Headline • विहिप की घोषणा, आम चुनाव से पहले ही होगा संतों की धर्म संसद का आयोजन, हिन्दू समाज को एकजुट रखने पर जोर• हाई री माई! आम्रपाली से शादी के बाद निरहुआ चलल ससुराल• स्वच्छता में कई पायदान की छलांग लगाई इलाहाबाद जंक्शन ने, कुंभ के दौरान मिलेगा फायदा• सुजैन ने सोनाली को लेकर लिखी इमोशनल पोस्ट, कितने भी तूफान आए लेकिन किनारे पर पहुंचना है• देवबंद के उलेमाओ का ऐलान, राष्ट्रीय गान से परहेज नहीं लेकिन कोई मुसलमान भारत माता की जय नहीं बोलेगा• Independence Day Special:  बदायूं के रुकुम सिंह ने छुड़ा दिए थे अंग्रेजों के छक्के, बेटा और बेटी से करवाया था रेलवे रेलवे ट्रैक पर विस्फोट• बाहुबली अतीक अहमद की 5 अवैध कॉलोनियों पर चला योगी का बुल्डोजर• कोर्ट परिसर में कुख्यात उधम सिंह का ऐलान, सुशील मूंछ को नहीं छोड़ूंगा, कत्ल करके लूंगा राणा की मौत का बदला• श्रीदेवी की फिल्मों की स्क्रीनिंग पर भावुक हुए बोनी, नहीं रूके बेटियों के आंसू• घायल हालत में गाय मिलने से गाजियाबाद के कनावनी इलाके में तनाव, स्थानीय लोगों और पुलिस के बीच नोकझोंक• हिमाचल और उत्तराखंड में हो रही बारिश का कहर सहारनपुर में, भारी नुकसान, विधायक ने लिया जायजा• राहुल गांधी के संसदीय क्षेत्र अमेठी के फ्लाईओवर का ये हाल, शिवपाल ने किया था उद्घाटन• तीज पर घुमाने के बहाने बेटी को शुक्रताल ले गया, फिर खिला दी सल्फास की गोलियां, खेल रहे बच्चों ने दी सूचना, फिर...• सरहद की रक्षा करते ब्रज का एक और लाल हुआ शहीद, यूपी सरकार देगी 25 लाख रु. की आर्थिक सहायता• लंदन : यूके पार्लियामेंट के बैरियर से टकराई तेज रफ्तार कार, कई घायल, ड्राईवर गिरफ्तार• योगी सरकार की पहल, रक्षाबंधन और करवा चौथ पर घर की महिला को दीजिए इज्जत घर और सरकार की ओर से पाइए सम्मान• Independence Day Special: सरबजीत जैसा मामला सामने आया हापुड़ में, पत्नी का दावा फौजी पति है पाकिस्तान की जेल में बंद• पतंग के धागे में राष्ट्रीय गान लिखकर अपनी प्रतिभा दिखाई, जमकर हो रही है तारीफ• स्वतंत्रता दिवस पर विशेषः खूब लड़ी मर्दानी वह तो झांसी वाली रानी थी, जानें कैसे ली थी लक्ष्मीबाई ने अंग्रेजों से टक्कर• भारतीय सेना ने लिया शहीद की शहादत का बदला, मार गिराए दो पाकिस्तानी सैनिक• साथियों की गिरफ्तारी की खबर सुनते ही अदालत पहुंचे आजम खान, बीजेपी पर साधा निशाना• दलित को नहीं मिली सरकारी सुविधाएं, न राशन कार्ड न रसोई गैस, अब सरकार से मांगी इच्छा मृत्यु• इस दिन इटली में होगी दीपिका और रणवीर की शादी, डेट हुई कंफर्म• मुस्लिम शख्स को कांवड़ लाना पड़ा भारी,मस्जिद में नहीं पढ़ने दी गई नमाज,दी हुक्का-पानी बंद करने की धमकी• बांदा : लूट के बाद बदमाशों ने बैंक के कैशियर को मारी गोली, इलाज के दौरान तोड़ा दम


लखनऊ. बसपा सुप्रीमो मायावती ने वाराणसी फ्लाईओवर हादसा पर दुख व्यक्त किया है और दोषियों को कड़ी से कड़ी सजा देने की मांग की है। उन्होंने कहा यह मामला बेहद गंभीर है और इस मामले को सरकार को हल्केपन से नहीं लेना चाहिये।

मायावती ने कहा  कि इस घटना की तुरंत ही उच्च-स्तरीय जांच कराकर दोषियों को कड़ी-से-कड़ी सजा देने व दिलाना भी सुनिश्चित करना चाहिए। ताकि ऐसी दर्दनाक घटनाओं को दोबारा होने से रोका जा सके। घोर आपराधिक लापरवाही आदि के ऐसे संगीन मामलों में बीजेपी के शीर्ष नेताओं द्वारा सस्ती मानसिकता दिखाकर केवल ‘मन पर बोझ’ बता देने से जिम्मेदारी से मुक्ति पा लेने का प्रयास सही नहीं है। बल्कि इसके लिए कुछ ठोस सुधारात्मक कार्रवाई व उपाय भी करने की सख्त जरूरत है।

मायावती ने कहा कि अक्सर यही देखा गया है कि सरकार पीडि़त परिवारों और घायलों आदि को अनुग्रह राशि आदि देकर अपने आपको जिम्मेदारी से मुक्त समझ लेती है। जबकि इसके साथ-साथ सरकार का असली कर्तव्य है कि वह दोषियों की पहचान करके सजा सुनिश्चित करें ताकि घटनाओं की पुनरावृत्ति ना हो।

 

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि ऐसा नहीं होने के कारण ही प्रदेश में एक-के-बाद-एक लगातार गम्भीर आपराधिक घटनायें होती चली जा रही हैं। वास्तव में यही बुरा व गै़र-जिम्मेदारी का हाल अपराध नियन्त्रण व कानून-व्यवस्था के मामले में भी प्रदेश बीजेपी सरकार का बना हुआ है। जिस कारण प्रदेश में जमीनी स्तर पर हर तरफ हिंसा, अराजकता व जंगलराज जैसे माहौल है। केवल बीजेपी के मंत्री व इनके नेताओं के बयानों में ही लोगों को हसीन सपने दिखाये जाने के प्रयास किये जाते हैं।

 

मायावती ने कहा कि अपराध नियन्त्रण व कानून-व्यवस्था के साथ- साथ खासकर दलितों व पिछड़ों के विरुद्ध जातिगत द्वेष, हिंसा व अन्याय-अत्याचार के मामले भी उत्तर प्रदेश में रुकने का नाम ही नहीं ले रहे हैं। इतना ही नहीं बल्कि ऐसे मामलो में अपराधियों को खुलेआम पुलिस व सरकारी संरक्षण मिलने के कारण स्थिति अत्यन्त ही गम्भीर बनती जा रही है।

बसपा सुप्रीमो ने कहा कि इसी क्रम में कल गोरखपुर में घटी घटनाओं का संज्ञान लेते हुये उन्होंने कहा कि प्रदेश बीजेपी सरकार अपनी निष्पक्षता को त्यागकर दलितों के खिलाफ इन्साफ का गला घोंट कर अपराधियों का साथ देने से मामला काफी तूल पकड़ गया। ना केवल अन्याय-अत्याचार बल्कि दलित हत्या के मामले में भी बीजेपी सरकार का ऐसा जातिगत घिनौना रवैया इनकी दलित व पिछड़ा वर्ग-विरोधी चाल, चरित्र व चेहरे को पूरी तरह से बेनकाब करता है।

 

दलितों के घर खाना-खाने को बताया नाटकबाजी

-उन्होंने कहा कि  यह साबित करता है कि बाबा साहेब डा. भीमराव अम्बेडकर के अनुयाइयों के प्रति इनका असली व्यवहार कितना ज्यादा अमानवीय व नाइन्साफी का अभी तक बना हुआ है। इस प्रकार इनके वोट की खातिर दलितों के घर खाना खाने आदि की नाटकबाजी इनका केवल राजनीतिक स्वार्थ के अलावा कुछ भी नहीं हैं। इनकी मानसिकता सदियों की तरह आज भी काफी ज़हरीली बनी हुई है जो अति-निन्दनीय है। इसके साथ ही बीएसपी प्रमुख ने गोरखपुर की घटना के सबंध में, दोषियों को कड़ी सजा देने की भी सरकार से मांग की है। 

संबंधित समाचार

फ़टाफ़ट खबरे

 

live-tv-uttrakhand

live-tv-rajasthan

ब्लॉग

लीडर

  • उमेश कुमार

    एडिटर-इन-चीफ,समाचार प्लस

    उमेश कुमार समाचार प्लस के एडिटर इन चीफ हैं।

  • प्रवीण साहनी

    एक्जक्यूटिव एडिटर

    प्रवीण साहनी पत्रकारिता जगत का जाना-माना नाम और चेहर...

आपका शहर आपकी खबर

वीडियो

हमारे एंकर्स

शो

:
:
: