधाधुंध गोलियां, बिछ गई लाशें• धौनी के माता-पिता भी चाहते है कि वो अब क्रिकेट से संन्यास ले• चंद्रयान-2 की आयी डेट; 22 जुलाई को होगा लॅान्च • कुलभूषण जाधव केस : 1 रुपये वाले साल्वे ने पाकिस्तान के 20 करोडं रुपये वाले वकील को दी मात • कांग्रेस को नहीं मिल पा रहा नया अध्यक्ष , किसी भी नाम को लेकर सहमति नहीं• पाकिस्तान में मुंबई हमले का मास्टर माइंड हाफिज सईद गिरफतार • सावन मास के साथ शुरू हुई कांवड़ यात्रा• एपल भारत में जल्द शुरू करेगी i-phone की मैन्युफैक्चरिंग, सस्ते हो सकते हैं आईफोन• डोंगरी में इमारत गिरने से अबतक 16 लोगो की मौत, 40 से ज्यादा लोगो के मलबे में दबे होने की आशंका : दूसरे दिन भी रेस्क्यू जारी• मुंबई के डोंगरी में 4 मंजिला इमारत गिरी; 2 की मौत, 50 से ज्यादा लोगो के मलबे में फसे होने की आशंका• IAS टोपर को किया ट्रोल, मिला करारा जवाब • देर रात देखिये चंद्रग्रहण का नजारा, लाल नज़र आएगा चाँद • बालाकोट एयर स्ट्राइक के बाद पाकिस्तान ने भारत के लिए खोले बंद हवाई क्षेत्र ।• महिला सांसदों पर किये गए टिपण्णी से घिरे अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प• सुप्रीम कोर्ट ने की आसाराम की जमानत याचिका खारिज • धोनी को संन्यास देने की तयारी में है चयनकर्ता, बहुत जल्द कर सकते है फैसला • तकनीकी कारणों की वजह से 56 मिनट पहले रोकी गयी चंद्रयान-2 की लॉन्चिंग, इसरो ने कहा - जल्द नई तरीक करेंगे तय • भविष्य के टकराव ज्यादा घातक और कल्पना से परे होंगे : सेना प्रमुख जनरल विपिन रावत • इसरो के चेयरमैन ने बताई चंद्रयान-2 मिशन के लांच होने की तरीक, चाँद पर पहुंचने में लगेगा 2 महीने का समय • झाऱखंड के स्वास्थ मंत्री रामचंद्र चंद्रवंशी का रिशवत लेते वीडीयो वायरल, पुलिस ने की FIR दर्ज • राफेल भारत के लिए रणनीतिक तौर पर बेहद अहम साबित होगी : एयर मार्शल भदौरिया• उत्तराखंड : विधायक प्रणव सिंह चैंपियन BJP से बहार • चारा घोटाला मामले में लालू को मिली जमानत• आइटी पेशेवरों के लिए अमेरिका से अच्छी खबर


इलाहाबादः यहां खुल्दाबाद स्थित राजकीय बाल गृह शिशु में बीते 47 दिनों में सात बच्चों की मौतों ने प्रशासन पर कई गम्भीर सवाल खड़े कर दिये हैं। इनमें से ज्यादातर बच्चे लावारिस हालत में मिले थे और मजिस्ट्रेट या फिर सीडब्लूसी यानि बाल कल्याण समिति के निर्देश पर राजकीय बाल गृह में रखा गया था।

जिन सात बच्चों की मौत बीते 47 दिनों में हुई है, उनमें 6 बालिकाएं और एक बालक शामिल हैं। हालांकि मासूम बच्चों की लगातार हो रही मौतों का मामला सुर्खियों में आने के बाद प्रशासन बचाव की मुद्रा में आ गया है। प्रशासन का कहना है कि बाल गृह में हो रही बच्चों की मौतें ज्यादातर गम्भीर रोगों की वजह से हुई हैं।

प्रशासन की दलील है कि बाल गृह में आने वाले ज्यादातर बच्चे कमजोर और संक्रमित होते हैं। जिलाधिकारी ने मामले का संज्ञान लेते हुए जिला विकास अधिकारी और जिला प्रोबेशन अधिकारी को जांच सौंप दी है। जिसके बाद आज जांच रिपोर्ट दोनों ही अधिकारियों ने डीएम को सौंप दी है।

जिला प्रोबेशन अधिकारी नीलेश मिश्र के मुताबिक जांच में उन्हें ऐसी कोई गम्भीर खामियां नहीं मिली हैं। उनके मुताबिक मरने वाले बच्चों में ज्यादातर बच्चों की उम्र एक या दो दिन से लेकर छह माह के लगभग रही है। 

गौरतलब है कि इलाहाबाद के खुल्दाबाद में महिला कल्याण विभाग द्वारा राजकीय बाल गृह शिशु और राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाई संचालित है। जिला प्रोबेशन अधिकारी के मुताबिक राजकीय बाल गृह शिशु की क्षमता जहां 50 बच्चों की है। वहीं मौजूदा समय में राजकीय बाल गृह शिशु में 11 बच्चे हैं।

जबकि राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाई की क्षमता दस बच्चों को रखने की है। लेकिन उसमें क्षमता से अधिक 32 बच्चे रखे गए हैं। हालांकि जुलाई के महीने में राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाई में बच्चों की संख्या बढ़कर 56 हो गयी थी।

जिसके बाद जिला प्रोबेशन अधिकारी ने निदेशक से अनुरोध कर बीस बच्चों को दूसरे राजकीय दत्तक ग्रहण ईकाईयों में ट्रांसफर करने की कार्रवाई की है। 

संबंधित समाचार

:
:
: